पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मीटिंग में PU अधिकारियों का फैसला:रिसर्च स्कॉलर्स को हॉस्टल खाली करने की राय; UT एडमिनिस्ट्रेशन के आदेश को बताया वजह, लाइब्रेरी को भी किया बंद

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सभी तरह की फिजिकल फैसिलिटी जिसमें AC जोशी लाइब्रेरी, सभी डिपार्टमेंटल लाइब्रेरी, स्विमिंग पूल और प्लेग्राउंड आदि शामिल हैं को 30 मई तक बंद रखा जाएगा। - Dainik Bhaskar
सभी तरह की फिजिकल फैसिलिटी जिसमें AC जोशी लाइब्रेरी, सभी डिपार्टमेंटल लाइब्रेरी, स्विमिंग पूल और प्लेग्राउंड आदि शामिल हैं को 30 मई तक बंद रखा जाएगा।

पंजाब यूनिवर्सिटी ने अपने सभी हॉस्टल रेजिडेंट्स को हॉस्टल खाली करने के निर्देश दे दिए हैं। इसके साथ ही सभी तरह की फिजिकल फैसिलिटी जिसमें AC जोशी लाइब्रेरी, सभी डिपार्टमेंटल लाइब्रेरी, स्विमिंग पूल और प्लेग्राउंड आदि शामिल हैं को 30 मई तक बंद रखा जाएगा। हालांकि ऑनलाइन टीचिंग चलती रहेगी। यह फैसला यूनिवर्सिटी अधिकारियों की मीटिंग में किया गया है।

मीटिंग डीन यूनिवर्सिटी इंस्ट्रक्शन प्रो. वीआर सिन्हा की अध्यक्षता में हुई। जिसमें रजिस्ट्रार विक्रम नैयर, कंट्रोलर ऑफ एग्जामिनेशन डॉ. जगत भूषण, स्टूडेंट वेलफेयर एसके तोमर, डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर वूमेन प्रो. सुखबीर कौर, चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. रुपिंदर कौर, डीन कॉलेज डेवलपमेंट काउंसिल देवेंद्र सिंह के अलावा पूर्व डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. नवल किशोर भी मौजूद रहे।

बड़ी संख्या में गर्ल रिसर्च स्कॉलर वापस लौट चुकी हैं

कमेटी ने फैसला लिया कि सभी सुविधाएं बंद करने के साथ ही स्टूडेंट्स की सेहत संबंधी सुरक्षा को देखते हुए उन्हें घर लौटने के लिए कहा गया है। PU प्रशासन स्टूडेंट्स को घर पहुंचाने के लिए UT एडमिनिस्ट्रेशन की सहायता से मदद करेगा। मीटिंग के बाद ही पीयू के प्रशासनिक अधिकारियों ने स्टूडेंट्स को वापस लौटने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया था और बड़ी संख्या में गर्ल रिसर्च स्कॉलर वापस लौट चुकी हैं। सिर्फ वही स्टूडेंट्स कैंपस में है, जिनकी कोई निजी समस्या है या रिसर्च के आखिरी दौर में होने के कारण वह स्कॉलरशिप खत्म होने से पहले अपनी PHD पूरी कर लेना चाहते हैं।

आधार कार्ड समेत सभी निजी जानकारियां मांगी गई थी

उल्लेखनीय है कि इस बारे में पिछले सप्ताह यूटी के सेक्रेटरी एजुकेशन की अध्यक्षता में सभी इंस्टीट्यूट के अधिकारियों की मीटिंग हुई थी। इस मीटिंग में रिसर्च स्कॉलर्स को यह कहते हुए छूट दी गई थी कि स्टूडेंट्स की सुरक्षा और सेहत की जिम्मेदारी इंस्टीट्यूट की रहेगी। यदि लॉकडाउन हो जाता है तो भी उनके लिए पोषक खुराक और बाकी जिम्मेदारियां इंस्टीट्यूट उठाएगा। हालांकि हॉस्टल्स में रहने वाले स्टूडेंट्स की पूरी जानकारी UT एडमिनिस्ट्रेशन ने मांगी थी। इसमें उनका आधार कार्ड समेत सभी निजी जानकारियां मांगी गई थी।