• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Last Bhog Of The Country's 105 Year Old Athlete Man Kaur Will Be Offered Today At Gurdwara Sahib In Sector 40.

देश की महान बुजुर्ग एथलीट को श्रद्धांजलि दी गई:देश की 105 साल की बुजुर्ग एथलीट मान कौर के अंतिम अरदास में सरकारी अधिकारियों के न पहुंचने पर लोगों ने रोष जताया

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देश की महान बुजुर्ग एथलीट स्व. मान कौर ने 93 साल में दौड़ना शुरु किया था। अंतिम अरदास में पहुंचे लोग। फोटो लखवंत सिंह - Dainik Bhaskar
देश की महान बुजुर्ग एथलीट स्व. मान कौर ने 93 साल में दौड़ना शुरु किया था। अंतिम अरदास में पहुंचे लोग। फोटो लखवंत सिंह
  • मान कौर के अंतिम संस्कार में पंजाब-चंडीगढ़ का कोई अधिकारी सम्मान देने के लिए नहीं पहुंचा था
  • स्व. मान कौर के बेटे ने कहा- उनका परिवार हमेशा खेल को बढ़ावा देने में लगा रहा है

देश व विश्व की सबसे उम्रदराज 105 साल की एथलीट स्व. मान कौर का अंतिम भोग आज चंडीगढ़ में होगा। अपने बेटे गुरदेव सिंह के कहने पर 93 साल की उम्र में दौड़ना शुरू करने वाली मान कौर के अंतिम संस्कार के समय पंजाब-चंडीगढ़ का कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा था। आज फिर अंतिम अरदास में किसी अधिकारी के न पहुंचने पर पारिवारिक व सामाजिक संस्थाओं की ओर से रोष व्यक्त किया गया। इस मौके जब स्व. मान कौर के बेटे गुरदेव सिंह से पूछा गया कि उन्होंने सरकार को किसी तरह की यादगार बनाने के लिए अपील की है तो उन्होंने कहा कि सरकार की मर्जी चाहे वे आए या न आए। उन्होंने कहा कि वे अपने बल पर खेल का प्रमोट करने के लिए प्रयास जारी रखेंगे।

बुजुर्ग एथलीट मान कौर के अंतिम अरदास में शामिल होने के लिए पंजाब व चंडीगढ़ का कोई भी प्रशासनिक अधिकारी नहीं पहुंचे। अंतिम अरदास में खेल प्रमोटर नरेंदर सिंह कंग, सेक्टर-40 एरिया की एमसी गुरबख्श रावत और गोरा कंग सहित मान कौर के परिवार के सदस्य पहुंचे। किसी भी सरकार के नुमाइंदे के न पहुंचने पर नरेंद्रर कंग ने कहा कि देश व विदेश की इतनी बड़ी हस्ती को श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिए सरकार के अधिकारियों के पास समय नहीं है, वे खेल को बढ़ावा देने के लिए क्या काम करेंगे। कंग ने परिवार को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की।

पार्षद गुरबख्श रावत ने मान कौर के साथ बिताए समय को याद करते हुए कहा कि जब भी वे उनसे मिलती थी तो खुशमिजाज और देशभक्ति उनमें कूट-कूट कर भरी हुई थी। उन्होंने कहा कि वे टोक्यो ओलिंपिक में जाने के लिए पूरी तरह से तैयार थी लेकिन वे बिमार हो जाने के बाद जा नहीं सकी।

स्व. मान कौर का अंतिम भोग आज
स्व. मान कौर का अंतिम भोग आज

देश व विदेशों में अपने बल पर 35 से अधिक मेडल जीत कर लाने वाली और देश के राष्ट्रपति के हाथों सम्मानित होने वाली मान कौर ने देश का नाम ऊंचा किया था, लेकिन अब उनके निधन के बाद सरकार भूल गई है। शहर के सेक्टर-40 के गुरुद्वारा साहिब में आज अंतिम अरदास में पारिवारिक सदस्य और सामाजिक संस्थाओं के सदस्य पहुंचें ।

खबरें और भी हैं...