नवरात्रि 2021- प्यारा सजा है मनसा देवी का दरबार:ई-टोकन के माध्यम से ही कर सकेंगे दर्शन; चप्पे-चप्पे पर 650 पुलिसकर्मी तैनात, दर्शन करने पहुंचें हरियाणा के राज्यपाल

चंडीगढ़ / पंचकूला10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शारदीय नवरात्रि 2021 का पर्व आज से शुरू हो गया है। लोग घरों में विशेष पूजा अर्चना करेंगे। इस बार नवरात्रि 9 दिन की जगह 8 दिन के ही होंगे, क्योंकि इस बार तीसरा और चौथा नवरात्र 9 अक्टूबर को होगा। 13 अक्टूबर को अष्टमी होगी। सुबह 8:58 बजे तक भद्रा तिथि रहेगी। इसके बाद 9 बजे से शाम तक लोग कन्या पूजन कर सकेंगे।

वहीं 7 अक्टूबर को कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11:52 से 12:38 बजे तक रहेगा। नवरात्रि के पावन पर्व पर पंचकूला स्थित मनसा देवी मंदिर बहुत खूबसूरत तरीके से सजाया गया है। यहां पर पूरे ट्राईसिटी समेत अन्य राज्यों से श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए आते हैं। आज नवरात्र के पहले दिन हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय भी माता मनसा देवी के दर्शन करने पहुंचें। साथ ही हवन यज्ञ में भी भाग लिया।

माता मनसा देवी मंदिर में दर्शन करने पहुंचे हरियाणा के राज्यपाल
माता मनसा देवी मंदिर में दर्शन करने पहुंचे हरियाणा के राज्यपाल

कानून व्यवस्था के लिए 650 पुलिसकर्मी तैनात
नवरात्रि के मौके पर पचंकूला पुलिस ने मनसा देवी मेला में कानून व्यवस्था बनाए रखने व यातायात को सुचारू रूप से चलाने के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए हैं। सुरक्षा हेतु मेले में 15 पुलिस नाके लगाकर करीब 650 पुलिस कर्मचारी तैनात किए गए हैं। पुलिस कर्मी सभी नाकों पर 24 घंटे मौजूद रहेंगे। इस बीच कोरोना महामारी के नियमों की उल्लंघना करने वाले के खिलाफ पंचकूला पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी। पंचकूला पुलिस ने आमजन से अपील भी की है कि माता मनसा देवी के दर्शन करते समय मास्क पहनते हुए सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करें। माता मनसा देवी मेले मे श्रद्धालुओं को होने वाली समस्याओं का समाधान करने के लिए एक सहायता केन्द्र भी बनाया गया है। जहां पर पुरुष व महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है। इसके अलावा माता मनसा देवी मेले मे एंटी सैबोटेज की टीम को भी तैनात किया गया है, जिससे मेले के दौरान किसी भी प्रकार की कोई असुविधा न हो। मेले में सुरक्षा के लिए डोर फ्रेम मैटल डिटेक्टर, क्राइसिस मैनेजमैंट टीम, स्ट्राइकिंग रिजर्व, टीयर गैस स्क्वायड, बम डिस्पोजल स्क्वायड, एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड की टीमों भी को भी तैनात किया गया है।

मनसा देवी मंदिर में ट्राईसिटी समेत अन्य राज्यों से श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं।
मनसा देवी मंदिर में ट्राईसिटी समेत अन्य राज्यों से श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं।

कोरोना के नियमों की उल्लंघन करने पर होगी कार्रवाई
मनसा देवी मंदिर में नवरात्रि मेले के दौरान सभी पुलिस अधिकारी व कर्मचारी सरकार द्वारा जारी किए गए कोरोना नियमों का पालन जरूर करें। कोविड-19 के नियमों का उल्लंघना करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी। कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने सभी लोगों से अपील की है कि मेले में सार्वजनिक स्थान पर कोई संदिग्ध लावारिस वस्तु दिखाई दे तो उसे टच न करें। बल्कि फौरन उसकी जानकारी पुलिस को दें।

नवरात्रि के मौके पर सजाया गया मां मनसा देवी का दरबार।
नवरात्रि के मौके पर सजाया गया मां मनसा देवी का दरबार।

ई-टोकन के माध्यम से ही कर सकेंगे दर्शन
माता मनसा देवी श्राइन बोर्ड द्वारा ऑनलाइन बुकिंग के लिए मंदिर परिसर में तीन ई-टोकन काउंटर्स स्थापित किए गए हैं। श्रद्धालु ई-टोकन के माध्यम से ही माता के दर्शन कर सकेंगे। ई-टोकन के लिए माता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड की वेबसाइट www.mansadevi.org.in पर आवेदन किया जा सकता है। जो श्रद्धालु माता मनसा देवी मंदिर में लिफ्ट एंट्री के माध्यम से दर्शन करने के इच्छुक हैं, वे 50 रुपए प्रति श्रद्धालु बोर्ड की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। एक श्रद्धालु एक साथ अधिकतम 10 व्यक्तियों का रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। माता मनसा देवी श्राइन बोर्ड द्वारा श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर परिसर में तीन ई-टोकन काउंटर्स बनाए गए हैं, जहां पर श्रद्धालु ऑनलाइन बुकिंग कर सकेंगे। यह काउंटर्स नवरात्र मेला बस स्टैंड, शॉपिंग कॉम्पलैक्स एचएसवीपी व लाईब्रेरी के समीप और मुख्य प्रवेश द्वार पर स्थापित किए गए हैं। काउंटर्स प्रातः 6 बजे से रात 10 बजे तक खुले रहेंगे।

माता मनसा देवी का सजा मंदिर।
माता मनसा देवी का सजा मंदिर।

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजा-विधि
अभिजीत मुहूर्त में घट स्थापना का विशेष महत्व है। घट स्थापना के दिन चित्रा नक्षत्र जैसे शुभ योगों का निर्माण हो रहा है। इस दिन कन्या राशि में चर्तुगृही योग का शुभ संयोग बन रहा है। घट स्थापना मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से 7 बजकर 7 मिनट तक और अभिजीत मुहूर्त 11 बजकर 51 मिनट से दोपहर 12 बजकर 38 मिनट के बीच है। जो लोग इस शुभ योग में कलश स्थापना न कर पाएं, वे दोपहर 12 बजकर 14 मिनट से दोपहर 1 बजकर 42 मिनट तक लाभ का चौघड़िया में और 1 बजकर 42 मिनट से शाम 3 बजकर 9 मिनट तक अमृत के चौघड़िया में कलश-पूजन कर सकते हैं।

रास्ते को इस तरह सजाया गया है।
रास्ते को इस तरह सजाया गया है।

क्या है पूजा सामग्री की लिस्ट
बता दें कि नवरात्रि के मौके पर पूजा करने के लिए लाल चुनरी, लाल वस्त्र, श्रृंगार का सामान, दीपक, घी या तेल, धूप, नारियल, साफ चावल, कुमकुम, फूल, देवी की प्रतिमा या फोटो, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, बताशे या मिश्री, कपूर समेत फल-मिठाई आदि चाहिए।

वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांगों के लिए फ्री ई-रिक्शा व सीएनजी ऑटो रिक्शा

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए करीब 20 स्पेशल बसें चलाई जा रही हैं, जो पंचकूला बस स्टैंड, चंडीगढ़ सेक्टर 17 बस स्टैंड, सेक्टर 43 व जीरकपुर बस अड्डे से सिर्फ श्रद्धालुओं को मेले तक लाने और ले जाने के लिए दौड़ेंगी। वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों के लिए पंचकूला सिंह द्वार व मनीमाजरा बस अड्डे से फ्री ई-रिक्शा व सीएनजी ऑटो रिक्शा चलाई जाएगी। सभी श्रद्धालुओं से अपील है कि वे कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए मास्क का इस्तेमाल करें और माता के दर्शन करते समय सामाजिक दूरी का पालन अवश्य करें।

खबरें और भी हैं...