वोकेशनल टीचर्स ने खून से लिखा पत्र:रविवार तक सांसद-विधायकों तक पहुंचाएंगे अपनी बात, 39 दिनों से अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हैं

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षा सदन के बाहर खून से पत्र लिखते  हुए वाेकेशनल टीचर्स। - Dainik Bhaskar
शिक्षा सदन के बाहर खून से पत्र लिखते हुए वाेकेशनल टीचर्स।

हरियाणा के पंचकूला में गुरुवार को प्रदेश के वोकेशनल टीचर्स ने अपने खून से पत्र लिखकर शिक्षा निदेशालय में सम्रग शिक्षा के ज्वाइंट डायरेक्टर गौरव चौहान को सौंपा। साथ ही सीएम और शिक्षा मंत्री के नाम का पत्र ड्यूटी मजिस्ट्रेट को भी सौंपा गया। वोकेशनल टीचर्स एसोसिएशन के प्रधान अनूप ढिल्लों ने बताया कि पत्र में लिखा है कि 39 दिन से अपनी मांगों को लेकर पंचकूला में धरने पर बैठे हैं। 12 दौर की बातचीत के बाद 25 नवंबर को लगभग विभाग की सहमति बन गई थी, लेकिन सरकार ने पैर पीछे खींच लिए। इससे पूरे हरियाणा के टीचर्स में रोष है। यह अभियान रविवार तक जारी रहेगा। अभियान के तहत सांसदों और भाजपा-जजपा विधायकों को पत्र लिखकर भेजे जाएंगे।

वोकेशनल टीचर्स द्वारा खून से लिखा गया पत्र
वोकेशनल टीचर्स द्वारा खून से लिखा गया पत्र

अनूप ने बताया कि आंदोलन का गुरुवार को 39वां दिन है। सरकार ने उनकी किसी भी मांग पर सकारात्मक रुख नहीं दिखाया। उन्होंने कहा कि मांगें पूरी करवाने के लिए पिछले सप्ताह गुरुवार को तीन दौर की वार्ता हुई, लेकिन सिरे नहीं चढ़ी। स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर जे. गणेशन से मीटिंग हुई, मगर सहमति नहीं बन पाई। तीसर दौर की बातचीत चंडीगढ़ में हुई तो सरकार पहली दो दौर की वार्ता से भी मुकर गई। बजट डॉक्यूमेंट भी तैयार हो चुके थे। शुक्रवार को भी सरकार और वोकेशनल टीचर्स के बीच सहमति नहीं बन पाई। जल्द ही फिर से तीन दिन का महाआंदोलन शुरू किया जाएगा।

पत्र देने के लिए पहुंचे वोकेशनल टीचर्स।
पत्र देने के लिए पहुंचे वोकेशनल टीचर्स।

शिक्षा सदन पर हर दिन कर है प्रदर्शन

प्रदेश के वोकेशनल टीचर पंचकूला शिक्षा सदन पर हर दिन दोपहर बाद प्रदर्शन करते हैं। यह प्रदर्शन 25 अक्टूबर से जारी है। टीचर्स शिक्षा विभाग में मर्ज करने, समान काम समान वेतन और सर्विस रूल लागू कर 58 साल तक जॉब सिक्योरिटी देन की मांग को लेकर पिछले 39 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...