पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ICU और कोविड टेस्टिंग लैब में ही PPE किट जरूरी:चंडीगढ़ PGI जल्द करेगा दिल्ली AIIMS की तर्ज पर गाइडलाइंस में बदलाव, अंतिम फैसला सारे पहलुओं पर मंथन के बाद

चंडीगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
PGI चंडीगढ़ ने AIIMS नई दिल्ली की तर्ज पर पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) के उपयोग को केवल कोविड ICU और कोविड टेस्टिंग लैब्स तक सीमित रखने की योजना बनाई है। - Dainik Bhaskar
PGI चंडीगढ़ ने AIIMS नई दिल्ली की तर्ज पर पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) के उपयोग को केवल कोविड ICU और कोविड टेस्टिंग लैब्स तक सीमित रखने की योजना बनाई है।

कोरोना के मामलों में गिरावट देखते हुए PGI चंडीगढ़ ने AIIMS नई दिल्ली की तर्ज पर पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) के उपयोग को केवल कोविड ICU और कोविड टेस्टिंग लैब्स तक सीमित रखने की योजना बनाई है। इसे अंतिम रूप देने के लिए जल्द ही बैठक की जाएगी।

महामारी के दौरान हेल्थ केयर वर्कर्स के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए AIIMS ने PPE से संबंधित अपने दिशा-निर्देशों में संशोधन किया था। HCW की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, संस्थान ने नॉन-कोविड एरियाज, एमरजेंसी और स्क्रीनिंग एरियाज में गाउन बेस्ड PPE की अनुमति देने का निर्णय लिया। कोविड ICU और लैब्स में गाउन या कवरऑल आधारित PPE रखने का ऑप्शन भी था।

PGI में माइक्रो बायोलॉजी विभाग के हेड प्रो.अरुणालोक चक्रवर्ती ने कहा कि हमने पहले ही अपनी कमेटी के मेंबर्स के बीच एक संशोधित दिशा-निर्देश प्रसारित किया है। HCW से फीडबैक लिया गया है और जल्द ही इस बारे में हम अंतिम निर्णय लेंगे।

गाउन बेस्ड PPE किट्स में N95 मास्क वाला, फेस शील्ड के साथ गॉगल्स, ग्लव्स और लॉन्ग शू कवर शामिल हैं। क्लीनिकल एरियाज में AIIMS ने अपेक्षित मानकों को पूरा करने वाले एक अच्छी फिटिंग वाले N95 या समकक्ष मास्क की भी सिफारिश की।

PGI में एक फैकल्टी मेंबर के मुताबिक कवरऑल पहनना और अस्पताल में नियमित गतिविधियां करना आसान नहीं है। जब महामारी शुरू हुई थी, तब PPE की बहुत मांग थी जिसके कारण कवरऑल की कमी थी। हालांकि अब यह स्पष्ट हो गया है कि नॉन-कोविड या कम संक्रमण वाले इलाकों में ऐसी सुरक्षा की जरूरत नहीं है।

एक फैकल्टी मेंबर ने बताया- PGI को भारत सरकार से PPE का स्टॉक मिलता है और एक टीम HCW के लिए डोनेट किए गए प्रोटेक्टेड गियर की क्वालिटी की जांच करती है। HCW की सुरक्षा को ध्यान में रखना सबसे जरूरी है इसलिए इस टीम के सदस्यों से सहमत होने के बाद गाइडलाइंस में बदलाव की मंजूरी दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...