पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Two Wheelers Drivers And Pedestrians Will Not Be Harassed Of Loot At Night; Work On Installing Fittings At 2200 Dark Spots Will Start Next Week.

चंडीगढ़ में अब नहीं सताएगा लूट खसोट का डर:टू व्हीलर्स चालकों और पैदल चलने वालों को मिलेगी राहत; 2200 डार्क स्पॉट पर फिटिंग लगाने का काम अगले हफ्ते शुरू होगा

चंडीगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टू व्हीलर्स चालकों और पैदल चलने वालों से लूटपाट की घटनाएं अकसर देखने को मिलती हैं। - Dainik Bhaskar
टू व्हीलर्स चालकों और पैदल चलने वालों से लूटपाट की घटनाएं अकसर देखने को मिलती हैं।

शहर की V3,4, 5 और 6 रोड पर बीच-बीच में रात को छाया रहने वाला अंधेरा अब दूर होगा। इससे टू व्हीलर्स चालकों और पैदल चलने वालों को रात को लूट खसोट का भय नहीं सताएगा। डॉर्क स्पॉट पर लेगेरो लाइटिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड अगले वीक से फिटिंग लगाने लगेगी। कंपनी को जेम (गवर्नमेंट ई मार्केटिंग) पर काॅल किए गए 2.5 करोड़ के टेंडर में लोएस्ट वन रहने पर 93 लाख में अलॉट किया गया था।

नगर निगम की ओर से शहर की स्ट्रीट लाइट के डॉर्क स्पॉट का दो साल पहले EESL से शहर की V 6,4, 5 और V 3 रोड की स्ट्रीट लाइट का सर्वे करवाया गया था। इसी के जरिए पता चला था कि स्ट्रीट लाइट के बीच-बीच में पोल लगाने की जरूरत होगी। इनकी संख्या भी 2200 तय हो गई थी। इसके बाद EESL कंपनी ने डॉर्क स्पॉट का अंधेरा दूर करने के लिए चार बार टेंडर भी काॅल किए, लेकिन कोई कंपनी नहीं आई।

कंपनी ने निगम कमिश्नर के साथ हुई मीटिंग में कह दिया था कि उन्होंने चार बार टेंडर काॅल किए लेकिन कोई कंपनी नहीं आई है। अब इस काम को MC ही अपने स्तर पर करवाए। इसके बाद EESL डॉर्क स्पॉट का एजेंडा निगम हाउस में आया। इसमें कहा गया कि EESL के बजाए अब निगम खुद ही डॉर्क स्पॉट का काम करवाएगा। निगम के एसई इलेक्ट्रिकल एवं हॉर्टिकल्चर KP सिंह का कहना है कि स्ट्रीट लाइट के 2200 डॉर्क स्पॉट पर फिटिंग लगाने का काम अगले हफ्ते से शुरू हो जाएगा। पॉइंट पर फिटिंग लगाने का टेंडर 93 लाख में लेगेरो लाइटिंग कंपनी को अलॉट है।

93 लाख रुपए से होगा काम

एजेंडा पास होने के बाद निगम के इलेक्ट्रिकल विंग ने एस्टीमेट बनाकर दिसंबर 2020 के अंत में जेम पर 2.5 करोड़ का टेंडर काॅल किया था। टेंडर की बिड 3 जनवरी को रिसीव की जानी थी। लेकिन कंपनी कम आने की वजह से इसे 11 जनवरी तक बढ़ाया गया। इसके टेंडर में पांच कंपनी (सूर्या रोशनी लिमिटेड, एस्कोर्ट इंडिया, अरुण इलेक्ट्रिकल , एस्को स्विच गियर प्राइवेट लिमिटेड, लिगेरो लाइटिंग प्राइवेट लिमिटेड) आई। टेंडर ईवैल्यूएशन कमेटी द्वारा चेेकिंग के बाद दो कंपनी सूर्या रोशनी लिमिटेड और लेगेरो लाइटिंग प्राइवेट लिमिटेड योग्य मिली। इनकी फाइनेंशियल बिड में लेगेरो लाइटिंग प्राइवेट लिमिटेड लोएस्ट वन 93 लाख रही।

खबरें और भी हैं...