पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Temporary Teachers Sitting In Front Of Punjab School Education Board, Mohali For The Last 24 Days Demanding To Be Confirmed, Are Not Obeying The Trust Of The Officials.

पंजाब के 13 हजार टीचरों की मांग:मोहाली के पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के सामने पिछले 24 दिनों से पक्के होने की मांग पर बैठे अस्थायी टीचर अधिकारियों के भरोसे को नहीं मान रहे

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्थायी टीचरों ने पिछले दिनों सीएम हाउस की ओर जाने का प्रयास किया था। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
अस्थायी टीचरों ने पिछले दिनों सीएम हाउस की ओर जाने का प्रयास किया था। फाइल फोटो
  • टीचरों की ओर से आज भी शिक्षा बोर्ड के सामने रोष प्रदर्शन किया जाएगा

मोहाली के पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के बाहर पिछले करीब 24 दिनों से अपनी मांगों को लेकर पंजाब भर के अस्थायी टीचरों की ओर से रोष प्रदर्शन और धरना दिया जा रहा है। टीचर्स की ओर से आज भी बोर्ड के सामने दोपहर में नारेबाजी और प्रदर्शन किया जाएगा।

टीचर्स का कहना है कि सरकार के अधिकारियों से कई बार बातचीत हो चुकी है लेकिन केवल आश्वासन मिला है सरकार की ओर से कोई लिखित रूप में नहीं दिया जा रहा है जिससे सरकार के आश्वासन पर शंका है। अस्थायी टीचर्स से बात करने के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्री पंजाब के राजनीतिक सलाहकार कैप्टन संदीप संधू पहुंचे और उन्होंने कहा कि उनकी मांगों को पूरा कर दिया जाएगा।

इस पर टीचर्स का कहना था कि जब तक उनकाे सरकार की ओर से लिखित में नहीं दिया जाता तब तक वे अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे। टीचर नेता अजमेर सिंह की ओर से बताया गया कि सरकार के अधिकारियों के साथ मीटिंग का दौर चल रहा है लेकिन केवल आश्वासन मिल रहे है।

पंजाब के करीब 13 हजार अस्थायी टीचरों की ओर से अपनी मांगों को लेकर कई बार सीएम पंजाब की कोठी को घेरने की कोशिश की गई जिसमें पुलिस से हुई झड़प में उनके कई साथी घायल हो गए है। रोष प्रदर्शन में काफी संख्या में पहुंची महिलाएं अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ प्रदर्शन में शामिल है।

महिला टीचरों का कहना है कि वे पिछले कई सालों से बच्चों को स्कूलों में पढ़ा रही है लेकिन सरकार की ओर से उन्हें पक्का नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार अस्थायी टीचरों को पक्का करने का ऐलान नहीं कर देती वे अपने बच्चों सहित यहां पर धरना देते रहेंगे चाहे उन्हें यहां कितने ही दिन बैठना पड़े।

खबरें और भी हैं...