पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Street Play Presented In Maulijagran Civil Dispensary; Apart From Prevention And Treatment Of Diarrhea, Viewers Were Told About The Importance And Propaganda Of Corona Vaccination.

सबके लिए जनहित में जारी, डायरिया है घातक बीमारी:मौलीजागरां सिविल डिस्पेंसरी में खेला गया नुक्कड़ नाटक;डायरिया के बचाव एवं इलाज के अलावा कोरोना वैक्सीनेशन के महत्व और दुष्प्रचार पर की बात

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नाटक में ORS के घोल और जिंक टेबलेट्स के उपयोग व डोज के बारे में भी बताया गया। - Dainik Bhaskar
नाटक में ORS के घोल और जिंक टेबलेट्स के उपयोग व डोज के बारे में भी बताया गया।

भले ही लेक्चर दिए जाएं या विशेष सेशंस लगाए जाएं। मनाेरंजक अंदाज में कहने से जो बात आसानी से समझ आती है, उसका कोई मुकाबला नहीं। यही वजह है कि अब इस बात को बखूबी समझते हुए शहर के कलाकारों से टाइअप किया जा रहा है ताकि वह अपने मनोरंजक अंदाज में शहरवासियों को अच्छी सेहत, अपनी केयर और कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जागरुक कर सकें।

इसी के अंतर्गत शनिवार को मौलीजागरां की सिविल डिस्पेंसरी में नुक्कड़ नाटक- सबके लिए जनहित में जारी, डायरिया है घातक बीमारी खेला गया। डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज,चंडीगढ़ सेक्टर 16 और रीजनल आउटरीच ब्यूरो(मिनिस्ट्री आफ इनफॉरमेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग) के सहयोग से थिएटर फॉर थिएटर चंडीगढ़ ने डायरिया के बचाव एवं इलाज पर आधारित इस नाटक को पेश किया। नाटक ने एक ओर जहां दर्शकों का मनोरंजन किया, वहीं दूसरी ओर सोशल अवेयरनेस का काम भी बखूबी किया ।

इसे हरविंदर सिंह ने लिखा जबकि प्रिंस शर्मा ने इसका निर्देशन किया था। नाटक के माध्यम से डायरिया के बचाव और इलाज से लेकर उसके सिंप्टम्स के बारे में बात की गई। इसके साथ ही कोरोना वैक्सीनेशन के महत्व, दुष्प्रचार और वैक्सीनेशन कि दोनों डोज़ के महत्व को भी दर्शकों के सामने बेहद सजग ढंग से पेश किया गया।

नाटक में इस बात पर विशेष जोर डाला गया कि अक्सर छोटे-मोटे रख रखाव न होने के चलते हम डायरिया जैसी घातक बीमारियों को स्वयं बुलावा दे देते हैं, जिसकी चपेट में कोई भी व्यक्ति बेहद आसानी से आ जाता है,खासकर की नवजात शिशु। नाटक में ORS के घोल और जिंक टेबलेट्स के उपयोग व डोज के बारे में भी बताया गया।

खबरें और भी हैं...