मंत्रियों ने भी खोला सिद्धू के खिलाफ मोर्चा:बाॅस बनने का शाैक है ताे पार्टी बना प्रधानगी कर लें

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के कड़े रुख के बाद अब कैबिनेट मंत्रियों ने भी नवजोत सिंह सिद्धू काे निशाने पर लेना शुरू कर दिया है। कई कैबिनेट मंत्रियों ने दो-टूक कहा है कि कुछ समय पहले पार्टी में आए सिद्धू सीएम की कुर्सी पर बैठने के सपने देख रहे हैं। विधायकाें ने कहा कि सीएम कैप्टन अमरिंदर द्वारा सिद्धू को आइना दिखाना बहुत जरूरी था।

कैबिनेट मंत्री साधू सिंह धर्मसोत ने कहा कि अगर हमारी पार्टी अगी सही नहीं तो सिद्धू किसी दूसरी पार्टी में चले जाएं। अपनी पार्टी बना प्रधान बन जाएं। कैप्टन अमरिंदर बेअदबी के अपराधियों को सजा दिलवाने के लिए काम कर रहे हैं। सिद्धू काे बॉस बनने का अगर इतना ही ज्यादा शौक है तो अपनी पार्टी बनाकर हुक्म चलाएं। कांग्रेस पार्टी में रहते हुए जो बॉस है, उसकी सभी को इज्जत करनी पड़ेगी। वहीं, उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू का बार-बार मुख्यमंत्री के खिलाफ बोलना उनकी पार्टी के प्रति अनुशासनहीनता को दर्शाता है। सिद्धू को अनुशासन में रहते हुए पार्टी की नीतियों का सम्मान करना चाहिए।

नवजोत काे सिर्फ कुर्सी और पद का लालच : सरकारिया

कैबिनेट मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने सिद्धू पर कटाक्ष करते हुए कहा कि पार्टी परिवार की तरह होती है। हम राजनीति में हैं और हमें अपनी पार्टी को परिवार की तरह समझना चाहिए। राजस्व मंत्री सरकारिया ने कहा कि सिद्धू को सिर्फ पद का लालच है। उन्हें पार्टी और मुद्दों से कोई लेना-देना नहीं है।

सीएम कैप्टन अमरिंदर दो दिन से कांग्रेस विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ भड़ास निकाल रहे हैं लेकिन सिद्धू का कोई रिएक्शन नहीं आया। कांग्रेस के साथ अन्य पार्टियों के नेताओं की भी सिद्धू के रिएक्शन पर नजर है। क्या वे अपने स्वभाव अनुसार अपनी पार्टी नेताओं को करारा जवाब देते हैं या मौके की नजाकत देख पहले की तरह सक्रिय राजनीति से किनारा कर बैठ जाते हैं।

खबरें और भी हैं...