पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Child Was Suffering From Heart Disease, On The Recommendation Of PGI, The High Court Approved The Abortion Of 25 Weeks.

मां को बचाने की कवायद:बच्चा था दिल की बीमारी से पीड़ित,PGI की सिफारिश पर हाईकोर्ट ने 25 हफ्ते के गर्भपात को दी मंजूरी

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जस्टिस राजबीर सेहरावत ने फैसले में कहा कि PGI की सिफारिश पर महिला की जान के खतरे को देखते हुए गर्भपात के आदेश दिए जा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
जस्टिस राजबीर सेहरावत ने फैसले में कहा कि PGI की सिफारिश पर महिला की जान के खतरे को देखते हुए गर्भपात के आदेश दिए जा रहे हैं।

25 सप्ताह से अधिक के गर्भ में पल रहे शिशु में हृदय रोग के चलते पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ स्थित PGI को महिला के गर्भपात के आदेश दिए हैं। जस्टिस राजबीर सेहरावत ने फैसले में कहा कि PGI की सिफारिश पर महिला की जान के खतरे को देखते हुए गर्भपात के आदेश दिए जा रहे हैं। ऐसे में PGI सभी सुरक्षा संबंधी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए जरूरी कार्रवाई करे।

चंडीगढ़ निवासी महिला की तरफ से याचिका दायर कर कहा गया था कि 20 सप्ताह से ज्यादा का गर्भ होने के चलते कोर्ट गर्भपात की अनुमति दे। हाईकोर्ट ने PGI को महिला की चिकित्सा जांच के आदेश दिए। PGI ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि गर्भ में पल रहा शिशु हृदय रोग से पीड़ित है जिसके चलते वह सामान्य जीवन नहीं बिता सकता। साथ ही मां के लिए भी उसे जन्म देना जान के लिए खतरनाक हो सकता है। ऐसे में गर्भपात कराया जाना चाहिए। PGI की रिपोर्ट पर हाईकोर्ट ने PGI को ही गर्भपात करने के आदेश दिए।

खबरें और भी हैं...