पंजाब CM ऑफिस के 2 कर्मचारियों को कोरोना:​​​​​​​फिरोजपुर में PM मोदी के कार्यक्रम में नहीं जाएंगे मुख्यमंत्री चन्नी, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लेंगे हिस्सा

चंडीगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
CM चन्नी के PM मोदी के साथ न जाने के पीछे राजनीतिक वजह भी मानी जा रही है। - Dainik Bhaskar
CM चन्नी के PM मोदी के साथ न जाने के पीछे राजनीतिक वजह भी मानी जा रही है।

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से पहले मुख्यमंत्री कार्यालय के दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव आ गए हैं, जिसके बाद CM चरणजीत चन्नी का फिरोजपुर जाना रद्द हो गया है। CM चन्नी अब वर्चुअल तरीके से कार्यक्रम में जुड़ेंगे।

पीएम मोदी ने फिरोजपुर में चुनावी रैली से पहले दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेस-वे, अमृतसर-ऊना फोर लेन, मुकेरियां-तलवाड़ा रेलवे लाइन, पीजीआई के सैटेलाइट सेंटर और कपूरथला और होशियारपुर में 2 मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करना है। सीएम चरणजीत चन्नी के पीएम के कार्यक्रम में न जाने के पीछे चुनावी राजनीति को भी वजह माना जा रहा है।

CM बनने के बाद चरणजीत चन्नी ने दिल्ली में PM मोदी से मुलाकात की थी।
CM बनने के बाद चरणजीत चन्नी ने दिल्ली में PM मोदी से मुलाकात की थी।

वित्तमंत्री और विधायक होंगे शामिल, CM के न जाने के पीछे राजनीतिक वजह भी

CM चरणजीत चन्नी के पीएम के कार्यक्रम में न जाने की वजह से अब पंजाब सरकार की तरफ से इसमें वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल और विधायक परमिंदर सिंह पिंकी शामिल होंगे। हालांकि सीएम चन्नी के उद्घाटन समारोह में न जाने के पीछे राजनीतिक कारण भी माने जा रहे हैं।

पंजाब में कुछ दिन बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में पीएम के साथ पंजाब के कांग्रेसी सीएम का स्टेज सांझी करना कांग्रेस के लिहाज से नुकसानदेह हो सकता था। खासकर इसलिए क्योंकि किसान और पंजाब के गांवों में लोग अब भी किसान आंदोलन और उसमें हुई मौतों की वजह से भाजपा का विरोध कर रहे हैं। हालांकि पंजाब सरकार कोरोना को ही बहाना बना रही है।

पहले खुद उद्घाटन करना चाहते थे सीएम, केंद्र से फटकार पड़ी

इससे पहले सीएम चरणजीत चन्नी कपूरथला और होशियारपुर में बनने वाले मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करने वाले थे। इसके लिए 18 दिसंबर की तैयारियां भी पूरी हो चुकी थी। हालांकि अचानक केंद्रीय सेहत मंत्रालय को इसकी जानकारी मिल गई। उन्होंने पंजाब सरकार को फटकार लगाई, जिसके बाद यह उद्घाटन टालना पड़ा। इन दोनों मेडिकल कॉलेज में 60% रकम केंद्र और 40% राज्य दे रही है। केंद्र इनके लिए 50-50 करोड़ की राशि रिलीज भी कर चुकी है।

पंजाब सरकार के उद्घाटन का पता चलते ही केंद्रीय सेहत सचिव राजेश भूषण ने पंजाब के चीफ सेक्रेटरी अनिरुद्ध तिवारी को पत्र लिखकर कड़ा एतराज जताया। उन्होंने यह भी पूछा था कि केंद्र को भरोसे में लिए बगैर CM का कार्यक्रम कैसे रख लिया गया।

खबरें और भी हैं...