HPSC के घेराव में कांग्रेस में हावी रही गुटबाजी:31 में से 13 विधायक ही पहुंचे, पूर्व सीएम हुड्‌डा भी नहीं आए, एकजुटता जोर दिया

चंडीगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंच पर बैठे रणदीप सुरजेवाला, विवेक बंसल, कुमारी सैलजा और किरण चौधरी। - Dainik Bhaskar
मंच पर बैठे रणदीप सुरजेवाला, विवेक बंसल, कुमारी सैलजा और किरण चौधरी।

प्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी कम होने की बजाय बढ़ती जा रही है। इसका नजारा मंगलवार को कांग्रेस के पंचकूला में हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) के घेराव कार्यक्रम में देखने को मिला। इस प्रदर्शन में पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा सहित अधिकतर विधायक नदारद रहे। कांग्रेस के कुल 31 विधायक है। कार्यक्रम में केवल 13 ही पहुंचे। राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा भी नहीं आए।

मंगलवार को कांग्रेस के हरियाणा प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल की अध्यक्षता में कांग्रेस ने HPSC कार्यालय का घेराव किया। इसमें कुमारी सैलजा, रणदीप सुरजेवाला, कैप्टन अजय यादव, किरण चौधरी पहुंची। परंतु पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा सहित करीब 18 विधायक नदारद रहे। हुड्‌डा खेमे के विधायकों की उपस्थिति न देखकर मंच से असंध के विधायक शमशेर गोगी ने कहा भी कि यदि पार्टी एकजुट होती तो हमारे विधायकों की संख्या और ज्यादा होती। हमें पार्टी में एकजुटता लानी होगी।

ऐसे में कांग्रेस एचपीएससी के मुद्दे पर सरकार को घेरने के लिए भी एकजुट नहीं हो पाई। बतां दे कि कांग्रेस ने सात दिसंबर को डेंटल सर्जन भर्ती मामले में एचपीएससी का घेराव करने का कार्यक्रम तय किया था। परंतु कांग्रेस की युवा इकाई ने चार दिसंबर को ही एचपीएससी के घेराव का किया। यह कार्यक्रम दीपेंद्र हुड्‌डा की अध्यक्षता में हुआ था। हालांकि इस मामले ने तूल पकड़ लिया। यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष कृष्ण सातरोड ने यूथ कांग्रेस अध्यक्ष पर बिना संगठन में चर्चा किए बगैर कार्यक्रम घोषित करने का आरोप लगाया था।

ये 13 विधायक रहे मौजूद

प्रदीप चौधरी, शैली चौधरी, वरुण मुलाना, मोहम्मद इलियास, शमेशर गोगी, रेणु बाला, अमित सिहाग, शीशपाल केहरवाला, रघुवीर कादियान, मामन खान, किरण चौधरी,चिरंजीव राव, नीरज शर्मा

हुड्‌डा ने आज बुलाई है बैठक

पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने बुधवार को विधायक दल की मीटिंग बुलाई है। विधानसभा का सेशन 17 दिसंबर से शुरू हो रहा है। ऐसे में विधानसभा सेशन शुरू होने से पहले कांग्रेस विधायक दल की यह अंतिम बैठक हो सकती है। हालांकि पूर्व सीएम ने नवंबर में भी विधायक दल की मीटिंग बुलाई थी। जिसमें सरकार को घेरने के मुद्दों पर चर्चा की थी।