• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Sonu Sood Coming Into Politics?, Said Leaders Should Resign If The Promises Of The Manifesto Are Not Fulfilled; Have Met Kejriwal, Waiting For CM Face In Punjab

सोनू सूद के राजनीति में आने की अटकलें:बोले- मेनिफेस्टो के वादे पूरे नहीं तो इस्तीफा दें नेता; केजरीवाल से मिल चुके, पंजाब में CM चेहरे का इंतजार

चंडीगढ़एक महीने पहले

बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने कहा है कि अगर मेनिफेस्टो में किए वादे पूरे न हो पाएं तो नेताओं को इस्तीफा दे देना चाहिए। इस बयान से फिर एक बार उनके राजनीति में आने की अटकलें लगने लगी हैं। कहा तो यह भी जा रहा है कि वे आम आदमी पार्टी में शामिल होकर पंजाब में CM चेहरा बन सकते हैं।

हालांकि, सोनू सूद पहले कह चुके हैं कि वे राजनीति में नहीं आएंगे। आप के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने भी कुछ दिन पहले कहा था कि पंजाब में उनकी पार्टी का CM फेस सिख समाज से होगा। सोनू ने कुछ समय पहले केजरीवाल से मिले थे, तब से उनके राजनीति में आने की सुगबुगाहट है।

सब वादे करते हैं, इसका एग्रीमेंट होना चाहिए
सोनू सूद ने कहा कि मैं कुछ फीलिंग शेयर करना चाहता हूं। मैं बहुत से वीडियो देख रहा था कि बहुत सारे नेता, सरकार और राज्य के लोग मेनिफेस्टो शेयर करते हैं। वो कहते हैं कि अगर हमारी सरकार आए तो हम लोगों को ये चीजे देंगे। उसमें फ्री भी होता है। मुझे लगता है कि जब भी यह मेनिफेस्टो आते हैं तो आम लोगों के साथ एग्रीमेंट होना चाहिए। लोगों को एग्रीमेंट की कॉपी देनी चाहिए कि इस टाइम लिमिट में मैं यह काम करूंगा। अगर मैं काम नहीं कर सका तो इस्तीफा भी होना चाहिए कि अगर मैं डिलीवर नहीं कर सका तो कुर्सी छोड़ दूंगा।

सोनू सूद ने अगस्त में केजरीवाल से मुलाकात की थी
सोनू सूद ने अगस्त में केजरीवाल से मुलाकात की थी

पिछली सरकारों को दोष दे देते हैं नेता
हर गली-शहर में जहां भी लोग मेनिफेस्टो दें, वहां लोगों को एग्रीमेंट और इस्तीफा भी देना चाहिए। इसकी एक टाइम लिमिट फिक्स होनी चाहिए। अक्सर हम देखते हैं कि नेता कहते हैं कि पिछली सरकार कैसे फेल हुई। लोगों से बेहतर कोई नहीं जानता कि कौन से वादे पूरे नहीं हुए। वहां की क्या समस्या है। हमें यह संदेश देना चाहिए कि अगर मैं आया तो मैं क्या बदलाव दूंगा। नेता वो होने चाहिए, जिसे कुर्सी की भूख न हो।

शपथ लेते वक्त इस्तीफे की कॉपी भी हो
जब भी नेता शपथ ले तो नेता अपनी जेब में इस्तीफा भी रखना चाहिए। अगर मैं काम नहीं कर पाया तो यह इस्तीफा भी रखा हुआ है। मुझे लगता है कि आने वाले समय में यह माहौल बनाएं कि शिकायत न करनी पड़े कि बेरोजगारी, हेल्थ सिस्टम खराब है। मैंने भी बचपन से मेनिफेस्टो सुने हैं, लेकिन अब वक्त आ गया है कि हमारे पास मेनिफेस्टो से पहले उनके एग्रीमेंट और इस्तीफे की कॉपी हो। लोग कह सकें कि नेता फेल है या पास।

मेरी कोशिश रहेगी, अच्छे लोग आगे आएं
सूद ने कहा कि मेरी कोशिश रहेगी कि इस बार अच्छे लोग आगे आएंगे और लोगों और उनके बच्चों के भविष्य को अच्छा बनाएंगे। सूद की इसी बात को सियासत में आने से जोड़कर देखा जा रहा है। सोनू सूद पंजाब के मोगा से रहने वाले हैं। वह मुंबई में रहते हैं, लेकिन उनका परिवार मोगा में है। वह कोरोना काल में लोगों को उनके घर तक पहुंचाने और बीमार लोगों की मदद की वजह से खूब चर्चा में रहे।

खबरें और भी हैं...