2.71 करोड़ से बैक लेन की मरम्मत कराएगा एमसी:शहर के सात सेक्टर्स में बैक लेन की सफाई न करवाए जाने का मामला हाउस में उठाया गया था

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम शहर के सात सेक्टर्स की बैक लेन की जल्द ही रिपेयर करवना शुरू करवाएगा।-फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
नगर निगम शहर के सात सेक्टर्स की बैक लेन की जल्द ही रिपेयर करवना शुरू करवाएगा।-फाइल फोटो

नगर निगम शहर के सात सेक्टर्स (सेक्टर 3, 4, 7, 8, 9, 10, 11) की बैक लेन की जल्द ही रिपेयर करवना शुरू करवाएगा। इसके लिए 3 कराेड़ 8 लाख 13 हजार का टेंडर काॅल किया था। टेंडर 5 नवंबर दाेपहर तक रिसीव किए गए और शाम काे टेक्निकल बिड खाेली गई। बिड में चार (केके कंस्ट्रक्शन, शाम लाल कंस्ट्रक्शन, संदीप शर्मा कंस्ट्रक्शन वर्क और पैसिफिक) कंपनी आई। कुछ देर बाद इनकी फाइनेंशियल बिड भी खाेली गई। इसमें 12% यानि 2.71 लाेएस्ट वन पेसिफिक कंपनी रही।

अब एमसी कंपनी काे ही अगले हफ्ते तक टेंडर अलाॅट कर देगी। कंपनी भी काम काे एमसी चुनाव आचार संहिता शरू हाेने से पहले की काम शुरु करवा देगी। वार्ड नंबर एक के इन सेक्टर की बैक लेन की रिपेयर काे लेकर एरिया काउंसलर एवं सीनियर डिप्टी मेयर महेश इंद्र सिंह सिद्धू अगस्त की हाउस मीटिंग में एजेंडा लेकर आए थे। तब इस पर चर्चा की थी कि उनके वार्ड के सेक्टर 3, 4, 7, 8,9,10 और 11 की बैक लेन की हालत काफी खराब है। उनके वार्ड के सभी सेक्टर की बैक लेन की रिपेयर की जानी चाहिए।

बैक लेन की खस्ताहाल काे लेकर वार्ड के लाेग काफी समय से मामला उठा रहे हैं। एरिया काउंसलर के कहने पर हाउस में एजेंडा पास हाे गया था। बल्कि बाकी सेक्टर की बैक लेन की रिपेयर का मामला भी उठा था। बैक लेन की रिपेयर (हाॅर्टिकल्चर, राेड और एमओएच) का काम मिलकर कई विभाग देखते हैं लेकिन काेई भी विभाग जिम्मेदारी नहीं लेता है। इसलिए बैक लेन की सफाई और टूट फूट नहीं हाे पाती है।

बैक लेन में सभी सर्विस लेन बिछी हुई हैं, सीवर या वाॅटर सप्लाई लाइन लीकेज हाेने पर रिपेयर करते समय टूट जाती है ताे वह रिपेयर नहीं हाेती है। वहीं लाेग भी अपने घराें में निर्माण करते समय बैक लेन में कंस्ट्रक्शन सामग्री डाल देते हैं। इससे भी बैक लेन में गंदगी जमा हो जाती है। बाद में उसकी सफाई नहीं हाे पाती है।

अब टेंडर की गति पर उठने लगे सवाल
निगम के चुनाव दिसंबर में हाेने हैं। चुनाव आचार संहिता 15 नवंबर तक लागू हाे सकती है। इसके लागू हाेने पर डेवलपमेंट वर्क नए शुरू नहीं हाे सकेंगे। इसी काे देखते हुए निगम के इंजीनियर विंग ने सेक्टर 3, 4, 7,8,9,10 और 11 की बैक लेन रिपेयर करने का 29 अक्टूबर काे 3 कराेड़ 8 लाख 13 हजार का टेंडर लगाया। टेंडर 5 नवंबर काे रिसीव किया गया और 5 नवंबर काे ही खाेला गया। इतना ही नहीं कंपनियाें के बिड में लगे कागजात भी वेरीफाई करके फाइनेंशियल बिड खाेल दी गई। इस काम पर कम से कम 20 दिन लगते हैं। निगम के अफसराें का कहना है कि बिड खाेलने का क्राइटेरिया फाॅलाे किया गया है।

खबरें और भी हैं...