पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Mahapanchayat Convened Today Against Agricultural Laws In Chandigarh, Ugraha Said Government Wants To Break The Farmer Movement

अपने हक की लड़ाई:महापंचायत में किसान नेता चढूनी बोले- दिल्ली पुलिस ने 1700 नोटिस भेजे हैं, किसी को डरने की जरूरत नहीं; उनका केस यूनियन की ओर से लड़ा जाएगा

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ महापंचायत में पहुंचे किसान नेताओं ने किसानों को संबोधित किया। फोटो लखवंत सिंह - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ महापंचायत में पहुंचे किसान नेताओं ने किसानों को संबोधित किया। फोटो लखवंत सिंह
  • किसान नेता उग्राहा बोले-शाह का कहना है चाहे कानून में सब कुछ संशोधित करवा लो लेकिन वापस के लिए मत कहाे।

शहर में आज सेक्टर-25 के रैली ग्राउंड में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया। इस महापंचायत में बड़ी संख्या में आसपास के गांवों और शहरों से लोग पहुंचे और मोदी सरकार विरोधी नारे लगाए। महापंचायत में हरियाणा के किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी) के प्रधान गुरनाम सिंह चढ़ूनी, जोगिंदर सिंह उग्राहा और रूलदु राम मानसा सहित कई नेता पहुंचे और अपने विचार रखे।

दिल्ली पुलिस ने नोटिस भेजा है

हरियाणा के किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी) के प्रधान गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने अपने रौबदार आवाज में चंडीगढ़वासियों और किसान-मजदूरों का धन्यवाद करते हुए कहा कि पहले दिन से संघर्ष में साथ दे रहे हैं। चढूनी ने कहा कि दिल्ली पुलिस की ओर से 1700 लोगों को नोटिस भेजे गए हैं। उन्होंने किसानों और मजदूरों को कहा कि उन्हें डरने की जरूरत नहीं है, उनका केस यूनियन की ओर से लड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर किसी को दिल्ली पुलिस का नोटिस आता है तो किसी को वहां जाने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि दिल्ली से अगर पुलिस उनके गांव में आती है तो पूरा गांव उन्हें घेर कर वहां रखे और प्यार से उन्हें खाना खिलाए और प्रशासन को सूचित करें कि आपके आदमियों को हमने यहां रखा है।

मोदी के दोस्त रामदेव का सामान न खरीदें

चढूनी ने कहा कि मोदी के दोस्त रामदेव के किसी भी प्रोडक्ट वे न खरीदें। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जहां पूरे देश और लोगों की आमदनी जीरो हो गई थी। वहीं इस काल में अंबानी,अडाणी और रामदेव का कारोबार काफी बढ़ा है।

सरकार आंदोलन को खत्म करना चाहती: जोगिंदर सिंह उग्राहा

महापंचायत में हिस्सा लेने पहुंचे किसान नेता जोगिंदर सिंह उग्राहा ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि किसान आंदोलन को सरकार तोड़ना चाह रही है। उग्राहा ने कहा कि सरकार ने इस किसान आंदोलन को कई तरह से तोड़ने का प्रयास किया और कभी आतंकवादी तो कभी नक्सलवादी कहा है लेकिन किसान यूनियन इन सबसे झुकी नहीं है और अपना संघर्ष जारी रखे हुए हैं। उग्राहा ने कहा कि अब तो यह भी सुनने को मिल रहा है कि सरकार यह भी कहने लगी है कि इन कृषि कानूनों को जब तक बीजेपी सरकार है तब तक होल्ड करवा लो। उन्होंने कहा कि सरकार को अंबानी और अडानी कॉरपोरेट घरानों की ओर से घेरा हुआ है। अब सरकार अगर कानून वापस लेती है तो कॉरपोरेट घराने जीने नहीं देंगे और अगर नहीं लेती है तो देश के लोग सरकार का जीना हराम कर देंगे।

हर तरह के लोगों के लिए संघर्ष

उग्राहा ने कहा कि किसानों की ओर से किया जा रहा संघर्ष केवल उनका नहीं है बल्कि यह सभी का भी संघर्ष है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का मंत्री कहता है कि इस कृषि कानून में कुछ काला नहीं है लेकिन उन्होंने कभी यह नहीं बताया कि इसमें सफेद भी क्या है। उग्राहा ने कहा कि किसान मोर्चे के दौरान सरकारों की ओर से डराया-धमकाया जाता है और कभी लालच भी दिया जाता है लेकिन किसान यूनियन इन सब की परवाह किए बगैर अपने संघर्ष को लेकर खड़ी है।

पुलिस का बंदोबस्त

महापंचायत को लेकर चंडीगढ़ पुलिस की ओर से कई स्थानों पर एहतियात के तौर पर बैरिकेड लगाए गए हैं। रैली ग्राउंड में आने वाले रास्ते पर पुलिस को तैनात किया गया। रैली ग्राउंड के आसपास पुलिस को लगाया गया।