लुधियाना बम ब्लास्ट का खुलेगा राज:सिख फॉर जस्टिस के मेंबर आतंकी मुल्तानी पर केस दर्ज; जल्द पूछताछ के लिए जर्मनी जाएगी NIA टीम

चंडीगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लुधियाना कोर्ट कॉप्लेक्स में बम धमाका करवाने के आरोपी आतंकी जसविंदर मुल्तानी पर भारत में केस दर्ज हो गया है। मुल्तानी इस वक्त जर्मनी में है। वह US बेस्ड प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) का मेंबर है। गुरुवार रात को दर्ज हुए इस केस में खालिस्तान से जुड़े कुछ और आरोपियों के नाम बता जा रहे हैं।

यह केस राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने दर्ज किया है। अब जल्द ही मुल्तानी से पूछताछ के लिए जर्मनी जाएगी। जिसके बाद लुधियाना बम धमाके की असली वजह सामने आ सकती है। मुल्तानी के खिलाफ दर्ज केस में देश के खिलाफ लड़ाई, अनलॉफुल एक्टिविटी(UAPA) जैसी संगीन धाराएं लगाई गई हैं।

SFJ के अवतार पन्नू ने वीडियो जारी कर दावा किया था कि मुल्तानी अरेस्ट नहीं हुआ है
SFJ के अवतार पन्नू ने वीडियो जारी कर दावा किया था कि मुल्तानी अरेस्ट नहीं हुआ है

मुल्तानी को भारत लाएगी सरकार

प्रतिबंधित संगठन SFJ से जुड़े मुल्तानी से पूछताछ के साथ उसे भारत लाने की भी योजना है। इसके लिए सरकार कूटनीतिक माध्यम से मामला आगे बढ़ा रही है। मुल्तानी पर आरोप लगे हैं कि वह पंजाब के युवाओं को सोशल मीडिया के जरिए खालिस्तानी एजेंडे को आगे बढ़ा रहा है। इसके अलावा युवाओं को आतंक की राह पर धकेल रहा है। पंजाब चुनाव से पहले यहां अस्थिरता पैदा करने के लिए अचानक ही आतंकियों ने अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। मुल्तानी के लुधियाना ब्लास्ट को अंजाम देने में भूमिका के अहम सबूत मिले हैं।

गगनदीप ही लुधियाना कोर्अ कॉप्लेक्स में धमाका करने गया था
गगनदीप ही लुधियाना कोर्अ कॉप्लेक्स में धमाका करने गया था

मुल्तानी गिरफ्तार नहीं हिरासत में

हाल ही में जसविंदर मुल्तानी को जर्मनी के एरफर्ट में गिरफ्तार करने की खबरें आई थी। हालांकि इसके बाद SFJ के प्रमुख अवतार पन्नू ने एक वीडियो रिलीज किया। जिसमें उसने दावा किया कि मुल्तानी अपने घर में है और उसे किसी ने गिरफ्तार नहीं किया है। हालांकि इस पर जांच एजेंसी का कहना है कि मुल्तानी को गिरफ्तार नहीं बल्कि हिरासत में लिया गया है। जिसके बाद जर्मन पुलिस ने उससे पूछताछ की थी। अब भी वह जांच एजेंसी के रडार पर है।

बर्खास्त हेड कांस्टेबल ने किया था धमाका

लुधियाना के कोर्ट कॉप्लेक्स में बम धमाका हुआ था। जिसमें एक व्यक्ति की मौत हुई थी। जिसकी जांच में पता चला कि मरने वाला ही वहां बम प्लांट करने आया था। जिसकी शिनाख्त पंजाब पुलिस के बर्खास्त हेड कांस्टेबल गगनदीप सिंह के तौर पर हुई।

जांच में पता चला कि गगनदीप को जसविंदर मुल्तानी ने पाकिस्तान में बैठे ड्रग तस्करों की मदद से धमाके के लिए तैयार किया। धमाके में इस्तेमाल विस्फोटक भी आतंकियों का दिया हुआ है। धमाके में मरे गगनदीप से मिली डोंगल के जरिए जांच एजेंसी को अहम सुराग मिले। जिससे गगनदीप ने 13 विदेशी कॉल की थी। हालांकि धमाके के वक्त डोंगल उसके पेट में फंसने से वह जली नहीं और उससे सारी साजिश का भेद खुल गया।

खबरें और भी हैं...