पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Such A 'gun' That Will Make It Easy To Apply The Skin Of A Burn Patient, The Job Of A Plastic Surgeon Will Be Easy

जले के भर सकेंगे जख्म:ऐसी ‘बंदूक’ जो जलने वाले मरीज की स्किन लगाना करेगी आसान, प्लास्टिक सर्जन का काम होगा आसान

चंडीगढ़20 दिन पहलेलेखक: ननु जोगिंदर सिंह
  • कॉपी लिंक

एक ऐसी बंदूक जिसके जरिए प्लास्टिक सर्जन का काम आसान हो जाएगा। जलने वाले मरीजों की बड़ी सर्जरी के दौरान आसानी से मरीज की स्किन को जख्मों पर लगाना आसान बनाने वाली बंदूक को पहला स्थान मिला है चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की ओर से कराए गए डॉ एपीजे अब्दुल कलाम इंटरनेशनल इनोवेशन कॉन्क्लेव के दौरान। आईआईटी मुंबई के साई प्रसाद पोएरेकर ने इसे तैयार किया है। वे इस बंदूक बनाने के लिए अपने साथी डॉक्टर निखिल पांसे के साथ कंपनी भी शुरू कर चुके हैं।

प्रेजेंटेशन के दौरान उन्होंने बताया कि प्लास्टिक सर्जन के सामने सबसे बड़ी समस्या रहती है कि बड़े जख्मों पर स्किन कैसे लगाई जाए। इस ट्रांसप्लांटेशन के बाद ही मरीज के ठीक होने की संभावना बढ़ती है। हेल्दी स्किन के लिए सबसे सही विकल्प है स्किन ग्राफ्टिंग। आर्टिफिशियल स्किन का उपयोग भी किया जाता है।

उन्होंने जो गन तैयार की है उसमें डोनर एरिया में 80 परसेंट की कमी आएगी। यानी मरीज की स्किन पहले जितनी लगानी पड़ती थी, उसके मुकाबले अब बहुत कम निकालनी होगी। प्रोसेस कम होगा, जिस वजह से सर्जरी भी कम टाइम के लिए होगी और नतीजे बेहतर। चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी नेम को ₹100000 का पुरस्कार दिया है।

खबरें और भी हैं...