पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजनीति:चंडीगढ़ पर पंजाब के दावे को कमजोर करने के लिए किया जा रहा पीयू पर कब्जे का प्रयास

चंडीगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्टूडेंट नेता इकट्ठे हुए और फिर कैंडल मार्च निकाल वीसी ऑफिस की ओर चले।
  • आसान नहीं होगा पीयू की सीनेट काे खत्म करना, लोकतांत्रिक सिस्टम को बचाए रखना जरूरी
  • यूनिवर्सिटी पहुंचे विधायक दलबीर सिंह गोल्डी बोले-

चंडीगढ़ पर पंजाब के दावे को कमजोर करने के तहत ही पंजाब यूनिवर्सिटी की सीनेट को खत्म करके गवर्नेंस बॉडी बनाने की कोशिश की जा रही है। हायर एजुकेशन काउंसिल बनाने और यूजीसी को खत्म करने समेत कई बदलाव किए बिना ही पहले बोर्ड ऑफ गवर्नेंस के लिए लेटर जारी होगा एक सोची-समझी साजिश के तहत है। ये कहना था पंजाब यूनिवर्सिटी में आए पुराने नेता और विधायक दलबीर सिंह गोल्डी का।

धूरी से कांग्रेसी विधायक गोल्डी पीयू कैंपस स्टूडेंट्स काउंसिल (पीयूसीएससी) के प्रेसिडेंट भी रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पीयू पर कब्जा करके भाजपा सरकार इसमें अपना सैफरनाइजेशन का एजेंडा लागू करना चाहती है। वीसी और भाजपा सरकार के खिलाफ पुराने स्टूडेंट नेताओं ने जम कर नारेबाजी की। उनके साथ पीयू के सीनेटर भी पहुंचे हुए थे।

पीयू टीचर्स एसोसिएशन (पुटा) कार्यकारिणी भी इसमें शामिल हुई। वह सीनेट के इलेक्शन कराने की डिमांड कर रहे हैं। स्टूडेंट सेंटर पर शाम लगभग पांच बजे सभी स्टूडेंट नेता इकट्ठे हुए और फिर कैंडल मार्च निकाल वीसी ऑफिस की ओर चले। फतहगढ़ साहिब से विधायक और सीएम के सलाहकार कुलजीत नागरा ने कहा कि वीसी को ये याद रखना चाहिए कि नागपुर के निर्देश उसको भारी पड़ सकते हैं।

ये पंजाब है और यहां पर उनकी चलने नहीं दी जाएगी। सीनेट के इलेक्शन तो होकर रहेंगे। उन्होंने पार्टीबाजी से ऊपर उठ कर सभी स्टूडेंट नेताओं के पहुंचने पर बधाई भी दी 1981 के प्रेसिडेंट राजिंदर सिंह दीपा भी पहुंचे हुए थे । उन्होंने कहा कि इस समय जिस तरह से पार्टीलाइन और प्रोफेशन को भूल कर सभी पुराने स्टूडेंट नेता एकजुट हुए हैं, इस मुद्दे पर इसी तरह साथ रहने की जरूरत है।

इन दिनों हिमाचल प्रदेश में एक्टिव और एनएसयूआई की ओर से जीते पहले प्रेसिडेंट चंदन राणा भी पहुंचे। डॉ मनजीत सिंह ने कहा कि बाकी सभी काम किए बिना ही पहले सीनेट को खत्म करने का प्रयास सैफरनाइजेशन की कोशिश है जिसको रोकना जरूरी है। स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इंडिया(सोई) से पिछले साल के प्रेसिडेंट चेतन चौधरी ने पूरा प्रोग्राम कोऑर्डिनेट किया।

पीयू हमारे इतिहास को समेटे हुए सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी है जिसके साथ पंजाब की भावनाएं जुड़ी हैं। यदि किसके सिस्टम को बदलने के बहाने इस पर कब्जे की कोशिश की जाएगी तो उसे पंजाब की जनता कतई बर्दाश्त नहीं करेगी और एक बड़ा प्रोटेस्ट होगा। {कुलजीत नागरा, पूर्व पीयूसीएससी प्रेसिडेंट व विधायक

प्रदर्शन के जरिए स्टूडेंट्स नेता तो दबाव बना ही रहे हैं, लेकिन पंजाब सरकार को चाहिए कि उनके विधायकों का शिष्टमंडल जाकर एमएचए, उपराष्ट्रपति यानि चांसलर और प्रधानमंत्री से मिले और इस यूनिवर्सिटी के ऐतिहासिक महत्व को बताते हुए इसके मौजूदा सिस्टम को बरकरार रखने के प्रयास करें।

नई पॉलिसी में भी विरासती संस्थानों का सिस्टम बरकरार रखा जा सकता है। {डॉ डीपीएस रंधावा, पूर्व पीयूसीएससी प्रेसीडेंट व सीनेटर

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कुछ महत्वपूर्ण नए संपर्क स्थापित होंगे जो कि बहुत ही लाभदायक रहेंगे। अपने भविष्य संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने का उचित समय है। कोई शुभ कार्य भी संपन्न होगा। इस समय आपको अपनी काबिलियत प्रदर्...

और पढ़ें