पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Death Of A Young Man Who Was Referred To PGI, The Family Members Allege – Doctors Lost Their Lives Due To Negligence

युवक की मौत के बाद हंगामा:पीजीआई रेफर किए युवक की मौत, घरवालों का आरोप- डॉक्टर्स की लापरवाही से गई जान

बनूड़19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
युवक के घरवालों-रिश्तेदारों ने एंबुलेंस ड्राइवर को बनूड़ बैरियर के पास पकड़कर घेरा और पुलिस बुलाई। - Dainik Bhaskar
युवक के घरवालों-रिश्तेदारों ने एंबुलेंस ड्राइवर को बनूड़ बैरियर के पास पकड़कर घेरा और पुलिस बुलाई।
  • डाॅक्टर्स पर मरीज को गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप, पुलिस को दी शिकायत, जांच शुरू
  • कहा- बनूड़ के नीलम हॉस्पिटल में एडमिट था मरीज, इंजेक्शन लगाने के बाद तबीयत बिगड़ी तो किया रेफर

बनूड़ के वार्ड नंबर-9 के रहने वाले 33 साल के युवक की एक प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज के दौरान हालत बिगड़ गई। हाॅस्पिटल प्रबंधन ने पेशेंट को पीजीआई रेफर कर दिया। घरवाले युवक को पीजीआई ले आए, यहां डॉक्टर्स ने युवक को मृत घोषित कर दिया।

पीड़ित परिवार वालों का आरोप है कि नीलम हाॅस्पिटल के डाॅक्टरों ने इलाज के दौरान लापरवाही बरती है। उनका आरोप है कि इलाज के दौराण गलत टीका लगाने से ही युवक की मौत हुई है। अपने बचाव के लिए हाॅस्पिटल प्रबंधन जानबूझ कर मरीज को इलाज के लिए पीजीआई रेफर कर दिया। जबकि उसकी पहले ही मौत हो गई थी।

सुरिंदर सिंह ने बताया कि शुक्रवार को उनके भाई तेजिंदर के पेट में दर्द हुआ था। वे उसे नीलम हाॅस्पिटल ले गए तो डाॅक्टरों ने सुबह आने के लिए कहा। वे तेजिंदर को सुबह हाॅस्पिटल ले गए तो डाॅक्टरों ने कहा कि अल्ट्रासाउंड करवाना पड़ेगा, लेकिन हमारे पास डाॅक्टर नहीं है, आप बाहर से करवा लो। अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट देखने पर डॉक्टरों ने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है। पित्त में स्टोन है, ऑपरेशन करना पड़ेगा। इसके लिए आप कैश काउंटर पर पेमेंट जमा करवा दीजिए।

चार घंटे तक दर्द से तड़पता रहा, नहीं दी दवाई

सुरिंदर ने कहा कि हाॅस्पिटल में चार घंटे तक तेजिंदर दर्द से तड़पता रहा। लेकिन डाॅक्टरों ने कोई दवाई नहीं दी। बाद में डाॅक्टरों ने तेजिंदर काे एक टीका लगाया तो उसकी हालत बिगड़ गई। उन्हें कहा गया कि मरीज की हालत नाजुक है और पीजीआई रेफर किया जा रहा है। रेफर करने के बाद वे भाई को नीलम हॉस्पिटल की एंबुलेंस में ही लेकर पीजीआई पहुंचे। यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जब एंबुलेंस में डेडबाॅडी रखने के लिए बाहर आए तो हाॅस्पिटल के ड्राइवर ने एंबुलेंस चुपके से भगा ली। डेड बाॅडी ले जाने के लिए दोबारा एंबुलेंस की। सुरिंदर ने बताया कि हाॅस्पिटल की एंबुलेंस को परिजनों और अन्य लोगों ने बनूड़ बैरियर के पास घेर लिया। पुलिस एंबुलेंस को थाने ले गई। वहीं, घरवाले और रिश्तेदार डेड बाॅडी को लेकर बनूड़ थाना पहुंचे और नीलम हाॅस्पिटल के डॉक्टरों के खिलाफ शिकायत दी।

खबरें और भी हैं...