कांग्रेस हाईकमान का दिग्गजों को झटका:पंजाब चुनाव में 'एक परिवार-एक टिकट' फॉर्मूला; CM चन्नी के भाई और मंत्री राणा के बेटे भी दावेदारी ठोक रहे

चंडीगढ़एक वर्ष पहलेलेखक: मनीष शर्मा
  • कॉपी लिंक

कांग्रेस हाईकमान ने पंजाब में कई कांग्रेसी दिग्गजों को झटका दे दिया है। बुधवार रात को दिल्ली में कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग हुई, जिसकी अध्यक्षता अजय माकन ने की। इसमें फैसला लिया गया कि पंजाब चुनाव में एक परिवार के एक ही सदस्य को टिकट दी जाएगी। पंजाब कांग्रेस के इंचार्ज हरीश चौधरी ने इस फैसले की पुष्टि की।

यह फैसला इसलिए अहम है क्योंकि CM चरणजीत चन्नी के भाई डॉ. मनोहर सिंह बस्सी पठाना से चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं। वह सीनियर मेडिकल अफसर पद से इस्तीफा तक दे चुके हैं। वहीं, कपूरथला से मंत्री राणा गुरजीत बेटे को भी सुल्तानपुर लोधी से चुनाव लड़वाना चाहते हैं।

CM चन्नी के भाई विस क्षेत्र में एक्टिव हो चुके हैं, जहां से कांग्रेस के ही मौजूदा MLA हैं।
CM चन्नी के भाई विस क्षेत्र में एक्टिव हो चुके हैं, जहां से कांग्रेस के ही मौजूदा MLA हैं।

सिद्धू के रवैये को लेकर जताई गई नाराजगी

स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग में कुछ नेताओं ने सिद्धू के रवैये को लेकर नाराजगी जताई। सिद्धू पंजाब में रैलियां कर टिकट की घोषणा करते जा रहे हैं। हालांकि वह सांकेतिक तरीके से ऐसा करते हैं। सिद्धू कादियां में मौजूदा MLA फतेहजंग बाजवा को टिकट के संकेत दे आए, लेकिन वहां अब सांसद प्रताप बाजवा सक्रिय हो गए हैं।

सुल्तानपुर लोधी पर मंत्री राणा गुरजीत दावा ठोक रहे हैं, लेकिन सिद्धू मौजूदा MLA नवतेज चीमा की पीठ थपथपाकर आ गए। लुधियाना में रायकोट में वह आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए जगतार हिस्सोवाल की गैरहाजिरी में कामिल अमर सिंह को जिताने की अपील कर चुके हैं।

राहुल गांधी 25 से 30 दिसंबर के बीच पंजाब में रैली को संबोधित करेंगे।
राहुल गांधी 25 से 30 दिसंबर के बीच पंजाब में रैली को संबोधित करेंगे।

पंजाब में राहुल करेंगे प्रचार का आगाज

पंजाब में कांग्रेस राहुल गांधी से प्रचार का आगाज करवाएगी। इसके लिए दिसंबर के आखिरी हफ्ते में 25 से 30 दिसंबर के बीच बड़ी रैली होगी। यह फैसला बुधवार रात को दिल्ली में हुई कांग्रेस कैंपेन कमेटी की मीटिंग में लिया गया। यह मीटिंग कैंपेन कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ की अगुवाई में हुई। हालांकि इसमें पंजाब कांग्रेस चीफ नवजोत सिद्धू और CM चरणजीत चन्नी गैरहाजिर रहे। हालांकि सीएम चन्नी ने गिद्दड़बाहा रैली की मजबूरी गिनाई।

नवजोत सिद्धू और हरीश चौधरी स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग के लिए पहुंचे।
नवजोत सिद्धू और हरीश चौधरी स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग के लिए पहुंचे।

सिद्धू को झटका, किसी एक चेहरे पर नहीं लड़ेंगे चुनाव

कांग्रेस ने यह भी तय कर लिया है कि पंजाब में किसी एक नेता के चेहरे पर चुनाव नहीं होगा। इसे पंजाब कांग्रेस चीफ नवजोत सिद्धू के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। सिद्धू अभी तक हाईकमान के गुण गाते रहे हैं, ऐसे में उम्मीद थी कि उन्हें अगले चुनाव के लिए CM फेस के तौर पर आगे किया जा सकता है। हालांकि सीएम चरणजीत चन्नी भी अब मुख्यमंत्री बनने और अनुसूचित जाति वोट बैंक के गणित के लिहाज से कांग्रेस के दिग्गज बन चुके हैं। ऐसे में चुनाव प्रचार में अब पिछली बार कैप्टन अमरिंदर सिंह की तरह कोई एक चेहरा नहीं होगा।

खबरें और भी हैं...