• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Punjab Assembly Election 2022, Big Satback For 22 Farmer Unions, No Support From BKU Dakonda And Lakhhowal

चुनाव लड़ने वाले किसान नेताओं को झटका:BKU डकौंदा-लक्खोवाल से नहीं मिला समर्थन; MSP कमेटी में शामिल नहीं होंगे राजेवाल और चढ़ूनी

चंडीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
किसान संगठनों ने चंडीगढ़ में चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। - Dainik Bhaskar
किसान संगठनों ने चंडीगढ़ में चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।

पंजाब विधानसभा चुनाव लड़ने वाले किसान नेताओं को बड़ा झटका लगा है। भारतीय किसान यूनियन एकता(डकौंदा) और BKU (लक्खोवाल) ने चुनाव लड़ने से इन्कार कर दिया है। उन्होंने चुनाव लड़ने वाले 22 किसान संगठनों के समर्थन से भी इन्कार कर दिया है। वहीं, चुनाव लड़ने के लिए संगठन बनाने वाले बलबीर राजेवाल और गुरनाम चढ़ूनी को MSP कमेटी में भी शामिल नहीं किया जाएगा। SKM नेता राकेश टिकैत ने इसकी पुष्टि की है।

वहीं, चुनाव लड़ने वाले 22 किसान संगठनों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) भी 15 जनवरी की मीटिंग में फैसला लेगा। यह किसान नेता अब मोर्चे का हिस्सा नहीं रहेंगे। हालांकि उनकी यूनियन दूसरे प्रतिनिधि के जरिए आंदोलन में रहेगी या नहीं, इस पर भी अंतिम फैसला लिया जाएगा।

समर्थन का किया था दावा

दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन में पंजाब के 32 किसान संगठन शामिल थे। इनमें से 22 किसान संगठनों ने संयुक्त समाज मोर्चा बनाया है। जिसके जरिए उन्होंने पंजाब विधानसभा की 117 सीटों पर लड़ने का ऐलान कर दिया है। उस वक्त इन नेताओं ने दावा किया था कि भारतीय किसान यूनियन डकौंदा और लक्खोवाल समेत 3 यूनियनों ने उन्हें समर्थन दिया है। वह अपने संविधान में फेरबदल कर खुलकर साथ आएंगी। हालांकि अब इन 2 यूनियनों ने इससे इन्कार कर दिया है।

न चुनाव लड़ेंगे, न किसी को समर्थन : BKU डकौंदा
भाकियू एकता डकौंदा के प्रदेश उपाध्यक्ष गुरदीप सिंह रामपुरा ने कहा कि हम न चुनाव लड़ेंगे और न ही किसी को समर्थन देंगे। वह संघर्ष के जरिए मुद्दे हल करवाते रहेंगे।

किसानों की मांगें संघर्ष से हल कराएंगे : BKU लक्खोवाल

भाकियू लक्खोवाल के नेता अजमेर सिंह लक्खोवाल ने कहा कि उनकी यूनियन न चुनाव लड़ेगी और न किसी को उनकी तरफ से समर्थन दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों की कई मांगें अभी बाकी हैं। ऐसे में राजनीतिक लड़ाई से इसमें परेशानी हो सकती है।

बलबीर राजेवाल की अगुवाई में चुनाव लड़ रहे किसान

पंजाब में किसान दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन के बड़े चेहरे बलबीर राजेवाल की अगुवाई में चुनाव लड़ रहे हैं। किसान संगठनों ने राजेवाल को CM चेहरा घोषित किया है। किसानों की नजर पंजाब में अर्बन और सेमी अर्बन क्षेत्र वाली 77 सीटों पर है। जहां किसानों का वोट बैंक प्रभावी है। हालांकि 32 में से पहले ही 7 संगठनों ने स्पष्ट इन्कार कर दिया है। जिन 3 किसान संगठनों के समर्थन का वह दावा कर रहे थे, वह भी किनारा करने लगे हैं। ऐसे में चुनाव के लिए किसानों की चुनौती बढ़ सकती है।

खबरें और भी हैं...