पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The High Court Said The Minor Daughter in law Stayed With Her Mother in law Until She Attained Adulthood, The Girl Did Not Want To Live With Her Parents.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

युवक-युवती की याचिका पर सुनवाई:हाईकोर्ट ने कहा-नाबालिग बहू बालिग होने तक अपनी सास के साथ रहे, अपने माता-पिता के साथ नहीं रहना चाहती थी लड़की

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अक्सर कम उम्र में शादी करने वाले नाबालिग जोड़ों को अदालतें बालिग होने तक प्रोटेक्शन होम भेजती हैं, लेकिन पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने ऐसे ही एक मामले में लड़की (बहू) को बालिग होने तक लड़के की मां (सास) के साथ रहने की छूट दी है। जस्टिस संजय कुमार ने फैसले में कहा कि लड़की अपने माता-पिता के साथ नहीं रहना चाहती। इसके अलावा उसे जबरन प्रोटेक्शन होम भी नहीं भेजा जा सकता।

ऐसे में लड़के की मां लड़की की जिम्मेदारी लेने को तैयार है और इस संबंध में उसने कोर्ट में एफिडेविट भी दिया है। इन परिस्थितियों में बेहतर होगा कि लड़की बालिग होने तक लड़के की मां की देखरेख में रहे। साथ ही चाइल्ड वेलफेयर कमेटी एक अधिकारी की ड्यूटी लगाए कि वे महीने में दो बार लड़की से मिले और उसका हाल-चाल जानें। बता दें कि लड़का-लड़की ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सुरक्षा सुनिश्चित किए जाने की मांग की थी।

बालिग होने से पहले बच्चे मानसिक रूप से वयस्क

हाईकोर्ट ने फैसले में कहा कि अलग-अलग स्टडी यह दर्शाती है कि बच्चे इन दिनों बालिग होने से पहले मानसिक रूप से वयस्क हो चुके हैं। खासतौर पर साइंटिफिक स्टडी यह दर्शाती है कि लड़कियां अपने हमउम्र लड़कों से ज्यादा मैच्योर होती हैं। यही कारण है कि शादी के लिए लड़की की आयु 18 साल और लड़के की आयु 21 साल तय की गई है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें