पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Transition Has Increased 8 Times Since Mid February, Appeals To Citizens To Adopt All Protocols Of Covid 19.

8 गुना बढ़ी कोरोना की रफ्तार:PGI डायरेक्टर की अपील कहा- कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें, वरना हालात और बिगड़ सकते हैं

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रो. जगत राम ने कहा है कि वैक्सिनेशन करवा चुके लोग भी मास्क का उपयोग करें क्योंकि ऐसा देखा गया है कि वैक्सिनेशन के बाद भी कोरोना लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। - Dainik Bhaskar
प्रो. जगत राम ने कहा है कि वैक्सिनेशन करवा चुके लोग भी मास्क का उपयोग करें क्योंकि ऐसा देखा गया है कि वैक्सिनेशन के बाद भी कोरोना लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है।

कोरोना लगातार चंडीगढ़ में पैर पसार रहा है। लेकिन शहरवासी अभी भी लापरवाह रवैया अपनाए हुए हैं। यही वजह है कि एक बार फिर चंडीगढ़ प्रशासन सख्ती अपना रहा है। पिछले साल की तुलना करें तो कोरोना की दूसरी वेव तेजी से आगे बढ़ रही है। जिसके चलते संक्रमण के मामले मल्टीप्लाई हो रहे हैं। PGI के डायरेक्टर प्रो.जगत राम के मुताबिक कोरोना का UK स्ट्रेन तेजी से फैल रहा है। लेकिन संक्रमण के तेजी से फैलने की बड़ी वजह यही है कि लोगों में इसे लेकर जाे डर या भय था वो अब नहीं रहा। लोग घरों से बाहर आ गए हैं। कोरोना का कोई भी प्रोटोकॉल फॉलो नहीं कर रहे हैं। लोग मास्क पहनना और हाथों को सैनिटाइज करना भूल गए हैं।

साथ ही कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा। पॉलिटिकल गैदरिंग्स और इवेंट्स में लोग बड़ी संख्य में पहुंचने लगे हैं। प्रो. जगत राम ने शहरवासियों से कहा है कि वह अनुशासन में रहकर ही इस महामारी से बच सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अप्रोप्रिएट बिहेवियर को अपनाने और सभी कोरोना के सभी प्रोटोकॉल को अपनाने की अपील की है। लोगों को मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग अपनाने, क्राउडेड जगहों से दूर रहने और वैक्सिनेशन करवाने पर जोर दिया है। उन्होंने ये भी कहा है कि वैक्सिनेशन करवा चुके लोग भी मास्क का उपयोग करें क्योंकि ऐसा देखा गया है कि वैक्सिनेशन के बाद भी कोरोना लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है।

मिड फरवरी से अब तक कई गुणा बढ़ा संक्रमण

प्रो.जगत राम ने कहा कि पिछले साल सितंबर 15 से 17 तक कोरोना की पीक थी। देश में 95 से 97 हजार मामले रोज के आ रहे थे। इसके बाद मामले कम होने शुरू हुए। इस साल मिड फरवरी में रोजाना 15 हजार मामले आ रहे थे लेकिन अचानक मामले रफ्तार से बढ़ने लगे। अब तक मामलों में 8 गुणा की बढ़ौतरी हुई है और अब ये लगातार बढ़ रहे हैं। अप्रैल महीने में 1 लाख 3 हजार से केस 1 लाख 40 हजार तक आ पहुंचे हैं। हो सकता है मिड मई महीने या जून के शुरू तक पीक आए और फिर मामले ढलान की ओर बढ़ें।

यंगस्टर्स पर ज्यादा कर रहा आक्रमण

प्रो. जगत राम ने कहा कि कोरोना का UK स्ट्रेन तेजी से फैल रहा है। हालांकि सभी एजग्रुप के लोग इसके शिकार हो रहे हैं लेकिन युवाओं पर यह ज्यादा आक्रमण कर रहा है। युवा लोग इसके इसलिए ज्यादा शिकार हो रहे हैं क्योंकि वे ज्यादा मोबाइल हो गए हैं। वैक्सिनेशन पर बात करते हुए कहा कि हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के बाद 60 की उम्र से अधिक के लोगों और 45 से अधिक उम्र के कोमॉर्बिटी के पेशेंट्स को वैक्सीन लगी और अब 45 से अधिक के आम लोगों को वैक्सीन लग रही है। छुट्‌टी और गैजेटिड छुट्टी के दिन भी हम वैक्सीन लगा रहे हैं। इसलिए लोगों को जल्द-से-जल्द वैक्सीन लगवानी चाहिए।

OPD बंद लेकिन जरूरी पेशेंट्स को देखा जा रहा

बता दें कि PGI की OPD में रोजाना औसतन 13 से 14 हजार मरीज देखे जाते थे लेकिन अब OPD बंद है। ऐसे में PGI के पास क्या प्रबंध हैं? इसपर प्रो. जगतराम ने कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर OPD सेवाओं को एहतियातन सस्पेंड किया गया है। हालांकि इमरजेंसी खुली है। सीनियर सिटीजंस और अन्य गंभीर पेशेंट,गायनी, ऑब्स्ट्रेटिक्स, कैंसर और सर्जिकल फैसिलिटीज के पेशेंट्स को अपॉइंटमेंट के जरिए देखना जारी रहेगा।

पड़ोसी राज्य भी बनाएं अपनी सेवाएं बेहतर

हमारे कोविड अस्पताल में सिवियर टू क्रिटिकल मरीजों के लिए ही बेड और वेंटीलेटर की कैपेसिटी है। लेकिन बेड होता है तो हम पड़ोसी राज्यों से आने वाले मरीजाें को भी भर्ती कर लेते हैं। लेकिन अगर बेड या वेंटिलेटर न हो तो दिक्कत तो होगी ही। इसलिए मैं पड़ोसी राज्यों से ये आग्रह करूंगा कि अपने यहां भी वह फैसिलिटीज को बेहतर बनाएं।

खबरें और भी हैं...