पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • PU Asks Dental Students To Appear For Physical Exam In 3 Days; Copy Of Notice Goes Viral, University Called Back Research Scholar.

असमंजस में स्टूडेंट्स:डेंटल स्टूडेंट्स काे फिजिकल एग्जाम के लिए PU ने 3 दिन में पहुंचने काे कहा; नाेटिस की काॅपी वायरल, वापस लौटे रिसर्च स्कॉलर को यूनिवर्सिटी ने बुलाया

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया ने पेपर ऑफलाइन मोड से कराने के ही आदेश दिए हैं। इस आदेश के बाद स्टूडेंट्स परेशान हैं और उनका कहना है कि जब यूनिवर्सिटी प्रशासन ने डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के कैंपस खोलने संबंधित आदेश को फॉलो नहीं किया तो अब ऑफलाइन तरीके से पेपर लेने का आदेश क्यों मान रहे हैं। - Dainik Bhaskar
डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया ने पेपर ऑफलाइन मोड से कराने के ही आदेश दिए हैं। इस आदेश के बाद स्टूडेंट्स परेशान हैं और उनका कहना है कि जब यूनिवर्सिटी प्रशासन ने डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के कैंपस खोलने संबंधित आदेश को फॉलो नहीं किया तो अब ऑफलाइन तरीके से पेपर लेने का आदेश क्यों मान रहे हैं।

पंजाब यूनिवर्सिटी ने अपने सभी रिसर्च स्कॉलर्स को कैंपस में बुलाने के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। नोटिस की कॉपी वायरल होते ही डेंटल इंस्टीट्यूट के स्टूडेंट परेशान हो गए हैं। उनका कहना है कि सिर्फ 3 या 4 दिन में स्टूडेंट का वापस लौटना कैसे संभव होगा।

बहुत से स्टूडेंट कश्मीर, नॉर्थ ईस्ट या साउथ इंडिया के रहने वाले हैं। बहुत कम ट्रेन चल रही हैं और इतने कम नोटिस पर स्टूडेंट्स को फ्लाइट भी नहीं मिल पाएगी। हर स्टूडेंट फ्लाइट अफोर्ड भी नहीं कर सकता। हालांकि यूनिवर्सिटी ने सेकंड वेव शुरू होने के समय हॉस्टल छोड़कर गए सभी रिसर्च स्कॉलर को वापस आने के लिए सर्कुलर जारी कर दिया है।

करीब 700 स्टूडेंट उस समय कैंपस में थे और लगभग 300 स्टूडेंट कई नोटिस के बाद भी कैंपस छोड़कर नहीं गए। पिछले 22 दिन से स्टूडेंट हॉस्टल और लैब खोले जाने की डिमांड को लेकर 6 स्टूडेंट्स संगठन प्रदर्शन कर रहे हैं।

डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो.SK तोमर की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि सभी एलिजिबल रिसर्च स्कॉलर जिन्होंने सेकंड वेव से पहले 10 मई के आदेश के कारण हॉस्टल छोड़ा था वे अपना पेंडिंग काम पूरा करने के लिए लौट सकते हैं।

फाइनल सेमेस्टर या फाइनल ईयर के स्टूडेंट जिन को समयबद्ध तरीके से अपना प्रोजेक्ट या डिसर्टेशन करनी है, वे भी अपने काम को पूरा करने के लिए कैंपस आ सकते हैं लेकिन काम पूरा होने के तुरंत बाद उनको हॉस्टल छोड़ना होगा।

वे स्टूडेंट सेकंड ईयर से पहले हॉस्टल में रह रहे थे और अब उनको रहने की जरूरत नहीं है क्योंकि क्लासेज ऑनलाइन मोड से चल रही हैं, उनको अपने परिवार और शहर लौटने की राय दी जाती है। इसके साथ ही डॉ. हरिवंश सिंह जज इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज एंड हॉस्पिटल सेक्टर-25 के स्टूडेंट्स को 28 जून से शुरू होने वाले एग्जाम के लिए यूनिवर्सिटी वापस लौटने के लिए कहा गया है।

डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया ने पेपर ऑफलाइन मोड से कराने के ही आदेश दिए हैं। इस आदेश के बाद स्टूडेंट्स परेशान हैं और उनका कहना है कि जब यूनिवर्सिटी प्रशासन ने डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के कैंपस खोलने संबंधित आदेश को फॉलो नहीं किया तो अब ऑफलाइन तरीके से पेपर लेने का आदेश क्यों मान रहे हैं।

स्टूडेंट्स को ऑफलाइन तरीके से पेपर देने में कोई दिक्कत नहीं है लेकिन उससे पहले कम से कम 21 दिन पहले नोटिस देने का वादा इंस्टिट्यूट पूरा करे। स्टूडेंट्स की डाउट क्लासेस लगाई जाएं ताकि वह ऑफलाइन पेपर देने के लायक हो सके।