कमाल दा आइडिया:किसी के काले गेहूं हिट तो कोई आईलेट्स बैंड के आधार पर बनवा रहा जोड़ियां

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में युवा स्टार्टअप की राह पर आगे बढ़ रहे हैं। इसमें उनकी मदद कर रहा है राज्य सरकार का आईएमपंजाब मिशन। इसने अपनी शुरुआत के दो साल में ही 270 स्टार्टअप को फायदे की विभिन्न स्टेज में ला खड़ा किया है। इनमें किसी के काले गेहूं के आटे का आइडिया देशभर में छा गया और किसी का एक जैसे आईलेट्स (आइल्स) बैंड वालों की शादी करने की वेबसाइट हिट है। इसके साथ ही आईएमपंजाब ने सूबे से 936 उभरते आंत्रप्रेन्योर्स को भी अपने साथ रजिस्टर्ड किया है, जिनके आइडिया को संभावनाओं से भरपूर पाया है।

पंजाब में 3 इनोवेशन हब भी बनाए जा रहे हैं, जिनमें इनोवेटिव आइडिया को एक्सपेरिमेंट कर परखा जाएगा कि वे बाजार में कितना सफल हो पाते हैं। आईएमपंजाब के डायरेक्टर और सीईओ सोमवीर आनंद का कहना है कि हम पंजाब भर में कैंप लगा रहे हैं। स्कूलों-कॉलेजों में आइडियाथॉन्स कर रहे हैं। मिशन के पास 150 करोड़ रुपए का एक वेंचर फंड भी है जो कि स्टार्टअप के मदद के लिए है। इसमें 10% फंड पंजाब सरकार का है। अमेरिका में बैंकर रहे आनंद ने बताया कि एनआरआई को भी जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

बढ़ते स्टार्टअप; नई और अलग सोच ही है यहां सक्सेस की चाबी
अबोहर से 20 किलोमीटर दूर अपने खेतों में अनुष्का नियोल काले से लेकर गोल्डन गेहूं तक को आर्गेनिक तरीके से उगा रही है। इसके साथ ही बेकरी से पिज्जा तक के लिए होलव्हीट से लेकर डुरम व्हीट की कई किस्मों की खेती कर रही अनुष्का ने 20 महीनों में ही अपने स्टार्टअप को सफल बना दिया। आज उनके द्वारा तैयार किए जा रहे विभिन्न किस्म के आटे के ग्राहक मुंबई से लेकर बेंगलुरु तक में हैं।

साल 2020 में स्टार्टअप के तौर पर शुरू हुआ ये पोर्टल पंजाब के कस्बे रायकोट से निकला है। इसके फाउंडर अमरिंदर सिंह ने एनआरआई, आइलेट्स और जनरल कैटेगरी के आधार पर तैयार किया। यह स्टार्टअप कई सफल जोड़ियां बनाने में सफल रहा है। आइलेट्स में ज्यादा बैंड वालों के लिए अलग से सेगमेंट हैं ताकि जोड़ी को विदेश जाने में आसानी हो।

ऋषि पुजारा ने एक ऐसे वॉयस टू टेक्स्ट फाइल तैयार करने वाले आईटी सॉल्यूशन को तैयार किया है जो कि करीब 25 भाषाओं में टेक्सट फाइल्स तैयार कर सकता है। इसमें किसी भी यूजर की पर्सनल वॉयस को आसानी से समझने की क्षमता है जबकि अन्य मौजूदा इस तरह के आईटी सॉल्यूशन एक खास अंदाज में ही स्पीच को टेक्सट में बदलने की क्षमता रखते हैं।

कैसे कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन और कैसे की जाएगी मदद

  • IMPunjab.org पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
  • वेबसाइट पर जाते ही आपको सलाह और रजिस्ट्रेशन के ऑप्शन मिलेंगे।
  • इन दोनों पर ही क्लिक करने पर आपको अपने स्टार्टअप और वेबसाइट आदि की जानकारी देनी होगी।
  • फिर देखा जाएगा कि स्टार्टअप ग्रोथ के किस चरण में है और उसे किस तरह की मदद चाहिए।
  • उसे टेक्निकल सपोर्ट या किसी सर्विस या प्रोडक्शन के लिए फंडिंग की कितनी जरूरत है।
  • अगर फंडिंग की जरूरत है तो स्टार्टअप को कई पैरामीटर पर परखा जाएगा।
  • इसमें यह देखा जाएगा कि वह अपने रिर्सोसेज से कितनी फंडिंग जुटा सकता है। स्टार्टअप की सर्विस या प्रोडक्ट डेवलपमेंट किस दौर में है और क्या कोई इनवेस्टर उसमें निवेश करने के लिए तैयार है।
  • स्टार्टअप अपनी इक्विटी बेचने के लिए तैयार है और उसे सही इनवेस्टर मिल सकता है।
  • उसे बताया जाएगा कि किस-किस जगह पर अपना आइडिया और ग्रोथ प्लान बताने पर कितनी फंडिंग मिल सकती है और वह उसके लिए सलाह दी जाएगी।

एक समय में 25 स्टार्टअप के लिए स्पेस
आईएमपंजाब मिशन को पंजाब सरकार मदद कर रही है। पहले 3 साल के लिए 30 करोड़ रुपए की फंडिंग और मोहाली के एयरोसिटी में कलकट भवन में 8000 वर्ग फीट एरिया दिया गया है। यह अगस्त के अंत तक ही ऑपरेट होने लगेगा। अभी यह आईएसबी मोहाली से ऑपरेट हो रहा है।

  • करीब दो फ्लोर में फैले आईएम पंजाब मिशन के स्टार्टअप इन्क्यूबेटर में एक ही समय में 20-25 स्टार्टअप्स को स्पेस मिल सकेगा। वहां पर वे प्रमुख तौर पर वर्किंग स्टेशन, बोर्डरूम मीटिंग, क्लाइंट और इनवेस्टर मीटिंग आदि कर सकेंगे। इससे उनको अपने शुरुआती खर्चों को सीमित करने में मदद मिलेगी।
  • स्टार्टअप को स्पेस देने से पहले उसकी वर्तमान स्थिति और जरूरत को देखा जाएगा। इन सभी मानकों को देखने के बाद ही स्टार्टअप को स्पेस देने के लिए चुना जाएगा।
खबरें और भी हैं...