पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जीत के बाद बोले मेयर रविकांत:पूर्व मेयर के अधूरे पड़े प्रोजेक्ट्स को पूरा करना रहेगी प्रायोरिटी, पानी के बढ़े रेट भी होंगे कम

चंडीगढ़9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रविकांत शर्मा ने कहा- 2017 में नगर निगम 170 करोड़ पर खड़ी थी और आज 325 करोड़ पर आ पहुंची है। - Dainik Bhaskar
रविकांत शर्मा ने कहा- 2017 में नगर निगम 170 करोड़ पर खड़ी थी और आज 325 करोड़ पर आ पहुंची है।

रविकांत शर्मा चंडीगढ़ के 25वें मेयर चुने गए हैं। मेयर चुने जाने के बाद मीडिया से बातचीत में उन्होंने मेयर होने के नाते अपनी प्रायोरिटीज पर बात की। इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस द्वारा भाजपा पर आरोप लगाने पर भी खूब घेरा। बोले,कांग्रेस हमेशा से ही आरोप लगाने का काम करती आई है इसलिए देश की जनता ने इसे पूरी तरह से नकार दिया है।

नगर निगम के मेयर बनने पर क्या प्रायोरिटी रहेंगी ?
कोरोना जब से विश्व में आई है, हर व्यक्ति डरा हुआ है और पूरे विश्व को इसने अपनी चपेट में लिया है। भारत और चंडीगढ़ भी इससे अछूता नहीं रहा। लेकिन मैं अपने ऑफिसर्स और कार्पोरेशन के कमीश्नर का आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने रात को अपनी टीम के साथ तीन बजे उठकर मंडियों में जाकर लोगाें को सब्जी, फल, दूध और डेली नीड की कमी न आए, उसके लिए काम किया। इसी तरह शहर की जनता के लिए आगे भी हम काम करेंगे। बाकी मैं रोडमैप तैयार कर अच्छे से शहर की जनता के लिए काम करूंगा। प्रायोरिटी में सबसे पहले वह प्रोजेक्ट रहेंगे जो पूर्व मेयर राजबाला मलिक ने शुरू किए और अधूरे पड़े हैं।

नगर निगम में फंड्स की कमी को कैसे पूरा करेंगे?
ऐसा कुछ नहीं है कि नगर निगम को फंड्स की जरूरत है। 2017 में नगर निगम 170 करोड़ पर खड़ी थी और आज 325 करोड़ पर आ पहुंची है। बाकी पानी के बढ़े हुए रेट्स भी जरूर कम होंगे।

चंडीगढ़ कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने आप पर भ्रष्ट होने का आरोप लगाया, इसपर क्या कहेंगे?
प्रदीप मुझे भ्रष्ट कह रहे हैं, सब जानते हैं कि इनसे ज्यादा भ्रष्ट कोई नहीं है।फिर चाहे बूथ घोटाला हो या सेक्टर 22 में किसी व्यक्ति के नाम पर टाॅयलेट्स का ठेका लेकर उसकी आमदनी खुद खाना हो।

चुनाव से पहले भाजपा पार्षदों के विरोध को कैसे देखते हैं आप?
भाजपा एक लोकतांत्रिक पार्टी है और इसमें हर व्यक्ति को अपनी बात रखने का अधिकार है। अगर आप इच्छा नहीं रखोगे तो आगे भी नहीं बढ़ सकते जीवन में। प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए। उससे ये पता चलता है कि ये संगठन कितना मजबूत है और कितने व्यक्ति इसमें काबिल हैं। लेकिन बनना एक ने है जो संगठन ने तय किया, वो सभी के लिए मान्य हुआ और सब ने एकजुटता दिखाते हुए वोट दीं।

शिअद पार्षद के कहने पर शहीद किसानों के लिए दो मिनट का मौन भी नहीं रखा गया, कांग्रेस के चुनाव बायकॉट करने पर क्या कहेंगे?

उनसे पूछो उसे खुद किसानी के बारे में क्या पता है? कितने भीगे जमीन है उसके पास, कहां किसानी करता है?उनके अध्यक्ष से भी यही पूछना चाहता हूं। किसानों के नाम पर इन्होंने जो घिनौनी राजनीति यहां सदन में की है, मैं उसकी कड़ी निंदा करता हूं। बीमार किसानों को सिंघु बार्डर पर जबरदस्ती आंदोलन में ले जाया जा रहा है। फिर उनकी वहां मौत हो जाती है, फिर इसे शहीदों का नाम दिया जाता है जबकि सभी को पता है कि शहीदी का मतलब क्या होता है। किसानों के नाम पर भद्दी राजनीति की जा रही है। इससे घटिया बात और कुछ नहीं हो सकती। बाकी कांग्रेस की बात करें तो कांग्रेस हमेशा से ही आरोप लगाने का काम करती आई है इसलिए देश की जनता ने इसे पूरी तरह से नकार दिया है। देविंदर बबला लोकतंत्र की हत्या की बात की और किया तो उन्होंने है यह। चुनाव के बीच से उठकर जाना ही लोकतंत्र की हत्या है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपको कई सुअवसर प्रदान करने वाली हैं। इनका भरपूर सम्मान करें। कहीं पूंजी निवेश करने के लिए सोच रहे हैं तो तुरंत कर दीजिए। भाइयों अथवा निकट संबंधी के साथ कुछ लाभकारी योजना...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser