• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • There Is No Obstacle In The Way Of Construction Of New Building Of DC Office, Sewer, Storm And Water Line Is Not Coming On The Plot.

फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार:डीसी ऑफिस की नई बिल्डिंग के निर्माण की राह में कोई रोड़ा नहीं, प्लॉट पर सीवर, स्टॉर्म और वॉटर लाइन नहीं आ रही

चंडीगढ़एक महीने पहलेलेखक: राजबीर सिंह राणा
  • कॉपी लिंक

सेक्टर-17 में शिवालिक व्यू होटल के पास के प्लाॅट पर डीसी ऑफिस की सात मंजिल ग्रीन बिल्डिंग बनेगी। बेसमेंट में 600 गाड़ियाें के लिए पार्किंग बनाई जाएगी। बिल्डिंग की छत पर सोलर पैनल लगेंगे। इससे बिल्डिंग की निर्भरता ज्यादातर सोलर बेस रहेगी। ग्राउंड फ्लोर पर एक बड़ा हाल होगा, इसमें सभी विभागों की पब्लिक डीलिंग के काम हो सकेंगे। बिल्डिंग को लेकर प्रशासन के अर्बन प्लानिंग डिपार्टमेंट की ओर से प्रशासक बनवारी लाल पुरोहित को प्रेजेंटेशन दी है। चीफ इंजीनियर को अगली मीटिंग में फिजिबिलिटी रिपोर्ट देने को कहा है।

इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट की ओर से कहा गया कि प्लाॅट की फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार की जा चुकी है। प्लाॅट में सीवर, स्टॉर्म, वाॅटर लाइन के अलावा बिजली की लाइन नहीं निकली है। प्लाॅट के एक हिस्से पर सिटको ने टेंपरेरी पार्किंग बनाई है। फिजिबिलिटी रिपोर्ट देने के बाद अर्बन प्लानिंग डिपार्टमेंट की ओर से नई बिल्डिंग की ड्राइंग दी जाएगी। इसके अधार पर इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट की ओर से एस्टीमेट बनाकर सीनियर स्टैंडिंग कमेटी को अप्रूवल के लिए भेजा जाएगा। बिल्डिंग बनाने के लिए बजट मांगा जाएगा।

पुराना डीसी ऑफिस बनेगा नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट...
मौजूदा डीसी ऑफिस की बिल्डिंग नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट में तब्दील होगी। बिल्डिंग के आगे एक थिएटर भी बनेगा। यह हेरिटेज बिल्डिंग है इसी लिए दो साल पहले नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट कमेटी द्वारा अप्रूवल दी गई है। चीफ आर्किटेक्ट कपिल सेतिया का कहना है कि डीसी ऑफिस की सात मंजिल ग्रीन बिल्डिंग शिवालिक व्यू होटल के साथ लगते प्लाॅट में बनेगी। प्रशासक को प्रेजेंटेशन दी गई है। चीफ इंजीनियर कम स्पेशल सेक्रेटरी सीबी ओझा का कहना है कि डीसी ऑफिस के प्लाॅट की फिजिबिलिटी चेक की जा चुकी है। उसमें कोई वाॅटर, सीवर, स्टॉर्म लाइन आदि नहीं है।

दो साल के भीतर बनानी होगी बिल्डिंग... ​​​​​​​
डिपार्टमेंट टेंडर काॅल करेगा। जिस कंपनी को टेंडर अलॉट होगा, उस कंपनी को बिल्डिंग का काम 2 साल भीतर कंप्लीट करना होगा। डीसी ऑफिस की बिल्डिंग भी सेक्टर-9 में बन रही यूटी सेक्रेटेरिएट की नई बिल्डिंग जितनी ऊंची होगी। वह भी 7 मंजिला बन रही है। एमसी ऑफिस की बिल्डिंग की उंचाई भी उतनी ही है। एमसी ऑफिस में भी ग्राउंड फ्लोर के अलावा छह फ्लोर बने हुए हैं। एमसी बिल्डिंग ग्रीन पैरामीटर पर नहीं बनी है, लेकिन डीसी ऑफिस की बिल्डिंग ग्रीन पैरामीटर पर बनेगी। नई बिल्डिंग बनने पर उसमें डीसी के अधीन आने वाले सभी डिपार्टमेंट शिफ्ट होंगे। इनमें लाइसेंसिंग अथॉरिटी, रजिस्ट्रार को-ऑपरेटिव सोसायटी, एक्साइज एंड टैक्सेशन विभाग, सेंसस विभाग, इलेक्शन विभाग, इस्टेट ऑफिस,रेवेन्यू विभाग, तहसीलदार ऑफिस एवं रजिस्ट्रार, फूड एवं सप्लाई विभाग, लेबर एवं इम्पलाॅयमेंट, मेजरमेंट विभाग, इंडस्ट्रीज, रेहड़ी- फड़ी एवं कॉलोनी रिहैबिलिटेशन विंग, बिल्डिंग ब्रांच और रेडक्रॉस शामिल हैं। डिपार्टमेंट के लिए ग्राउंड फ्लोर पर एक हॉल में स्पेस होंगे।

खबरें और भी हैं...