• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • SAD BJP Alliance Will Happen Again In Punjab! Akali Dal Broke The Alliance Over Agricultural Laws; Will Captain Amarinder Also Come Along?

पंजाब में फिर होगा SAD-BJP गठजोड़!:कृषि कानूनों को लेकर अकाली दल ने तोड़ा था गठबंधन; कैप्टन अमरिंदर भी आएंगे साथ?

चंडीगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा के राष्ट्रीय प्रधान जेपी नड्‌डा के साथ अकाली प्रधान सुखबीर बादल। - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
भाजपा के राष्ट्रीय प्रधान जेपी नड्‌डा के साथ अकाली प्रधान सुखबीर बादल। - फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने के बाद पंजाब में नई सियासी सुगबुगाहट शुरू हो गई है। क्या फिर से अकाली दल और भाजपा का गठजोड़ होगा? अकाली दल ने इसी मुद्दे पर पहले केंद्र सरकार में हरसिमरत बादल ने मंत्री पद छोड़ा, फिर सुखबीर बादल ने 24 साल बाद गठजोड़ तोड़ दिया था। अब यह वजह खत्म हो चुकी है।

इसके साथ ही नई सियासी चर्चा यह भी है कि क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह भी साथ में जुड़ेंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि अमरिंदर खुले तौर पर भाजपा से सीट शेयरिंग की घोषणा कर चुके हैं। उन्होंने कानून रद्द होने की घोषणा होते ही कहा कि भाजपा से पंजाब में विधानसभा चुनाव के लिए हर हाल में गठजोड़ होगा। अगर अकाली दल और भाजपा जुड़ती है तो फिर कैप्टन भी इस गठजोड़ का हिस्सा बन सकते हैं।

सियासी कॉकटेल इसलिए जरूरी... क्योंकि तीनों को एक-दूसरे की जरूरत
पंजाब के सियासी हालात देखें तो अकाली दल, भाजपा और कैप्टन अमरिंदर सिंह एक-दूसरे की सियासी जरूरत हैं। अकाली दल सिखों की पंथक पार्टी मानी जाती है। ऐसे में हिंदू वोट बैंक में उनको मुश्किल होती है। उनके पास कोई बड़ा हिंदू चेहरा भी नहीं है। वहीं, भाजपा का शहरी और खासकर हिंदू वोट बैंक में अच्छी पकड़ है। लेकिन सिख और खासकर ग्रामीण इलाकों में भाजपा की पैठ नहीं है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब की सियासत के दिग्गज हैं। उनका गांवों के साथ शहरों में भी अच्छा आधार है। हालांकि अब वह कांग्रेस छोड़ चुके हैं। उनके पास पंजाब में संगठन नहीं है। ऐसे में उन्हें भी पूरे पंजाब में अपना दबदबा बनाए रखने और बढ़ाने के लिए सहारे की जरूरत है। अगर यह तीनों साथ मिलते हैं तो यह सियासत का मजबूत कॉकटेल हो सकता है।