पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बर्ड फ्लू:अभी नहीं दिखा चंडीगढ़ में बर्ड फ्लू का असर, चिकन और अंडों के रेट में भी नहीं पड़ा फर्क;सुखना लेक में मृत मिला कॉमन कूट,जांच के लिए भेजे जाएंगे सैंपल

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को भी डिपार्टमेंट ने बर्ड फ्लू की सैंपलिंग की है। सेक्टर 21 की मीट मार्केट में कई दुकानों से पोल्ट्री प्रोडक्ट्स के सैंपल लिए गए हैं। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को भी डिपार्टमेंट ने बर्ड फ्लू की सैंपलिंग की है। सेक्टर 21 की मीट मार्केट में कई दुकानों से पोल्ट्री प्रोडक्ट्स के सैंपल लिए गए हैं।

हिमाचल प्रदेश के पौंग डैम में बर्ड फ्लू का मामला आने के बाद और हरियाणा के बरवाला में मुर्गियों की मौत के बाद चंडीगढ़ प्रशासन भी अलर्ट है। अभी चंडीगढ़ में बर्ड फ्लू का असर देखने को नहीं मिला है और चिकन व अंडों के रेट में भी कोई फर्क नहीं पड़ा है। दूसरी ओर एनीमल हसबेंड्री डिपार्टमेंट की ओर से नियमित मॉनिटरिंग और सैंपलिंग की जा रही है।

इसके अंतर्गत मंगलवार को भी डिपार्टमेंट ने बर्ड फ्लू की सैंपलिंग की है। सेक्टर 21 की मीट मार्केट में कई दुकानों से पोल्ट्री प्रोडक्ट्स के सैंपल लिए गए हैं। इससे पहले दिसंबर महीने में कई सैंपल जालंधर की लेबोरेट्री में भेजे गए थे, लेकिन ये सभी निगेटिव पाए गए थे।

चंडीगढ़ मीट मार्केट एसोसिएशन के प्रधान आशीष कुमार ने बताया कि फिलहाल चिकन व अंडों के रेट में भी कोई फर्क नहीं पड़ा है। चंडीगढ़ में हर रोज 80 हजार से एक लाख अंडें की बिक्री होती है। अंडे का रेट 180 रुपए प्रति ट्रे है लेकिन आज ये 165 रुपए पर प्रति ट्रे के मुताबिक बिका। वहीं चिकन की बात करें तो शहर में हर रोज 7 से 8 हजार पीस चिकन बर्ड की बिक्री होती है। सोमवार को यह 220 रुपए प्रति किलो और आज 200 रुपए प्रति किलो के मुताबिक बिक्री हुई।

जलाशयों की भी की गई चेकिंग

मंगलवार को सुखना लेक, धनास लेक और सुखना वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी में स्थित जलाशयों में चेकिंग की गई है। हालांकि, इस दौरान किसी भी जगह पर बर्ड में किसी तरह का लक्षण नहीं पाया गया है।चीफ कंजर्वेटर ऑफ फाॅरेस्ट व चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन देबेंद्र दलाई ने अपने फील्ड स्टाफ को कहा है कि अब वह रेगुलर इस मामले की मॉनिटरिंग करे और कोई भी लक्षण कहीं दिखे तो तुरंत जानकारी दे। इस बीच सुखना लेक में कॉमन कूट प्रजाति का माइग्रेटरी बर्ड मृत पाया गया है। उसके सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जाएंगे।

वर्ष 2014 में बर्ड फ्लू ने दी थी दस्तक

शहर में वर्ष 2014 में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी। धीरे धीरे सुखना लेक में बतखों की मौत हो रही थी। उसके बाद नमूने पहले जालंधर भेजे गए और फिर भोपाल, जिसमें बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी। इसके बाद प्रशासन ने सुखना झील की घेराबंदी कर एहतियातन लोगों के प्रवेश, बोटिंग और पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगा दी थी।

इलाके में मास्क लगाए पुलिस कर्मियों को भी तैनात किया गया था और एहतियात के तौर पर लेक के सभी बतखों को मार दिया गया था। गौरतलब है कि सुखना लेक पर हर साल प्रवासी पक्षी आते हैं। सुखना में प्रवासी पक्षियों के आने का सिलसिला जारी है। इसलिए एहतियात के तौर पर वन विभाग ने कदम उठाने शुरू कर दिए हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

और पढ़ें