चाइल्ड वैक्सीनेशन के लिए तैयार हरियाणा:15 से 18 साल के किशोरों को कल से लगाई जाएगी वैक्सीन; मंत्री विज बोले- अभी पर्याप्त स्टॉक है

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज वर्चुअल मीटिंग में भाग लेते हुए। - Dainik Bhaskar
स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज वर्चुअल मीटिंग में भाग लेते हुए।

15 से 18 आयु वर्ग के किशाेरों को वैक्सीन लगाने के लिए हरियाणा तैयार है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने रविवार को देश के सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों से कोविड समीक्षा और वैक्सीनेशन कार्य पर वर्चुअल मीटिंग की। इसमें हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने जानकारी दी कि प्रदेश के 15 लाख 40 हजार युवाओं को वैक्सीन 3 जनवरी से लगाई जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली है। प्रदेश में 98 प्रतिशत लोगों को पहली डोज और 70 प्रतिशत को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।

वैक्सीनेशन का आंकड़ा बढ़ा

वर्चुअल मीटिंग में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि प्रदेश में एक जनवरी से सार्वजनिक स्थानों, दफ्तरों, बैंक्वेंट हॉल, रेस्टोरेंट व अन्य स्थानों पर उन लोगों के जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है, जिन्होंने कोरोना की दोनों डोज नहीं लगवाई हैं। इसका अनुकूल प्रभाव पड़ा और वैक्सीनेशन सेंटरों पर कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों की कतारें लग गईं। इसे वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ी। 50 बेड से ज्यादा वाले सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में पीएसए प्लांट लगाना अनिवार्य होगा। अब तक 84 सरकारी अस्पतालों में पीएसए प्लांट लगकर चालू हो चुके हैं। इसी तरह, 54 प्राइवेट अस्पताल भी प्लांट लगा चुके हैं। शेष अस्पतालों में भी जल्द यह प्लांट लगाने का प्रयास किया जा रहा है।

एयरपोर्ट पर हर आने-जाने वाले कड़ी निगरानी रखी जा रही है और उनके कोरोना टेस्ट हो रहे हैं।
एयरपोर्ट पर हर आने-जाने वाले कड़ी निगरानी रखी जा रही है और उनके कोरोना टेस्ट हो रहे हैं।

पर्याप्त दवाएं व वेंटिलेटर

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोरोना महामारी से लड़ने के लिए हमारे पास अभी सारी दवाएं उपलब्ध हैं। इसके अलावा, पर्याप्त संख्या में वेंटिलेटर भी हैं। प्रदेश में केवल एक जिले को छोड़कर अन्य सभी जिलों में आरटीपीसीआर लैब लगा दी गई है। इन लैब को पूरी तरह से चालू कर दिया गया है। प्रदेश में जीनोम सीक्वेंसिंग लैब भी लगाई जा चुकी है, जो 2 दिन पहले ही चालू हुई है। इस लैब में जीनोम सीक्वेंसिंग की टेस्टिंग प्रारंभ कर दी गई है।

10 लाख को-वैक्सीन की जरुरत

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश को वैक्सीनेशन के लिए 10 लाख को-वैक्सीन की और जरुरत है, जो अति आवश्यक चाहिए। प्रदेश में 15.40 लाख बच्चों को वैक्सीन लगनी है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की इस मांग पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि देश में 7 करोड़ युवा बच्चे हैं और इसके लिए 54 करोड़ वैक्सीन डोज की जरुरत है। प्रदेश में 8 लाख से ज्यादा को-वैक्सीन और 31 लाख से ज्यादा कोविशील्ड उपलब्ध है, जो फिलहाल के लिए पर्याप्त है।

खबरें और भी हैं...