पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Artist Frightened Corporates By Becoming A Scarry Crow In The Wheat Field, Said Do Not Even Make The Mistake Of Coming In.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कला का अलग अंदाज:गेहूं के खेत में खुद स्केरी क्रो बनकर कलाकार ने डराया कार्पोरेट्स को,कहा-खबरदार, अंदर आने की गलती भी न कर देना

चंडीगढ़2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इस काम में चरणजीत खुद स्केरी क्रो बने। पेपर से मास्क बनाया। हाथों पर परखी लगाई है। मोहाली एयरपोर्ट के पास यह गेहूं का खेत है। - Dainik Bhaskar
इस काम में चरणजीत खुद स्केरी क्रो बने। पेपर से मास्क बनाया। हाथों पर परखी लगाई है। मोहाली एयरपोर्ट के पास यह गेहूं का खेत है।

देशभर में अलग-अलग क्षेत्र से जुड़े लोग और बुद्धिजीवी अपने-अपने अंदाज में कृषि बिलों का विरोध और किसानों का समर्थन कर रहे हैं। गायक गाना गाकर अपने भावनाएं व्यक्त कर रहे हैं, थिएटर कलाकार नाटकों की प्रस्तुति से तो फाइन आर्ट कलाकार अपने कैनवास को अपनी भावनाएं व्यक्त करने का जरिया बना रहे हैं। इस बीच हम आपको रू-ब-रू करवा रहे हैं चंडीगढ़ के एक ऐसे कलाकार से जिन्होंने कृषि बिलों का समर्थन करने के लिए साइट आर्ट को माध्यम बना लिया। यानी कि वे खुद शहर के आसपास के खेताें में गए और वहां इंस्टॉलेशंस तैयार कीं।

यहां हम बात कर रहे हैं शहर के कलाकार चरणजीत सिंह की जो सेक्टर 10 स्थित गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ आर्ट में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। वे एक मूर्तिकार हैं लेकिन पेंटिंग और ड्रॉइंग भी बनाते हैं। इस बार उन्होंने किसानों के खेतों में स्केरी क्रो, बार कोड और टैग के जरिए यह दिखाने की कोशिश की है कि कैसे कार्पोरेट्स हमारे किसानों को नुकसान पहुंचाएंगे। चरणजीत बताते हैं कि खेतों में फसल काे कौओं व चिड़ियों से बचाने के लिए स्केयर क्रो लगाए जाते हैं, लेकिन इनके अलावा उन कौओं से बचाना भी जरूरी है जो किसानों को किसी न किसी तरह नुकसान पहुंचाने में लगे है। इसलिए वह खेतों में अपने आर्ट वर्क को इंस्टॉल करते हैं और कई बार खुद भी परफॉर्म करते हैं।

वे बताते हैं कि मैं पिछले दो साल से किसानों व फसलों को लेकर काम कर रहा हूं। उनकी समस्याओं काे मैं अपने काम के माध्यम से बताता हूं। दिल्ली में जब से प्रदर्शन शुरू हुआ, तब से साइट स्पेसिफिक आर्ट बना रहा हूं। इसमें जो जगह होती है उसी के मुताबिक, वहीं जाकर काम किया जाता है। मुझे यह बेहतर विकल्प लगा। मैं आसपास के खेतों में गया और अपनी बात कही। आगे भी ऐसा ही करता रहूंगा। इन काम में मैंने बार कोड और टैग के जरिए बताया कि कॉरपोरेट किस तरह से फसलों में घुस रहा है।

सिंघु बॉर्डर से मिली प्रेरणा

चरणजीत सिंह सिंघु बॉर्डर भी गए। वहां किसानों से बात की और हालात देखे। क्याेंकि कलाकार जो पढ़ता-देखता है उसके काम में वह झलकता ही है। कई बार कलाकार विषय को भावनात्मक टच भी देता है। इसलिए खेतों में जो भी बनाया, वह सिंघु बॉर्डर के हालातों व माहोल से प्रेरित था।

आर्ट का शीर्षक - बार कोड।
आर्ट का शीर्षक - बार कोड।

बार कोड

इस कलाकृति के तहत सबसे पहले मैंने जो वर्क तैयार किया, उसको शैतान टाइटल दिया। मोहाली के आसपास के तीन चार खेतों में इसे कुछ समय के लिए इंस्टॉल किया। इस काॅन्सेप्ट को सोचने से लेकर लागू करने में मुझे 10 दिन लगे। पेपर पर बार कोड प्रिंट करके लगाया है और सींग एक्रेलिक कलर से बनाए हैं। यह तस्वीर संते माजरा के खेतों की है।

काम का शीर्षक- शैतान 2
काम का शीर्षक- शैतान 2

टैग

यह टैग सरसों के खेत में लगाए हैं। इस काम का शीर्षक शैतान- 2 है। यह पहले के काम का दूसरा हिस्सा है। इस खेत में 50 टैग इंस्टॉल किए। इसमें कार्पोरेट्स के चिन्ह के तौर पर टैग्स का इस्तेमाल किया गया और दिखाया है कि कैसे कार्पोरेट्स का खतरा इस वक्त किसानी पर मंडरा रहा है। इस संकल्पना पर काम करने के लिए एक हफ्ते का समय लगा। यह टैग भी प्रिंट किए गए हैं। यह तस्वीर पंजाब के रूपनगर जिले से है।

स्केरी क्रो

इस काम में चरणजीत खुद स्केरी क्रो बने। पेपर से मास्क बनाया। हाथों पर परखी लगाई है। मोहाली एयरपोर्ट के पास यह गेहूं का खेत है। संकल्पना को सोचना, फिर उस पर काम करना और जगह पर जाने तक एक हफ्ते का समय लगा। यह तस्वीर भी मोहाली के खेत की है। इसमें चरणजीत ने खुद किसान बनकर कार्पोरेट्स को डराया है और खेतों में न घुसने की चेतावनी दी है। इसके साथ ही दिखाया है कि मौजूदा समय में खेती पर कितना संकट है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser