पंजाब कांग्रेस में सिद्धू का विरोध शुरू:पार्टी प्रवक्ता बलियावाल ने सोनिया गांधी को भेजा इस्तीफा, बोले- नॉनसेंस को डिफेंड नहीं कर सकता

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चुनाव नजदीक आते ही पंजाब कांग्रेस में प्रधान नवजोत सिद्धू का विरोध शुरू हो गया है। कांग्रेस (AICC) के नेशनल कोऑर्डिनेटर और पंजाब प्रवक्ता प्रितपाल सिंह बलियावाल ने सोनिया को इस्तीफा भेज दिया है।

उन्होंने कहा कि वह पंजाब में हो रही 'नॉनसेंस' और एंटी पार्टी, एंटी गवर्नमेंट टिप्पणियों को डिफेंड नहीं कर सकते। उन्होंने कैप्टन अमरिंदर सिंह और सुनील जाखड़ की भी तारीफ की। बलियावाल के पास हरियाणा और हिमाचल किसान कांग्रेस का प्रभार होने के साथ वह पंजाब कांग्रेस के सीनियर मीडिया पैनलिस्ट भी थे।

सिद्धू के पाक संबंधों पर भी उठाए सवाल

बलियावाल ने सोनिया को भेजे इस्तीफे में लिखा कि 15 साल से वह कांग्रेस को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं। अब आपने पंजाब को गलत हाथों में सौंप दिया है। एक प्रवक्ता के तौर पर उन्हें पार्टी और सरकार विरोधियों टिप्पणियों का बचाव करना बहुत मुश्किल हो जाता है। इसमें नवजोत सिद्धू की पाकिस्तान के साथ संबंध भी शामिल हैं।

कैप्टन-जाखड़ की लीडरशिप में मजबूत थी कांग्रेस

बलियावाल ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और सुनील जाखड़ की लीडरशिप में कांग्रेस 2022 में पंजाब में सरकार बनाने की मजबूत स्थिति में थी, लेकिन आपने नवजोत सिद्धू को चुना। CM चरणजीत चन्नी की अगुआई में सरकार बढ़िया काम कर रही है। मगर सिद्धू के रोजाना के ट्वीट से पार्टी की छवि खराब हो रही है।

सोनिया गांधी को भेजा इस्तीफा
सोनिया गांधी को भेजा इस्तीफा

टाइटलर को स्थाई मेंबर बनाने पर भी हुआ आहत

बलियावाल ने कहा कि अकाली सरकार के वक्त उनके परिवार पर झूठे केस दर्ज हुए। उनका बिजनेस तबाह हो गया। इसके बावजूद वह कांग्रेस के साथ डटे रहे। उन्होंने कहा कि जगदीश टाइटलर को दिल्ली कांग्रेस का स्थाई मेंबर बनाने की वजह से भी मैं आहत हुआ।