• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Sippy Murder Case CBI Could Not Uncover The Secret Of 'Black Diary' Even After Filtering 'Bhiwani Crime Diary'

चंडीगढ़ का सिप्पी हत्याकांड:'भिवानी क्राइम डायरी' छान कर भी 'ब्लैक डायरी' का राज नहीं खोल पाई थी CBI

बृजेन्द्र गाैड़/चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रीय स्तर के शूटर सुखमनप्रीत सिंह उर्फ सिप्पी सिद्धू की सितंबर 2015 में हत्या की गई थी। - Dainik Bhaskar
राष्ट्रीय स्तर के शूटर सुखमनप्रीत सिंह उर्फ सिप्पी सिद्धू की सितंबर 2015 में हत्या की गई थी।

चंडीगढ़ में राष्ट्रीय शूटर सुखमनप्रीत सिंह हत्याकांड से लगभग महीना भर पहले 17 अगस्त, 2015 को 3 से 4 संदिग्ध युवक सिप्पी के मोहाली स्थित घर के बाहर एक छोटी कार में आए थे। वह एक काले रंग का पाउच छोड़ गए थे, जिसमें एक स्पाइरल डायरी थी। इसमें सिप्पी समेत भूपिंदर सिंह उर्फ युवराज नामक व्यक्ति का नाम, पता और मोबाइल नंबर था। मोहाली पुलिस को शिकायत दी गई थी, मगर कुछ हाथ नहीं लगा था। इस डायरी में 7 जुलाई, 2015 की एक तारीख u/s 302 भिवानी, दिनेश और एक मोबाइल नंबर 99999******भी लिखा हुआ था।

मर्डर के 32 मामलों पर टिकी निगाह

भिवानी के डिस्ट्रिक्ट एंड सैशन जज से प्राप्त रिकार्ड के मुताबिक 7 जुलाई, 2015 तक हत्या के 32 मामले भिवानी की पांच अदालतों में अंडर ट्रायल थे। इनमें से 10 केसों की सुनवाई 7 जुलाई, 2015 को थी। सीबीआई ने उन मामलों का रिकार्ड जांचा। मगर डायरी के साथ लिंक नहीं बन पाया था। इसके अलावा भिवानी में अन्य कई गंभीर अपराधों में संलिप्त अपराधियों का रिकार्ड भी खंगाला गया था। डायरी में लिखे दिनेश नामक किसी व्यक्ति का भिवानी में रिकार्ड से मैच नहीं हो पाया था। वहीं मोबाइल नंबर दिल्ली के शकरपुर के सुमित गुप्ता का था। वह फोटोस्टेट और टेलीकॉम शॉप चलाते थे और मोबाइल नंबर भी रिचार्ज करते थे। उन्होंने किसी दिनेश के बारे में जानकारी से इंकार किया था।

अनट्रेस रिपोर्ट में रिश्तों का 'खुलासा'

सीबीआई ने अपनी अनट्रेस रिपोर्ट में जस्टिस सबीना और सिप्पी के परिवार के वर्ष 1991 से बने संबंधों और इनमें पड़ी खटास की खुल कर कोर्ट को जानकारी दी थी। इसमें सिप्पी और कल्याणी के रिश्ते की बात से लेकर रिश्तों में दूरियां आने, कल्याणी के निजी रिश्तों, सिप्पी के अपनी गर्ल फ्रेंड्स से रिश्तों, कल्याणी का ऐतराज जताना, कल्याणी का लॉ के दौरान कुछ स्टूडेंट्स से कथित रिश्ते बनाना, एक स्टूडेंट के साथ आपत्तिजनक तस्वीरों को आगे सर्कुलेट करना, दोनों परिवारों में विवाद पैदा होना, समझौता होना, कल्याणी का सिप्पी की गर्लफ्रेंड को झिड़कना आदि कई बातें शामिल की गई हैं।

सीसीटीवी फुटेज पूरी होती तो राज खुल सकता था

डायरी का राज वर्ष 2015 में चंद दिनों में ही सुलझ जाता, अगर चंडीगढ़ पुलिस ने मामले में जांच सही दिशा में सटीकता से करने में पूरी तत्परता दिखाई होती। सीबीआई के मुताबिक पुलिस को घटना की जानकारी देने वाले नागपाल के घर के बाहर सीसीटीवी कैमरे लगे थे। मगर वह दूसरे पब्लिक पार्क की दिशा में थे। सिर्फ 22 सेकंड की एक फुटेज ली गई थी, जिसमें 1001 नंबर घर के बाहर सड़क किनारे एक कार पार्क की गई थी।

रात को 9.50 बजे एक संदिग्ध/हमलावर वारदात को अंजाम देने के बाद कार की तरफ जाता नजर आ रहा है। सीबीआई का कहना था कि संबंधित समय काल की पूरी सीसीटीवी फुटेज में संदिग्ध कार का आना और जाना आदि पूरी जानकारी रही होगी। इसके जरिए इसमें सवार लोगों की पहचान की जा सकती थी।

मामले में हाईकोर्ट जज की बेटी कल्याणी सिंह हिरासत में है।
मामले में हाईकोर्ट जज की बेटी कल्याणी सिंह हिरासत में है।

यह सीसीटीवी फुटेज रिकॉर्ड पर

इसी तरह 1049 नंबर मकान और 164 नंबर मकान के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी पेन ड्राइव में मकान मालिकों द्वारा दी गई थी। पुलिस ने सिर्फ 164 नंबर मकान की फुटेज ही रिकार्ड पर ली गई थी। 1049 नंबर की फुटेज संबंधित कार की मूवमेंट का पता लगाने के लिए ज्यादा महत्त्वपूर्ण थी। 1001 नंबर घर की फुटेज फोरेंसिक जांच के लिए भेजी गई थी मगर यह काफी छोटी थी।

एक एंगल से विडियो के पिक्सल इतने फटे हुए थे कि उसमें कार, नंबर, संदिग्ध की फोटो, कार का मॉडल नंबर आदि पता लगाना बड़ा मुश्किल था। सीबीआई अपनी रिपोर्ट में तत्कालीन सेक्टर 26 थाना इंचार्ज पूनम दिलावरी और एएसपी गुरइकबाल पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश कर चुकी है।

पति ने आदमी देखा और पत्नी ने लड़की

सेक्टर 27 बी की कोठी नंबर 1015 के पास पार्क में वाकिंग ट्रैक पर सिप्पी की लाश पड़ी हुई थी। विशाल नागपाल नामक व्यक्ति ने पीसीआर को घटना की जानकारी दी थी। उन्होंने 4 गोलियां चलने की आवाज सुनी थी। वहीं मकान नंबर 1015 के राजनबीर ने भी गोलियां चलने की आवाज सुनी। जब वह बांउड्री वॉल के पास पहुंचे तो 5"7 हाईट का एक व्यक्ति वहां से भागता दिखा। उसने राजनबीर को देखा और राजनबीर डर कर झुक गए। वह भाग गया।

उनकी पत्नी अमृता सिंह ने भी गोलियों की आवाज और एक लड़की की चीखें सुनी। 9.30 बजे की यह घटना है। उन्होंने देखा कि उनके घर के बाहर स्ट्रीट लाइट के नीचे एक छोटी सफेद गाड़ी थी। उन्होंने एक 26 से 27 वर्ष की लड़की को झाड़ियों से निकल गाड़ी के पास आते देखा। वह ड्राइवर साइड पर आई और गाड़ी ले गई।

इंस्पेक्टर पूनम दिलावरी शुरु में केस की जांचकर्ता अफसर रही थी।
इंस्पेक्टर पूनम दिलावरी शुरु में केस की जांचकर्ता अफसर रही थी।

बर्थ डे पार्टी में ज्यादातर ने पॉलीग्राफ टेस्ट से मना किया था

कल्याणी के मुताबिक वह और उनका परिवार सेक्टर 10 में रिश्तेदार के घर बर्थ डे पार्टी पर था जब यह घटना हुई। वह शाम 8.15 पर पहुंच गए थे और रात 11 बजे तक वहीं थे। शाम 7.51 से 8.20 तक फोटो खींची गई और इसके बाद 10.20 से 10.26 बजे तक खींची गई। परिवार और रिश्तेदारों ने भी कल्याणी की मौजूदगी की बात कही थी। कल्याणी के पॉलीग्राफ में पार्टी वाले सवाल पर छल नजर आने की बात कही गई।

वहीं उसके पिता का पॉलीग्राफ टेस्ट सही बताया गया। बर्थ डे पार्टी में बाकी मौजूद लोगों ने टेस्ट के लिए मना कर दिया था। वहीं सीबीआई ने सेक्टर 27 की मोबाइल लोकेशन का डंप डाटा इकट्ठा कर संदिग्धों से पूछताछ भी की थी। सीबीआई ने 172 गवाहों से पूछताछ की थी।

एवरेस्ट का प्रोग्राम कैंसिल कर निकल गया था सिप्पी

हत्या से दो दिन पहले 18 सितंबर को सिप्पी ने एलांटे मॉल में एवरेस्ट मूवी देखने का प्लान बनाया था। वह अपनी गर्लफ्रेंड के साथ इंडस्ट्रियल एरिया में था। उसे 2 कॉल आई और उसने फिल्म का प्रोग्राम कैंसिल कर दिया। हालांकि उसने एडवांस बुकिंग करवाई हुई थी। दोनों मोहाली आ गए। रात लगभग 9 बजे उसकी लोकेशन सेक्टर 27 की थी। सिप्पी को इंडस्ट्रियल एरिया में एक सेक्टर 19 के मेंहदी वाले के नंबर से फोन आया था। इसके बाद सिप्पी काफी घबरा गया था।

सेक्टर 19 की फुटेज में तेजी से लड़की निकलते दिखी

सीबीआई ने मेंहदी वाले के बताए हुलिए का कंप्यूटराइज्ड स्कैच बनवाया था जो कल्याणी से मिलता था। उसी दिन एक और नंबर से 13 सेकंड की कॉल सिप्पी को आई थी जो बलिंदर कुमार नामक व्यक्ति के फोन से की गई थी। वह वहां कपड़े लेने आया था। पुलिस ने थापर शूज, सेक्टर 19 के बाहर लगे सीसीटीवी की फुटेज भी ली थी।

इसमें एक लड़की संबंधित समय में तेजी से आगे निकलती दिखी थी। 19 सितंबर को शाम 6.32 से 9.3 मिनट तक उसकी लोकेशन सेक्टर 27, सेक्टर 19 और सेक्टर 16 की दिखी थी। इसके बाद 9.26 पर उसकी लोकेशन अपने घर की दिखी थी।

कल्याणी की पुरानी तस्वीर।
कल्याणी की पुरानी तस्वीर।

यह हुआ था घटना वाले दिन

20 सितंबर को दोपहर सिप्पी ने उसकी गर्लफ्रेंड(नंबर 1) और उसके परिवार के साथ सेक्टर 26 के रेस्टोरेंट में लंच किया था। वह कैनेडा में नया घर खरीदने को लेकर रोमांचित था। उसने एवरेस्ट फिल्म मोहाली के नार्थ कंट्री मॉल में 4.20 बजे का शो देखा। 7 बजे के करीब उसे मुक्तसर के गांव गंधर के अंग्रेज सिंह नामक व्यक्ति के नंबर से फोन आया। वह उसका कॉलेज फ्रैंड था। वह उसे अपने गांव में एक हत्या केस के बारे में बता रहा था।

इसके बाद सिप्पी ने अपनी गर्लफ्रेंड को ड्रॉप किया और 7.29 पर गर्लफ्रेंड ने सिप्पी को 'लव यू स्वीटी' व्हट्स एप मैसेज किया। सिप्पी 20 सितंबर, 2015 को शाम 7.30 बजे अपने घर से निकला था। मां को कह कर गया था कि कल्याणी सेक्टर 27 में बुला रही है। इसके बाद वह जिंदा वापस नहीं आया।

प्रॉपर्टी एंगल पर भी जांच की थी

सिप्पी हत्याकांड में सीबीआई ने प्रॉपर्टी एंगल पर भी जांच की थी। जांच में सामने आया था कि सिप्पी ने 2010 में ओजोन कंपनी और ओमेक्स इंडिया के करोड़ों रुपए के मामले में दखल दे उनका मामला सुलझाया था। इसके बाद फिर 2013 में एक मसला उठा मगर वह सुलझा नहीं।

सेक्टर 26 थाने के एसआई बलवान सिंह समेत एसएचओ रही पूनम दिलावरी और एएसपी(ईस्ट) रहे गुरइकबाल सिंह सिद्धू भी मौके पर पहुंचे थे। मौके की विडियोग्राफी भी की गई थी। घटना पर गोलियों के खोल नहीं मिले थे। फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची थी।

जहर नहीं आया था विसरा रिपोर्ट में

20 सिंतबर, 2015 को सेक्टर 27-बी के पार्क में रात को मोहाली फेज 3बी2 निवासी सुखमनप्रीत सिंह उर्फ सिप्पी सिद्धू की लाश मिली थी। उसे 4 गोलियां मारी गई थी। अगले दिन उसका पोस्टमार्टम हुआ था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण गोलियां लगने से हुए हैमरेजिक शॉक को बताया गया था। विसरा जांच में किसी प्रकार का जहर न दिए जाने की बात सामने आई थी।

सिप्पी का भाई जिप्पी सिद्धू और उसकी मां दीपइ्ंद्र कौर इंसाफ मांग रहे हैं।
सिप्पी का भाई जिप्पी सिद्धू और उसकी मां दीपइ्ंद्र कौर इंसाफ मांग रहे हैं।

33 हजार रुपए पर्स से मिले थे

सिप्पी के पास से पर्स, 33, 230 रुपए, आई फोन, 3 अंगुठियां, राडो की घड़ी, बार काउंसिल ऑफ पंजाब एवं हरियाणा का आई कार्ड, सुप्रीम कोर्ट का टेंपरेरी आई कार्ड, बार एसोसिएशन का आई कार्ड, वोटर कार्ड, पैन कार्ड, मास्टर कार्ड, डेबिट कार्ड, नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया का कार्ड भी मिल था। सिप्पी की चंडीगढ़ नंबर की कार वारदात से 150 मीटर दूर चंडीगढ़ प्रेस क्लब के पास पार्किंग में खड़ी मिली थी।

एएसआई की नौकरी छोड़ वकील बना था

सिप्पी ने गवर्नमेंट कॉलेज, सेक्टर 46 से ग्रेजुएशन की थी। वह राष्ट्रीय स्तर का शूटर था। स्पोर्ट्स अचीवमेंट के चलते उसे 2001 में पंजाब पुलिस में एएसआई की पोस्ट मिली थी। उसने अपनी एलएलबी और एमबीए डिग्री की। 2004 में लॉ करने के बाद उसने पुलिस की नौकरी से इस्तीफा दे दिया था और वकालत से जुड़ गया।

तस्वीरें वायरल करने से हुआ था बवाल

23 दिसंबर, 2014 से 22 अगस्त, 2015 के बीच सिप्पी और कल्याणी की वॉट्सएप चैट में खुलासा हुआ कि सिप्पी ने कल्याणी की आपत्तिजनक तस्वीरें एक युवक को भेजी थी। इसके अलावा इनके फोन की चैट, ई मेल आदि भी सीबीआई ने निकाली थी। सीबीआई का कहना था कि उनके पास कल्याणी के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं। ऐसे में अनट्रेस रिपोर्ट दायर की गई थी। हालांकि जांच जारी रखी गई और अब 15 जून ही कल्याणी गिरफ्तार हुई। सीबीआई ने अज्ञात के खिलाफ 13 अप्रैल, 2016 को हत्या, आपराधिक साजिश रचने, सबूत मिटाने और आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया था।

कल्याणी का फर्जी अकाउंट बनाया

सीबीआई रिपोर्ट के मुताबिक सिप्पी ने अपनी गर्लफ्रेंड (नंबर 6) को कल्याणी का फेसबुक पर फर्जी अकाउंट बना उसकी आपत्तिजनक तस्वीरें अपलोड करने को भी कहा था। यह तस्वीरें अपलोड कर उसे स्क्रीन शॉट्स भी आगे भेजे थे। सिप्पी ने कल्याणी के दोस्तों को भी वह फोटोज भेजे थे। कल्याणी एक वक्त इतना तंग हो गई थी कि उसने सिप्पी से शादी करने से ही मना कर दिया था।

हत्या से महीना पहले लंदन गया था सिप्पी

सीबीआई के मुताबिक 20 अगस्त, 2015 को सिप्पी की गर्लफ्रेंड (नंबर 1) ने उसे चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर शताब्दी ट्रेन लेकर दिल्ली पहुंचने के लिए ड्रॉप किया था। दिल्ली में गर्लफ्रेंड (नंबर 2) के साथ सिप्पी रात को रुका और 21 को दोपहर 1.45 बजे लंदन की फ्लाइट पकड़ी। 14 सितंबर, 2015 तक सिप्पी और कल्याणी मेल के जरिए टच में थे। सिप्पी ने उसे उसके घर के बाहर संदिग्धों का भी बताया था। कल्याणी ने उसे सजग रहने के लिए कहा था।

सिप्पी ने गलतियां कबूली थी

सीबीआई अनट्रेस रिपोर्ट के मुताबिक 29 अगस्त, 2015 को सिप्पी ने अपनी गलतियों को कबूल करते हुए कल्याणी से शादी की गंभीरता पर बात की थी। 30 अगस्त को सिप्पी ने कहा कि उसे पता है कि आंटी (जस्टिस सबीना) हाईकोर्ट में उसके लिए लड़का ढूंढ रहे हैं। वह उसके बिना नहीं रह सकता। 16 सितंबर को सिप्पी इंडिया आया था और उसे गर्लफ्रेंड (नंबर 2) ने रिसीव किया। 2 दिन उसके साथ रुक वह 18 को चंडीगढ़ एयरपोर्ट आया, जहां गर्लफ्रेंड(नंबर 1) ने उसे रिसीव किया।