816 आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर भर्ती मामला:फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला, अयोग्य घोषित उम्मीदवारों ने दोबारा डाली याचिका, दूसरे पक्ष ने भी दायर की

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षा सदन में अयोग्य घोषित उम्मीदवार सर्टिफिकेट देने आए थे। - Dainik Bhaskar
शिक्षा सदन में अयोग्य घोषित उम्मीदवार सर्टिफिकेट देने आए थे।

816 आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर्स की भर्ती मामले में चयनित उम्मीदवारों ने सप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ दोबारा से कोर्ट में याचिका डाली है। कोर्ट ने सरकार से जवाब मांग लिया है। चयनित उम्मीदवार बलदेव कुमार ने बताया कि चंद्रभान के नाम से कोर्ट में 14 दिसंबर को दोबारा आईए डाली गई है कि 24 नवंबर 2021 की जजमेंट को रिकॉल किया जाए।

बलदेव कुमार ने बताया कि हमने अपनी याचिका में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय को भी पार्टी बनाया है। विश्वविद्यालय अपने कोर्स की मान्यता के बारे में बताएगा। वहीं आईटीआई डिप्लोमा होल्डर की ओर से याचिकर्ता मनोज राठी ने कहा कि हमने भी सुप्रीम कोर्ट में केविट डाली है, ताकि किसी भी फैसले से पहले उन्हें भी सुना जाए। बतां दे कि सुप्रीम कोर्ट ने 816 आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर की भर्ती मामले में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से दो वर्षीय कोर्स करने वाले चयनित उम्मीदवारों को अयोग्य करार दिया है।

केयू द्वारा जारी इकवलेंसी सर्टिफिकेट देने आए थे उम्मीदवार

816 आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर भर्ती में चयनित अभ्यार्थी गत सप्ताह कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के दो वर्षीय आर्ट एंड क्राफ्ट डिप्लोमा के आईटीआई डिप्लोमा के समान होने का प्रमाण पत्र लेकर पहुंचे। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने 8 दिसंबर 2021 को इस कोर्स को आईटीआई के बराबर माना है। शिक्षा निदेशालय इस पत्र के आधार पर सुप्रीम कोर्ट में मामले की पैरवी करें, ताकि हमारी नियुक्ति में आई बाधा को दूर किया जा सके।

ये है मामला

कांग्रेस सरकार में 2006 में 816 पदों के लिए आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर की भर्ती निकाली थी। इस भर्ती के लिए लिखित परीक्षा और इंटरव्यू मानक बनाए गए थे। परंतु 30 जून 2008 को लिखित परीक्षा रद्द कर दी गई थी। चयन इंटरव्यू के आधार पर हुआ। साथ ही इस भर्ती में कुरुक्षेत्र विश्विवद्यालय से आर्ट एंड क्राफ्ट पत्राचार विभाग का डिप्लोमा मान्य किया गया तो रेगुलर वाले कुछ अभ्यार्थी हाइकोर्ट चले गए। साथ ही भर्ती के नियमों को बदलने की चुनौती दी गई। दोनों मामले सुप्रीम कोर्ट चले गए।। सुप्रीम कोर्ट ने केयू के पत्राचार विभाग से आर्ट एंड क्राफ़्ट डिप्लोमा करने वाले उम्मीदवारों को अयोग्य करार दिया है।

खबरें और भी हैं...