पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • There Were 108 Days When There Was A Clear Breath, The Rest Of The Day The AQI Remained Above 50 Points.

कोरोनाकाल के 430 दिन:108 दिन ऐसे थे जब साफ सांसें मिली, बाकी दिन एक्यूआई 50 प्वाइंट से ऊपर रहा

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सेक्टर-27/28 ट्रैफिक लाइट पॉइंट पर पहले पेड़ों के चारों तरफ पेवर ब्लॉक लगा दिए थे, लेकिन अब हटा दिए, ताकि पेड़ों को नुकसान न हो और वे सूखे न  
फोटो= भास्कर - Dainik Bhaskar
सेक्टर-27/28 ट्रैफिक लाइट पॉइंट पर पहले पेड़ों के चारों तरफ पेवर ब्लॉक लगा दिए थे, लेकिन अब हटा दिए, ताकि पेड़ों को नुकसान न हो और वे सूखे न फोटो= भास्कर

आज विश्व पर्यावरण दिवस है। हर साल 5 जून को मनाए जाने वाले इस दिवस की थीम ईको सिस्टम रिस्टोरेशन है। यानि जो नुकसान हम पर्यावरण का कर चुके हैं उसको ठीक करना या पहले जैसी स्थिति में लाना। यानि ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना, जो बरसाती पानी के रास्ते हैं उनको साफ रखना।

सबसे जरूरी कि शहर की हवा जो खराब हो रही है, उसको पहले की तरह साफ रखना। चंडीगढ़ के लिए एयर पाॅल्यूशन सबसे बड़ी समस्या बना है क्योंकि लगातार तय मानकों से ऊपर एयर पाॅल्यूशन रहने के चलते देश के 122 वायु प्रदूषित शहरों की लिस्ट में इस ग्रीन सिटी का नाम भी शामिल है।

अब पिछले साल अप्रैल महीने से लेकर अब 4 जून तक के कोरोनाकाल के दौरान कुछ ही दिन ऐसे थे जब चंडीगढ़ में भी लोगों को साफ हवा मिली। साफ हवा यानि ऐसे दिन जब एयर क्वालिटी इंडेक्स 50 प्वाइंट या इससे कम रहा हो। ये एक स्टैंडर्ड पैरामीटर है जो केंद्र सरकार ने एयर क्वालिटी के बारे में जानकारी लेने के लिए तय किया है।

पिछले साल कोरोना के चलते जब लाॅकडाउन हुआ तो अप्रैल महीने में हवा लगभग पूरा महीना साफ रही लेकिन जैसे जैसे पाबंदियों में छूट मिलती गई और एक्टिविटीज फिर से शुरू हुई तो हवा में उसी तरह से असर शुरू हो गया।

एयर क्वालिटी इंडेक्स में सुधार लाना जरूरी

1 अप्रैल 2020 से लेकर 4 जून 2021 तक के कुल 430 दिनों में एयर पाॅल्यूशन को देखें तो चंडीगढ़ में इनमें से सिर्फ 108 दिन ही एेसे थे जब हवा साफ थी यानि इन दिनों में एयर क्वालिटी इंडेक्स 50 प्वाइंट या इससे कम ही रहा। बाकी के दिनों में 50 प्वाइंट से ऊपर ये इंडेक्स रहा।

चंडीगढ़ में ग्रीनरी में पिछले 18 वर्षों में 20% तक बढ़ोतरी हुई

चंडीगढ़ में ग्रीन एरिया में पिछले 18 वर्षों में 20 फीसदी तक बढ़ोतरी हुई है। यानि उन एरिया में प्लांटेशन को लेकर काम हुआ जो पहले खाली थे या वहां पर पेड़ नहीं थे। वर्ष 2001 में चंडीगढ़ का ग्रीन एरिया कुल 26 फीसदी का था जो कि वर्ष 2019 की सर्वे आॅफ इंडिया की रिपोर्ट के हिसाब से 46 फीसदी हो चुका है।

भविष्य में पर्यावरण अच्छा रहे, इसलिए सबको बदलाव में खुद शामिल होना होगा। पेड़ लगाने होंगे, पेड़ों को बचाना होगा। पर्यावरण फ्रेंडली बिहेबियर अपनाकर ही अपने आसपास के वातावरण को साफ रख पाएंगे और खुद भी स्वस्थ रह सकेंगे। देबेंद्र दलाई, डायरेक्टर एन्वायरमेंट चंडीगढ़

खबरें और भी हैं...