• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Navjot Singh Sidhu Vs Charanjit Singh Channi In Punjab Congress; Who Will Be The CM Face Of Congress In Punjab

पंजाब चुनाव में कांग्रेस का 'कैप्टन' कौन?:सिद्धू और चन्नी में CM कुर्सी की जंग तेज; दोनों ही नाम की घोषणा के पक्ष में

चंडीगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का 'कैप्टन' कौन होगा? कांग्रेस हाईकमान को यह बताना पड़ सकता है। चुनाव के बाद सरकार बनी तो CM चरणजीत चन्नी ही रहेंगे या फिर पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू कुर्सी संभालेंगे? इसको लेकर जंग तेज हो गई है। खास बात यह है कि सिर्फ सिद्धू ही नहीं, CM चन्नी भी चाहते हैं कि कांग्रेस हाईकमान इसकी घोषणा कर दे।

2017 में कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के नाम की घोषणा की थी। हालांकि, तब यह राजनीतिक दांव आम आदमी पार्टी (AAP) को पटखनी देने के लिए था। यह लड़ाई बाहरी बनाम पंजाबी की हो गई थी। इस दांव में कांग्रेस कामयाब भी रही। इस बार आप पंजाबी और सिख चेहरा ही CM कैंडिडेट बनाएगी तो ऐसे में कांग्रेस के आगे चुनौतियां उससे भी ज्यादा हैं।

2017 में कांग्रेस का पूरा चुनावी कैंपेन कैप्टन अमरिंदर सिंह के ही इर्द-गिर्द था।
2017 में कांग्रेस का पूरा चुनावी कैंपेन कैप्टन अमरिंदर सिंह के ही इर्द-गिर्द था।

CM चन्नी ने कहा : कैप्टन के नाम से हमें फायदा हुआ था
पंजाब के मौजूदा कांग्रेसी CM चरणजीत चन्नी ने एक इंटरव्यू में कहा कि कांग्रेस को अपना CM चेहरा अनाउंस कर देना चाहिए। 2017 में कैप्टन अमरिंदर सिंह का नाम अनांउस किया गया तो हम जीत गए। उससे पहले बिना चेहरे से चुनाव में हम नहीं जीते। CM ने यहां तक दावा किया कि उस वक्त प्रताप सिंह बाजवा पार्टी प्रधान थे। इसके बावजूद वह कैप्टन के साथ खड़े रहे, क्योंकि लोग चाहते थे कि कैप्टन CM बनें। मैंने राहुल गांधी को भी कहा कि लोग कैप्टन के पक्ष में हैं। पार्टी ने सर्वे करके कैप्टन का नाम घोषित किया। इस बार भी लोग जिसे चाहेंगे, वह CM चेहरा होगा।

नवजोत सिद्धू और चरणजीत चन्नी का ये फोटो तब का है जब चन्नी को CM बनाने का ऐलान हुआ था।
नवजोत सिद्धू और चरणजीत चन्नी का ये फोटो तब का है जब चन्नी को CM बनाने का ऐलान हुआ था।

सिद्धू भी चाह रहे 'कैप्टन' वाला अंदाज
इससे पहले पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू ने भी कैप्टन अमरिंदर सिंह वाला अंदाज दिखाया था। जिस तरह पिछली बार अमरिंदर को CM बनाने के लिए कांग्रेस के हक में मतदान हुआ। उसी तरह सिद्धू चाहते हैं कि लोग विधायकों के जरिए सीधे CM चेहरे का चुनाव करें। इसलिए वह कह रहे हैं कि CM कांग्रेस हाईकमान नहीं, बल्कि लोग तय करेंगे। साफ तौर पर वह चाहते हैं कि CM चेहरे के नाम पर पंजाब में कांग्रेस के हक में मतदान हो।

इस बार जाखड़ और बाजवा का भी नाम
CM चेहरे के लिए सीधे तौर पर नवजोत सिद्धू और चरणजीत चन्नी के बीच राजनीतिक खींचतान नजर आती है। हालांकि, इसमें अहम नाम पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ और सांसद प्रताप सिंह बाजवा का भी है। कांग्रेस हाईकमान जब भी CM चेहरे की घोषणा करेगा तो यह दोनों नाम भी जेहन में होंगे। उसकी वजह यह है कि कांग्रेस जाखड़ को कैप्टन को हटाने के बाद ही CM बनाना चाहती थी, लेकिन सिख स्टेट की बात कह उनका पत्ता काट दिया गया। प्रताप बाजवा भी केंद्र से राज्य की राजनीति में वापस लौटे हैं, जिसमें वह कह रहे हैं कि हाईकमान की मंजूरी है। ऐसे में उनकी भी CM कुर्सी के लिए दावेदारी मानी जा रही है।

खबरें और भी हैं...