• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Weak CCTV Cameras Of Chandigarh Police Stations, Smart City Cameras Got Damaged Thousands Of Times In The Last Five Years

चंडीगढ़ के थानों में कमज़ोर CCTV कैमरे:पिछले 5 सालों में हजारों बार खराब हो चुके, कुछ तो ठीक ही नहीं हुए आज तक

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

चंडीगढ़ में ट्रैफिक वॉयलेशन और क्राइम रोकने के लिए करोड़ों रुपए के प्रोजेक्ट के तहत स्मार्ट कैमरा लगाए गए हैं। वहीं 'स्मार्ट सिटी' के पुलिस थानों और पुलिस चौकियों में लगे सीसीटीवी कैमरे पिछले 5 सालों में हजारों बार खराब हो चुके हैं। यह कैमरे इसलिए भी अहम हैं, क्योंकि कई बार पुलिस पर गैरकानूनी रूप से हिरासत में लेने, थर्ड डिग्री टार्चर करने, गिरफ्तारी के समय में गड़बड़ी करने, NDPS केस में ड्रग प्लांट करने जैसे आरोप लगते रहते हैं।

इसके अलावा पुलिस की कई गतिविधियों को भी नोट करने के लिए यह कैमरे काफी अहम होते हैं। जिन खराबियों के चलते CCTV कैमरों की शिकायतें आई, उनमें कैमरों का काम न करना, रिकॉर्डिंग न कर पाना, फुटेज स्टोर न होना और कैमरों की बदल आदि शामिल है। बता दें कि हाल ही में सेक्टर 19 थाने में साइंस के दो नाबालिग स्टूडेंट्स से पुलिस द्वारा मारपीट का मामला सामने आया था। मोबाइल चोरी की शिकायत दर्ज करवाना इन्हें महंगा पड़ा था।

इतनी बार खराब हुए थानों और चौकियों के कैमरे

आरटीआई से प्राप्त एक जानकारी के मुताबिक, चंडीगढ़ के 16 पुलिस थानों और 11 पुलिस चौकियों में लगे 157 कैमरों में पिछले 5 साल में 13,699 बार खराबी आ चुकी है। थानों में लगे सीसीटीवी कैमरों में खराबी को लेकर 6,379 शिकायतें मिली। इनमें कुल 157 कैमरों में से 103 कैमरे लगे हुए हैं। कई तरह की खराबियों को लेकर 7,320 शिकायतें शहर के 11 पुलिस थानों से आ चुकी हैं।

इनमें 54 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। यह कैमरे आमतौर पर हर थाने के प्रभारी (SHO) और पुलिस चौकी इंचार्ज के ऑफिस में लगे हुए हैं। इसके अलावा हर थाने और चौकी की एंट्री, थानों के कई कमरों के बाहर गैलरी पर यह कैमरे लगे हुए हैं। वहीं मोहर्रर हैड कांस्टेबल (MHC) के कमरे में भी यह कैमरे लगे हुए हैं। वह थाने और स्टोर (मालखाना) का रिकॉर्ड देखता है। लॉकअप के बाहर भी कैमरे लगाए गए हैं।

इन खराब CCTV कैमरों की शिकायतें चंडीगढ़ पुलिस के कम्यूनिकेशन विंग को जनवरी 2017 से मई 2022 के बीच प्राप्त हुई। कम्यूनिकेशन विंग इन कैमरों की देखरेख वर्ष 2014 से करता आ रहा है। वर्ष 2014 से पहले चंडीगढ़ पुलिस इन CCTV कैमरों की देखरेख के लिए कैमरे लगाने वाली कंपनियों के साथ कॉन्ट्रैक्ट करती थी। बाद में यूटी पुलिस के कम्यूनिकेशन विंग को ही इन कैमरों की देखरेख का काम सौंप दिया गया।

इन थानों में ज्यादा कैमरे

सेक्टर 34 थाने में 12 CCTV कैमरे लगे हैं। सेक्टर 17 और मलोया थाने में 10-10 कैमरे, सेक्टर 26 थाने और मौलीजागरां थाने में 8-8 कैमरे, सेक्टर 19, सेक्टर 11, सेक्टर 3, मनीमाजरा, सेक्टर 36, सेक्टर 39 और सेक्टर 31 थाने में 6-6 कैमरे, सेक्टर 49 पुलिस थाने, आईटी पार्क थाने, वूमेन सेल पुलिस थाने, सेक्टर 17 थाने में 4-4 कैमरे हैं। इसके अलावा सुखना लेक पुलिस पोस्ट में 8 कैमरे हैं। वहीं दरिया और सेक्टर 61 पुलिस चौकी में 3-3 कैमरे लगे हैं।