पंजाब में भाजपा की बड़ी सेंधमारी:पूर्व कांग्रेस विधायक अरविंद खन्ना और मजीठिया के करीबी यूथ अकाली नेता गुरदीप गोशा BJP में शामिल

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा में शामिल होने वाले अरविंद खन्ना का केंद्रीय मंत्री ने स्वागत किया। - Dainik Bhaskar
भाजपा में शामिल होने वाले अरविंद खन्ना का केंद्रीय मंत्री ने स्वागत किया।

पंजाब में चुनाव का ऐलान होते ही भाजपा ने बड़ी राजनीतिक सेंधमारी की है। संगरूर से कांग्रेस के पूर्व विधायक अरविंद खन्ना, टोहड़ा परिवार और लुधियाना के यूथ अकाली नेता गुरदीप गोशा भाजपा में शामिल हो गए हैं। दिल्ली में भाजपा के पंजाब चुनाव प्रभारी केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत, पंजाब इंचार्ज दुष्यंत गौतम, मनजिंदर सिरसा और केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने इनका पार्टी में स्वागत किया।

संगरूर से लगातार 2 बार MLA रहे खन्ना

अरविंद खन्ना संगरूर से कांग्रेस की टिकट पर 2 बार विधायक रह चुके हैं। उन्हें कैप्टन अमरिंदर सिंह का करीबी माना जाता है। हालांकि कुछ समय से उन्होंने राजनीति से दूरी बना ली थी। खन्ना इस इलाके में राजनीति से ज्यादा अपने समाज सेवी संगठन उम्मीद के जरिए मशहूर हैं। इसके जरिए वह जरूरतमंदों की मदद करते हैं।

भाजपा में शामिल हुए अकाली नेता गुरदीप गोशा मजीठिया के करीबी हैं।
भाजपा में शामिल हुए अकाली नेता गुरदीप गोशा मजीठिया के करीबी हैं।

पंजाब में सियासी दिग्गज रहे टोहड़ा, गोशा मजीठिया के करीबी

भाजपा में शामिल हुए कंवरवीर टोहड़ा के नाना गुरचरन सिंह टोहड़ा पंजाब के सियासी दिग्गज रहे हैं। वह 27 साल तक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) के अध्यक्ष रहे। फिर सांसद भी रहे। वहीं, धर्मवीर सरीन भी अमृतसर की राजनीति में सक्रिय हैं।

लुधियाना से भाजपा में शामिल हुए गुरदीप सिंह गोशा अकाली दल के यूथ विंग के प्रधान रह चुके हैं। उन्हें अकाली नेता बिक्रम मजीठिया का करीबी माना जाता है। गोशा को लुधियाना में दमदार युवा नेता माना जाता है। जो कुछ दिन पहले आत्मनगर से विधायक सिमरजीत बैंस के साथ टक्कर लेकर खूब चर्चा में आए थे।

शेखावत बोले- कई पूर्व विधायक और चेयरमैन आएंगे

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत ने कहा कि भाजपा में शामिल होने वाले लोगों की सूची काफी लंबी है। कई बोर्ड चेयरमैन और पूर्व विधायक भाजपा में शामिल होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ में जिस तरह से भाजपा का मेयर बना, उसका असर पंजाब के चुनावों में भी नजर आएगा।

कांग्रेस सरकार ने पीएम को रोका

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 5 जनवरी को पंजाब में सुखद राजनीति की शुरूआत होनी थी, जिसके लिए पीएम नरेंद्र मोदी रैली को संबोधित करने आए थे। हालांकि कांग्रेस सरकार ने राजनीतिक कारणों से उनके कार्यकर्ताओं और यहां तक कि पीएम मोदी को भी रास्ते में रोक लिया। उन्होंने दावा किया कि पीएम की रैली के लिए हमें पंजाब में बसें कम पड़ गई थीं। हमने राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू से भी बसें मंगवाई थी।

खबरें और भी हैं...