• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Punjab Assembly Election 2022, Coronavirus Omicron Variant In Punjab India, Less Testing In State Due To Election

पंजाब में ओमिक्रॉन को चुनावी टीका:कोरोना टेस्टिंग घटाई ताकि रैलियों पर सवाल न उठें, रोजाना 30 हजार जांच हो रही थीं, अब सिर्फ 10 हजार

चंडीगढ़एक वर्ष पहलेलेखक: मनीष शर्मा

पंजाब में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट का सरकार ने चुनावी इलाज कर दिया है। चुनावी रैलियों पर सवाल खड़े न हों, इसलिए कोविड टेस्ट बढ़ाने के बजाय कम कर दिए हैं। कुछ दिन पहले तक 25 से 30 हजार टेस्ट किए जा रहे थे, जो अब घटकर 10 हजार से भी कम हो चुके हैं, जिससे पंजाब में तीसरी लहर का खतरा बढ़ गया है।

यह बात अलग है कि लोगों की आंखों में धूल झोंकने के लिए कागजी पाबंदियां जरूर लगाई जा रही हैं। हालांकि, सरकार का कहना है कि टेस्ट में कमी जिला स्तर पर हो रही है। इस बारे में सिविल सर्जनों को कड़ी हिदायत दी जाएगी। पंजाब के लिहाज से यह लापरवाही संवेदनशील है, क्योंकि बड़ी संख्या में पंजाबी विदेशों में रहते हैं, जो अक्सर पंजाब आते-जाते रहते हैं।

समझिए, चुनाव के लिए क्या है सरकार का खेल

  • कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के आने से पहले सरकार रोजाना 16 से 17 हजार टेस्ट कर रही थी। ओमिक्रॉन आया तो टेस्ट को तीन गुना बढ़ाकर करीब 40 हजार का टारगेट कर दिया गया। हालांकि, सरकार इस आंकड़े को कभी छू नहीं सकी। 30 हजार के करीब टेस्ट जरूर हुए, लेकिन अब अचानक इन्हें घटाकर 10 से 11 हजार के करीब कर दिया गया है।
  • पंजाब में कोरोना का ज्यादा खतरा नहीं है, यह दिखाने के खेल की बड़ी वजह कांग्रेस सरकार के इस कार्यकाल का अंतिम समय है। जनवरी में ही पंजाब चुनाव के लिए आचार संहिता लग सकती है। पंजाब में CM चरणजीत चन्नी से लेकर कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू हर रोज रैली कर रहे हैं।
  • कोरोना के आंकड़े बढ़े तो सवाल खड़े होंगे और उसमें सरकार ही घिर जाएगी, इसलिए कागजों में ही कोरोना के मरीज घटा दिए गए हैं। कोरोना मरीजों की टेस्टिंग और ऑफिशियल आंकड़ों का कोई दूसरा जरिया नहीं, इसे सरकार भी खूब समझती है।

पंजाब में कोविड के हालात: 7 दिन में 76 मरीज बढ़े
सरकार के इस खेल के बीच चिंता की बात यह है कि पंजाब में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। 23 दिसंबर को एक्टिव केस 314 थे, जो अब 28 दिसंबर तक बढ़कर 390 हो चुके हैं। यानी, इस दौरान 76 मरीज बढ़ चुके हैं। पंजाब में इस वक्त इन एक्टिव केसों में 33 मरीज ऐसे हैं जो ऑक्सीजन या ICU जैसे लाइफ सेविंग सपोर्ट पर हैं।

वैक्सीन को लेकर सख्ती, लेकिन 15 जनवरी के बाद
पंजाब सरकार ने मंगलवार को कोविड वैक्सीन को लेकर सख्ती जरूर दिखाई, लेकिन तुरंत नहीं बल्कि 15 जनवरी के बाद से इसे लागू किया। संभव है तब तक सरकार को आचार संहिता लगने की उम्मीद है और फिर कमान चुनाव आयोग के हाथ में होगी। तब तक भीड़ जुटाकर रैलियां निपटा ली जाएं, इसलिए सरकार ने सख्ती भी दिखाई और अपने लिए राहत भी रख ली। सरकार के नए आदेश में डबल डोज न लगाने वालों को भीड़भाड़ वाली जगहों में न आने देने को कहा गया है, लेकिन ऑर्डर में चुनाव को लेकर रैलियों का जिक्र नहीं है।

मोहाली में पत्रकारों से बात करते CM चरणजीत चन्नी
मोहाली में पत्रकारों से बात करते CM चरणजीत चन्नी

CM ने पंजाब में टेस्ट घटाने के सवाल का जवाब नहीं दिया
बुधवार को मोहाली में बसों के उद्घाटन के मौके पर सीएम चरणजीत चन्नी से पूछा गया कि पंजाब में कोविड टेस्ट घटाकर सिर्फ 10 हजार कर दिए गए हैं तो उन्होंने इस सवाल का जवाब नहीं दिया और आगे निकल गए।

खबरें और भी हैं...