• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Life is coming in the industry, State Bank of India has disbursed loans of 250 crores, approved loans of 1000 crores: Ashutosh

भास्कर नॉलेज सीरीज / इंडस्ट्री में आ रही है जान, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने बांटे 250 करोड़ के लोन, 1000 करोड़ रुपए के लोन को दे चुके हैं मंजूरी:आशुतोष

Life is coming in the industry, State Bank of India has disbursed loans of 250 crores, approved loans of 1000 crores: Ashutosh
X
Life is coming in the industry, State Bank of India has disbursed loans of 250 crores, approved loans of 1000 crores: Ashutosh

  • बीते एक साल में लोन दरों में 1.25 से 1.50 फीसदी तक की कमी आ चुकी है

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:21 AM IST

चंडीगढ़. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के माइक्रो, स्माॅल एंड मीडियम इंटरप्राइजिज की मदद के लिए कदम बढ़ा चुका है। बैंक ने अपने 26 हजार एमएसएमई ग्राहकों के लिए वर्किंग क्रेडिट लिमिट और कैपिटल लोन्स में 10 फीसदी की बढ़ोतरी को अपने स्तर पर ही लागू कर दिया है।

ये कहना है राणा आशुतोष कुमार सिंह, डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का। वे दैनिक भास्कर की नॉलेज सीरीज में वेबिनार के जरिए इंडस्ट्रियलिस्ट के सवालों का जवाब दे रहे थे। वेबिनार में यू ट्यूब और जूम एप से 557 इंडस्ट्रियलिस्ट शामिल हुए। राणा आशुतोष ने बताया कि बीते कुछ सप्ताह में बैंक करीब 15 हजार कंपनियों के लोन आवेदन प्रोसेस कर चुका है। एक हजार करोड़ रुपए से अधिक के लोन सेंक्शन हो चुके हैं और करीब 250 करोड़ रुपए के फंड्स जारी भी किए जा चुके हैं।

बैंक ने ये काम कोविड लॉकडाउन शुरू होने के बाद अपने स्तर पर ही कर दिए थे। अब सरकार ने फाइनेंशियल पैकेज दिया है तो हमारे लिए और भी आसानी हो गई है। सरकार की गारंटी के साथ काफी फंड्स मिल गए हैं, अब एमएसएमई से लेकर अन्य इंडस्ट्रीज के लिए फंड्स की कोई कमी नहीं रहेगी। जून में हम एमएसएमई फाइनेंसिंग का पूरा स्ट्रक्चर बदल रहे हैं। नए अधिकारियों को नियुक्त किया जा रहा है जो एमएसएमई के लिए लोन प्रोसेस को आसान कर देंगे। काफी कुछ प्रोसेस हम अपने स्तर पर ही कर रहे हैं।

हमारे ग्राहकों को ब्रांच स्तर पर अधिक प्रयास नहीं करने पड़ेंगे। लोन दरों को आरबीआई की गाइडलाइंस के अनुसार तय किया जाता है। बीते एक साल में इंडस्ट्री के लिए भी लोन दरों में 1.25 से 1.50 फीसदी तक की कमी आ चुकी है। वैसे ही बीते साल हमारा एमसीएलआर 8.5% था, जो अब 7.25% है। 1.25 फीसदी की कमी तो अपने आप ही हो गई है।
इंडस्ट्री में डिमांड बढ़ने पर कई समस्याएं हल होंगी
कोरोना की वजह से पिछले दो महीने से लगे हुए लॉकडाउन की वजह से पूरी इंडस्ट्री और रिटेल सेक्टर दबाव में है। सब कुछ बंद पड़ा था। उत्पादन पूरी तरह ठप था। बैंक भी इस बात को समझता है। लॉकडाउन में छूट के बाद हालात सुधर रहे हैं और डिमांड भी आ रही है। ऐसे में आने वाले दिनों में उत्पादन बढ़ेगा तो वर्किंग कैपिटल की समस्या भी कुछ कम होगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना