कोरोना इफेक्ट / बिना काम घूमने निकले लड़कों को रोकना चाहा तो किया पथराव, फिर पुलिस ने धुने

लड़कों ने पुलिस पर पथराव किया। लड़कों ने पुलिस पर पथराव किया।
X
लड़कों ने पुलिस पर पथराव किया।लड़कों ने पुलिस पर पथराव किया।

  • सेक्टर-52 में बेवजह घूम रहे थे मनचले, पहले लड़कों और फिर घरवालों ने भी की पुलिस को रोकने की कोशिश

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 01:54 PM IST

चंडीगढ़. सेक्टर-52 में कर्फ्यू का उल्लघंन कर घूम रहे दो लड़कों को पकड़ने के लिए गई पुलिस पर पथराव हुआ। घटना के बाद पुलिस ने किसी तरह से दोनों आरोपियों को काबू किया और उनके खिलाफ धारा 188 के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। दोनों आरोपियों की पहचान प्रीतम सिंह और विकास के रूप में हुई है। दोनों भाई हैं।

एक्टिवा सवार को पकड़ा

सेक्टर-61 चौकी में तैनात एएसआई शेर सिंह एरिया में गश्त कर रहे थे। वे कर्फ्यू के चलते बेवजह एरिया में घूमने वाले लोगों को घरों में भेज रहे थे। इसी दौरान जब वे सेक्टर-52 में पहुंचे तो यहां पर दो भाई एक्टिवा से आ रहे थे। पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो दोनों भाई पुलिस कर्मियों को जोर से गाली देते हुए भाग गए। इसके बाद पुलिस ने पाया कि ये दोनों लड़के एक्टिवा पर घूम रहे हैं। पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की। इस पर उन्होंने पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। इसके बाद वह दोबारा भागने की कोशिश करने लगे तो उनकी एक्टिवा स्किड कर गई। इस पर दोनों मौके से भाग गए।

लड़कों पर केस दर्ज

एएसआई ने एसएचओ को मामले के बारे में जानकारी दी। जिस पर पास ही एरिया में पेट्रोलिंग कर रही एक पार्टी मौके पर पहुंच गई। तुरंत लड़कों का लोगों से एड्रेस लिया। जिसके बाद उन्हें काबू कर लिया गया। इसके बाद उनके घरवालों ने भी पुलिस को रोकना चाहा। लेकिन पुलिस आरोपियों को लेकर सेक्टर 61 चौकी गई। जहां पर उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

दुकानदार को सबक सीखाया

सेक्टर-31 थाना पुलिस ने बुधवार को एरिया में बेवजह बाहर निकलने वाले लोगों के साथ सख्ती बरती। सख्ती बरतने का कारण था कि लोग सुधरे और घरों से बाहर न निकलें। इसके चलते एसआई सरिता रॉय अपनी पेट्रोलिंग पार्टी के साथ गश्त कर रही थी। इस बीच उन्हें एक दुकानदार दिखाई दिया जो कि रामदरबार में दुकान खोलकर बैठा हुआ था। एसआई दुकान पर पहुंची और दुकान खोलने की परमिशन मांगी गई। लेकिन दुकानदार कोई परमिशन नहीं दिखा सका। इसके बाद दुकानदार से उठक बैठक करवाई गई। साथ ही उसे अहसास करवाया गया कि वह गलत कर रहा है और उसकी इस गलती से समाज को कितना बड़ा खतरा हो सकता है। पुलिस ने कार्रवाई करने से पहले लोगों को लाउड स्पीकर पर घरों में रहने का संदेश दिया। जब लोग नहीं मानें तो सख्ती बरती गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना