• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Navjot Sidhu's Difficulties May Increase, Haryana's Advocate General Will Hear The Contempt Petition Today, If Approved, Report Will Be Sent To HC

ड्रग्स केस में ट्वीट पर सिद्धू की मुश्किलें बढ़ी:हरियाणा के AG ने कंटेप्ट पिटीशन पर वकील से जानकारियां मांगी; 25 नवंबर को फिर सुनवाई

चंडीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नवजोत सिद्धू - Dainik Bhaskar
नवजोत सिद्धू

6 हजार करोड़ के ड्रग्स केस में उत्साह दिखाने वाले पंजाब कांग्रेस चीफ नवजोत सिद्धू की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उनके खिलाफ कंटेप्ट पिटीशन पर हरियाणा के एडवोकेट जनरल बलदेव राज महाजन ने आज सुनवाई की। जिसके बाद उन्होंने पिटीशन देने वाले वकील परमप्रीत सिंह बाजवा से और जानकारियां मांगी हैं। मामले की अगली सुनवाई 25 नवंबर को होगी।

एडवोकेट बाजवा ने कहा कि हमने एडवोकेट जनरल के आगे इस बारे में दलीलें रख दी हैं। सिद्धू राजनीतिक फायदे के लिए कोर्ट को बदनाम कर रहे हैं। सिद्धू कह रहे हैं कि जजों ने ढ़ाई साल में कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की जजमेंट में भी आब्जर्व किया है कि इन बातों का जज पर भी असर पड़ता है। आखिर वह भी इंसान हैं। उन्होंने कहा कि सिद्धू न केवल कोर्ट के काम में दखल दे रहे हैं, बल्कि डायरेक्शन दे रहे हैं।

कंटेप्ट पिटीशन की जानकारी देते एडवोकेट परमप्रीत बाजवा।
कंटेप्ट पिटीशन की जानकारी देते एडवोकेट परमप्रीत बाजवा।

एडवोकेट ने उठाए सवाल, सिद्धू को रिपोर्ट के बारे में कैसे पता?

एडवोकेट बाजवा ने कहा कि सिद्धू कहते हैं कि उन्हें पता है कि रिपोर्ट में किस नेता का नाम है। उन्होंने कहा कि पंजाब स्पेशल टास्क फोर्स (STF) की यह रिपोर्ट हाईकोर्ट में सीलबंद पड़ी है। ऐसे में सिद्धू ऐसा कैसे कह सकते हैं। क्या उनके पास पहले ही रिपोर्ट की कॉपी है? सिद्धू कहते हैं कि आज रिपोर्ट सार्वजनिक हो जाएगी। कोर्ट के फैसले से पहले इस तरह की टिप्पणी करना गरिमा गिराने वाला काम है।

सिद्धू के सुनवाई से पहले किए इस तरह के ट्वीट पिटीशन में लगाए गए हैं
सिद्धू के सुनवाई से पहले किए इस तरह के ट्वीट पिटीशन में लगाए गए हैं

हरियाणा भी ड्रग्स केस में पार्टी

एडवोकेट बाजवा ने कहा कि इस ड्रग्स केस में हरियाणा भी पार्टी है। वह पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से जुड़े हैं। ऐसे में सिद्धू के इन बयानों से केस में दखलअंदाजी हो रही है। इसी वजह से उन्होंने याचिका दायर की है। एडवोकेट जनरल इसकी रिपोर्ट बनाकर हाईकोर्ट को भेजेंगे। वहां भी अगर माना गया कि इससे कोर्ट की मानहानि हुई तो इस मामले में आगे की कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...