• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Navjot Singh Sidhu Punjab Model; Special Economic Zones Will Be Formed In Mohali, Jalandhar And Amritsar

सिद्धू का पंजाब मॉडल:मोहाली, जालंधर-अमृतसर में स्पेशल इकॉनमिक जोन; क्लस्टर बेस्ड डेवलपमेंट होगी; मोहाली को नॉर्थ इंडिया का सिलीकॉन वैली बनाएंगे

चंडीगढ़5 महीने पहले
पत्रकारों से बात करते नवजोत सिद्धू। - Dainik Bhaskar
पत्रकारों से बात करते नवजोत सिद्धू।

पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू ने कहा कि कांग्रेस सरकार सत्ता में आई तो मोहाली, जालंधर और अमृतसर में स्पेशल इकॉनमिक जोन (SEZ) बनेगा। केंद्र सरकार से इसकी मांग की जाएंगी। उन्होंने कहा कि पंजाब में क्लस्टर बेस्ड डेवलपमेंट होगी। जिसमें युवा नौकरी मांगेगा नहीं बल्कि दूसरों को देगा।

शनिवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बात करते हुए सिद्धू ने कहा कि क्लस्टर बेस्ड मॉडल में एक जगह पर एक जैसा कारोबार होगा। जहां कंपनी या युवा काम करेंगे। मोहाली को पंजाब का फ्यूचर बनाएंगे। यहां भी हैदराबाद और बैंगलोर जैसे IT हब और स्टार्टअप्स बनाएंगे। मोहाली को नॉर्थ इंडिया का सिलिकॉन वैली बनाएंगे।

प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान नवजोत सिद्धू
प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान नवजोत सिद्धू

पढ़िए .. किस शहर को कौन सा हब बनाएंगे

लुधियाना : इलेक्ट्रिकल व्हीकल का हब बनाएंगे। यहां सेमी कंडक्टर बिजनेस होगा। बैटरी इंडस्ट्री लाएंगे। इलेक्ट्रिकल स्कूटी कॉलेज जाने वाली छात्राओं को देंगे। हैंडलूम एंड गारमेंट, ऑटो, टूल्स एंड स्पेयर पार्ट्स पॉलिसी लेकर आएंगे। लुधियाना को कांग्रेस सरकार नंबर वन पर खड़ा करेगी।

कपूरथला और बटाला बड़ी इंडस्ट्री थी, जो अब खत्म हो गई है। इसे दोबारा खड़ा करेंगे। पटियाला में फुलकारी क्लस्टर बनेगा।

गोबिंदगढ़ : स्टील इंडस्ट्री ऑटोमेटिव रिलेटेड क्लस्टर बनाएंगे, ऑटोमोटिव के पार्ट्स बनेंगे।

जालंधर : मेडिकल टूरिज्म हब बनेगा। जालंधर में सर्जिकल-मेडिकल इक्विपमेंट्स, स्पोर्ट्स गुड्स क्लस्टर बनेगा। यहां के आदमपुर एयरपोर्ट को फिर से खड़ा करेंगे।

अमृतसर: मेडिकल टूरिज्म हब बनाएंगे। इसके लिए 19 जगहें मैंने देखी हैं।

मलोट-मुक्तसर में टेक्सटाइल और फार्म इक्विपमेंट्स क्लस्टर बनेगा।

बठिंडा और मानसा में पेट्रो कैमिकल हब बनेगा।

पंजाब में 13 एग्रो प्रोसेसिंग फूड पार्क

सिद्धू ने कहा कि पंजाब में 13 एग्रो फूड प्रोसेसिंग पार्क बनेंगे। जिसमें पंजाब का यूथ प्रोसेसिंग करेगा। इसमें कोई कार्पोरेट कंपनियां नहीं होंगी। इसमें किसान भी शामिल होंगे। इसके बाद पंजाब का यूथ नौकरी मागेंगे नहीं बल्कि दूसरों देगा।

सिंगल विंडो सिस्टम होगा

सिद्धू ने कहा कि पंजाब में किसी भी काम के लिए फेसलेस क्लियरेंस मिलेगी। इसे उन्होंने डिजिटल पंजाब बताया। सिद्धू ने कहा कि हर काम के लिए ऑनलाइन मंजूरी मिलेगी।। किसी को दूसरी जगह जाने की जरूरत नहीं। उन्होंने कहा कि यह काम 10 साल पहले होना चाहिए था।

खबरें और भी हैं...