• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Time Taken From The Corridor To The Gurudwara Is One And A Half To 2 Hours; Eye And Finger Scanning Along With Passport Check

इन 12 स्टेप में जानें करतारपुर दर्शन:कॉरिडोर से गुरुद्वारा जाने तक 1 घंटे का समय; पासपोर्ट की जांच के साथ अंगुलियों की स्कैनिंग

चंडीगढ़10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बस में बैठकर दूसरे श्रद्धालुओं के साथ जाते सुनील सिंगला। - Dainik Bhaskar
बस में बैठकर दूसरे श्रद्धालुओं के साथ जाते सुनील सिंगला।

भारत-पाक के बीच बने कॉरिडोर के जरिए पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब तक जाने में कड़ी सुरक्षा बरती जा रही है। भारत के साथ पाकिस्तान तक इन सिक्योरिटी चेक से गुजरने में करीब 1 घंटे का वक्त लग जाता है।

पाकिस्तान में सख्ती भी है कि यहां से गए श्रद्धालु सिर्फ गुरुद्वारे की बाउंड्री के अंदर ही घूम सकते हैं। वहीं, उन्हें शाम 5 बजे से पहले भारत लौटना अनिवार्य है। दैनिक भास्कर ने पंजाब से गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब पहुंचे श्रद्धालु सुनील सिंगला से जाने कि कॉरिडोर से दर्शन तक किस तरह की प्रक्रिया रहती है।

  • सबसे पहले पोलियो ड्रॉप पिलाकर इलेक्ट्रानिक ट्रैवल ऑथोराइजेशन (ETA) फार्म पर उसकी मुहर लगाई गई। टेंपरेचर चेक किया। सिक्योरिटी चेक कर भारत की इमीग्रेशन चेक पोस्ट पर गए। वहां कोविड की RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट, पासपोर्ट, वैक्सीन की दोनों डोज का सर्टिफिकेट चेक किया गया।
  • इसके बाद इमिग्रेशन काउंटर पर ही दोनों हाथों की चारों अंगुलियों के फिर दोनों अंगूठों को स्कैन किया गया और फोटो हुई।
  • इसके बाद कस्टम एरिया में भेजा गया। जहां एक फार्म दिया गया। इसमें बताया कि साथ में क्या लेकर जा रहे। कितनी करंसी है। अकेले हो या साथ में कोई ओर भी है। कस्टम अधिकारी इसकी जांच करते हैं और अपने साइन कर देते हैं।
  • इसके बाद 8 सीटर बग्घी पर बैठाकर ले गए। पाकिस्तान एंटर होने से पहले भारतीय BSF ने पासपोर्ट और वीजा की जांच की। कस्टम डेस्क पर भरा गया पीला फार्म BSF के जवानों ने ले लिया।
  • इसके बाद उन्हें पाकिस्तान के गेट पर उतार दिया। वहां सिर्फ 2 कदम के बाद पाकिस्तान शुरू हो गया। पाकिस्तान सेना ने सबसे पहले पासपोर्ट और वीजा देखा और बॉडी टेंपरेचर चेक किया।
  • इसके बाद 8 सीटर गाड़ी में अपने इमीग्रेशन ऑफिस ले गए। वहां कोरोना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट और कोरोना RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट को देखा गया। फिर फीस काउंटर पर भेज 20 डॉलर जमा करवाए। पासपोर्ट स्कैन किया। नाम और उम्र की वेरिफिकेशन की। फीस की 2 स्लिप खुद रखी और 2 हमें दे दीं।
  • इसके बाद पाक इमीग्रेशन में पासपोर्ट चेक किया। अंगुलियों-अंगूठों की स्कैनिंग करके फोटो हुई। फिर पासपोर्ट स्कैन किया।
  • पाक वीजा काउंटर क्लीयर करने से पहले आई कार्ड दिया। हिदायत दी कि इसे किसी के साथ चेंज नहीं करना है।
  • फिर बस में बैठाकर 4 किलोमीटर ले गए। वहां गुरुद्वारे में प्रवेश से पहले पाक पुलिस अधिकारियों ने इंस्ट्रक्शन दी और इसके बाद गुरुद्वारे में दर्शन के लिए भेज दिया।
  • गुरुद्वारा दर्शन के बाद वापस बस में बैठाकर पाक इमीग्रेशन ऑफिस तक लाए। वहां पर आई-कार्ड वापस और फीस कूपन वापस ले लिया। इसके बाद वापस लौटने तक दस्तावेजों की जांच की वही प्रक्रिया रहती है, जैसे जाते वक्त थी।
  • करतारपुर दर्शन की फीस वाली स्लिप।
पाकिस्तान में एंट्री के लिए स्लिप।
पाकिस्तान में एंट्री के लिए स्लिप।
पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में श्रद्धालु।
पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में श्रद्धालु।