• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Punjab Police's Preliminary Investigation Revealed – There Was Lack Of Coordination Between DIG Faridkot And SSP Moga

पीएम की सुरक्षा में चूक का मामला:पंजाब पुलिस की शुरुआती जांच में खुलासा- डीआईजी फरीदकोट और एसएसपी मोगा में थी तालमेल की कमी

चंडीगढ़/फिरोजपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जांच में सामने आया पंजाब पुलिस अफसरों और पीएम सुरक्षा कॉनवाय वाले वाहनों के इंचार्ज अफसरों में बेहतर कॉर्डिनेशन नहीं हो पाया। - Dainik Bhaskar
जांच में सामने आया पंजाब पुलिस अफसरों और पीएम सुरक्षा कॉनवाय वाले वाहनों के इंचार्ज अफसरों में बेहतर कॉर्डिनेशन नहीं हो पाया।

पंजाब दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर पंजाब पुलिस ने भी जांच तेज कर दी है। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि फरीदकोट रेंज के डीआईजी सुरजीत सिंह और मोगा के एसएसपी चरणजीत सिंह में तालमेल की कमी रही, लेकिन इन तथ्यों की जांच जारी है। जांच में पता चला कि पीएम के रूट में तैनात पंजाब पुलिस अफसरों और पीएम सुरक्षा कॉनवाय वाले वाहनों के इंचार्ज अफसरों में बेहतर कॉर्डिनेशन नहीं हो पाया। किस अधिकारी की क्या जिम्मेदारी थी और तालमेल में कहां कमी रही। इस पर देर शाम हुई तीन बार अफसरों की बैठक में चर्चा हुई।

राज्य के गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने शुक्रवार को कहा कि अगर लापरवाही सामने आई, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। फरीदकोट डीआईजी व मोगा के एसएसपी मुख्य तौर पर प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे आल अफसरों के साथ कॉर्डिनेट करने और रूट क्लीयर करने के लिए कहा गया था। दोनों अधिकारियों में तालमेल की कमी के संकेत मिल रहे हैं। अभी जांच मुक्कमल होगी।

फरीदकोट रेंज: डीआईजी सुरजीत सिंह
जिम्मेदारी:
सुरजीत सिंह को बठिंडा यानि तलवंडी भाई से लेकर रैली वाले स्थान व जहां पर पीएम को जाना था, उनके साथ पायलट लगाने की जिम्मेदारी थी। काफिले के आगे पायलट के साथ उनको आगे रूट बताने का भी जिम्मा सौंपा था। संबंधित अधिकारी ने रूट को क्लीयर कराने वाले पंजाब पुलिस अफसरों से तालमेल बनाना भी था।

मोगा: एसएसपी चरणजीत
जिम्मेदारी:
मोगा के एसएसपी चरणजीत सिंह के पास पीएम के सड़क के रूट को क्लीयर करवाने और काफिले के साथ तालमेल करना था। इनकी क्लीयरेंस के बाद ही काफिले ने चलना था। यानि पीएम के काफिले में अगर किसी भी प्रकार से कोई धरना देता या अन्य दिक्कत आती है तो उसे इन्होंने ही क्लीयर कराना था। जहां रुकना पड़ा, उसको हटाने की भी इनकी ही जिम्मेदारी थी। एक दिन पहले रात धरने पर बैठे किसानोें को बताया गया था, लेकिन उन्होंने समझा पीएम हेलीकॉप्टर से आएंगे।

खबरें और भी हैं...