पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महामारी में महापाप:मायो अस्पताल ने 1800 का इंजेक्शन 40 हजार में लगाया, हुआ मामला दर्ज

चंडीगढ़19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 100 मरीजों से ओवरचार्जिंग और 83 रेमडेसिविर इंजेक्शन को महंगे दामों पर बेचने को लेकर केस दर्ज

ओवरचार्जिंग के मामले में मोहाली जिले में डीसी की तरफ से बनाई गई कमेटी की रिपोर्ट मिलने के बाद सेक्टर-69 स्थित मायो हॉस्पिटल प्रबंधन के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है। एसडीएम जगदीप सहगल की अगुवाई के डीएसपी सिटी 2 दीप कमल, मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर विजय भगत और ड्रग इंस्पेक्टर जय सिंह ने इस मामले में जांच कर रिपोर्ट सौंपी थी।

इसमें पाया गया है कि अस्पताल प्रबंधन ने सरकार से मिलने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन 1800 में लिए और इन्हें आगे 40,000 में बेचा। इसके अलावा प्रबंधन के खिलाफ बहुत से लोगों ने ओवरचार्जिंग की शिकायत भी दी थी, जो सही पाई गई हैं। यह रिपोर्ट जांच कमेटी ने डीसी गिरीश दयालन को सौंपी है, जिस पर डीसी ने एसएसपी सत्येंद्र सिंह को अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ केस दर्ज करने के निर्देश दिए।

फेज-8 पुलिस स्टेशन में अस्पताल के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर और 8 डायरेक्टर कम डॉक्टर्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 188,269 ,270 डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। डीएसपी सिटी 2 दीप कमल ने बताया कि चार मेंबरी कमेटी ने जांच की थी। डीसी ऑफिस को शिकायत मिली थी कि मायो अस्पताल में जो रेमडेसिविर इंजेक्शन सरकार की तरफ से दिया गया है, वह एडमिट पेशेंट को 40000 में लगाया गया है। 83 ऐसे इंजेक्शन बेचे गए हैं। यह सब पैसा अस्पताल में कोविड-19 इलाज करवाने आए पेशेंट से वसूला गया है। कुल इंजेक्शन जिसकी कीमत 1,49,400 थी, उसे प्रबंधन ने आगे पेशेंट को करीब 25,2000 में बेचा।

100 मरीजों से ओवरचार्जिंग की शिकायत सही पाई गई...

कमेटी को शिकायत मिली थी कि यहां पर एडमिट 100 मरीजों से ओवरचार्जिंग की गई है। कमेटी ने जब इन शिकायतों की जांच की तो इन्हें सही पाया। डीएसपी दीप कमल ने बताया कि कमेटी सदस्यों ने ड्रग इंस्पेक्टर जय सिंह और मेडिकल ऑफिसर डॉ विजय भगत की सहायता से मरीजों के बिल चेक किए। इसमें पाया गया कि सरकार की ओर से तय रेट से रोज ज्यादा पैसे लिए जा रहे थे। इसके अलावा सभी चीजों के एक्स्ट्रा चार्ज जोड़े जा रहे थे।

खबरें और भी हैं...