• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Project Not Started In Panipat And Mewat Of The State, Target Of Re admitting 32208 Children In Schools By March 31,

आऊट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन सर्वे:पानीपत और मेवात में नहीं शुरू हुआ प्रोजेक्ट, 32208 बच्चों को दोबारा स्कूलों में दाखिल करवाने का लक्ष्य

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद ने पढ़ाई छोड़ चुके बच्चों का दोबारा स्कूल में दाखिला करवाने के लिए आऊट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन सर्वे करवाया। प्रदेश के दो जिलों पानीपत और मेवात के स्पेशल चिल्ड्रन सेंटर पर एक भी बच्चा पढ़ने के लिए नहीं पहुंचा। क्योंकि बच्चों को पढ़ाने का कार्यक्रम अब तक शुरू ही नहीं हो पाया। 31 मार्च तक इन बच्चों को ब्रिज कोर्स करवाकर नए शिक्षा सत्र में उनकी आयु अनुसार कक्षा में दाखिला दिलवाना है। मेवात में सबसे ज्यादा बच्चे 8671 स्कूल छोड़ चुके हैं। गुरुग्राम में 2645 बच्चे स्पेशल टीचर सेंटर पर एनरोल हुए है।

प्रदेश के 22 जिलों में सरकार ने आऊट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन का सर्वे करवाया था। यह सर्वे 22 फरवरी से 15 मार्च 2021 तक किया गया। सर्वे में 7 से 14 वर्ष आयु के 29097 बच्चे ऐसे मिले जो किन्हीं कारणों से स्कूल छोड़ चुके हैं। 6 से 7 साल की आयु वर्ग में 3111 बच्चे हैं जो स्कूल नहीं जा रहे। इन बच्चों को ढूंढ कर उनकी आयु के अनुसार कक्षा में दाखिले के लिए एजुकेशन वालिंटयर द्वारा ब्रिज कोर्स करवाकर नए शिक्षा सत्र में उन्हें अगली कक्षा में पढ़ाना है।

कुल 32208 बच्चों को दोबारा स्कूल पहुंचाने के लिए सरकार ने आऊट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन कार्यक्रम का आयोजन किया। प्रदेश में 1164 स्पेशल टीचर सेंटर बनाए गए है जोकि स्कूलों में ही है। प्रोजेक्ट पर 12 करोड़ 62 लाख रुपये खर्च किए जा रहे हैं। नवंबर महीने तक करीब 13 हजार बच्चों की स्कूलों में वापसी हो चुकी है। परंतु हरियाणा के दो जिलों पानीपत और मेवात में एक भी बच्चे की वापसी नहीं हुई, इसका कारण है कि इन जिलों में जिला प्रशासन ने अभी तक यह प्रोजेक्ट शुरू ही नहीं किया।

दोनों जिलों में डीसी से हो चुकी है बात

शिक्षा विभाग के निदशेक जे. गणेशन का कहना है कि पानीपत और मेवात जिलों में स्टॉफ को लेकर कुछ इश्यू थे। दोनों जिलों में डीसी से बातचीत हो चुकी है। जल्द ही कार्यक्रम शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...