पंजाब चुनाव की तैयारियां तेज:इस बार 2.09 करोड़ वोटर; 24,689 बूथ;  कोविड मरीज भी करेंगे वोटिंग; सुरक्षा के लिए 700 कंपनियों की जरूरत

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में विधानसभा चुनाव की तैयारियां तेज हो गई हैं। इस बार 117 विधानसभा सीटों पर 2.09 करोड़ वोटर मतदान करेंगे। जिनमें 99 लाख महिला वोटर हैं। इस बार 24,689 बूथ बनाए गए हैं। पिछली बार के मुकाबले करीब 1400 बूथ बढ़ाए गए हैं ताकि कोविड के खतरे को देखते हुए एक बूथ पर 1200 मतदाता वोट कर सकेंगे।

कोविड पॉजिटिव मरीज भी मतदान कर सकेंगे। उन्हें बैलेट पेपर उपलब्ध कराया जाएगा। उनका वोट लेने के लिए चुनाव आयोग की टीम PPE किट पहनकर उनके घर जाएगी। सोमवार को पंजाब के मुख्य चुनाव अफसर डॉ. एस. करूणा राजू ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि फिलहाल पंजाब में 700 कंपनियों की रिक्वायरमेंट आई है, जिस पर दोबारा विचार हो रहा है।

पंजाब चुनाव ऑफिस 8 जनवरी को अंतिम वोटर सूची जारी करेगा
पंजाब चुनाव ऑफिस 8 जनवरी को अंतिम वोटर सूची जारी करेगा

किसान आंदोलन चलता तो 1054 कंपनियों की थी मांग
पंजाब में चुनाव के दौरान सख्त सुरक्षा रहेगी। जब किसान आंदोलन चल रहा था तो पंजाब से पैरामिलिट्री फोर्स के लिए 1,054 कंपनियों की मांग की गई थी। हालांकि अब आंदोलन खत्म हो गया, इसलिए नए सिरे से 700 कंपनियों की मांग हुई है। हालांकि मुख्य चुनाव अफसर से इसे चुनाव आयोग को भेजा जाना बाकी है। डॉ. राजू ने कहा कि इस बारे में लॉ एंड ऑर्डर के नोडल अफसर से मीटिंग कर अंतिम फैसला लिया जाएगा।

पंजाब में 3.08 लाख हथियार
पंजाब में 3 लाख 8 हजार लाइसेंसी हथियार हैं। डॉ. राजू ने कहा कि इसमें से करीब 95% हथियार जमा कराया जाएगा। जिसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बाकी 5% सिक्योरिटी स्टाफ और जरूरी काम की वजह से जमा नहीं हो पाते। हालांकि इस पर अंतिम फैसला जिला स्तर पर DC की अगुवाई में बनी कमेटी लेगी।

पड़ोसी राज्यों के बॉर्डर पर होगी सख्ती
डॉ. राजू ने कहा कि पड़ोसी राज्यों के बॉर्डर पर सख्ती की जाएगी। बॉर्डर से शराब और क्रिमिनल के आने-जाने की संभावना बनी रहती है। इसलिए हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के बॉर्डर जिलों से इस बारे में मीटिंग होगी। पंजाब के डिविजनल कमिश्नरों को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बैंक ट्रांजैक्शन पर रहेगी नजर
इस दौरान बैंक की ट्रांजैक्शन पर नजर रहेगी। डॉ. राजू ने कहा कि जिसके अकाउंट में पिछले कुछ सालों में ज्यादा लेन-देन नहीं हुआ लेकिन अचानक यह बढ़ा तो उसकी जांच की जाएगी। इसके लिए इनकम टैक्स, एक्साइज, जीएसटी, बैंक और NCB के साथ इनकम टैक्स का इंटेलिजेंस विंग भी काम करेगा।

पोलिंग स्टाफ को वैक्सीन की डबल डोज लगेगी
चुनाव के दौरान अगर किसी मतदाता का तापमान ज्यादा आया तो उन्हें आइसोलेशन रूम में रखा जाएगा। हालांकि वह अंत में वोट डाल सकेंगे। इसके अलावा पोलिंग स्टाफ को वैक्सीन की डबल डोज लगाई जाएगी। काफी स्टाफ को लगी हुई है, जो बचे हैं उनके लिए स्पेशल कैंप लगाए जाएंगे। इसके अलावा कोविड बढ़ने या ओमिक्रॉन का खतरा हुआ तो राजनीतिक दलों को रैलियों में चुनाव आयोग के नियम का पालन करना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...