पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Why The Widow Of 1971 War Hero Not Getting Relief Amount; High Court Responds To Punjab Government And Defence Services Welfare Department.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जगी न्याय की आस:1971 की जंग के हीरो की वीरांगना को नहीं मिल रही राहत राशि; हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार और डिफेंस सर्विसेज वेलफेयर डिपार्टमेंट से की जवाबतलबी

चंडीगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट,चंडीगढ़। - Dainik Bhaskar
पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट,चंडीगढ़।

साल 1971 में हुई भारत-पाक जंग में पूरी तरह अपाहिज हुए शहीद की विधवा को राहत राशि नहीं मिली है। शहीद की 80 वर्षीय विधवा ने अब राहत राशि लेने के लिए पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। गुरुवार को याचिका पर हुई पहली सुनवाई के बाद जस्टिस रेखा मित्तल ने पंजाब सरकार और डिफेंस सर्विसेज वेलफेयर डिपार्टमेंट के निदेशक को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। अब अगली सुनवाई 1 मार्च को होगी।

यह मामला पंजाब के मलेरकोटला के गांव फतेहगढ़ पंज का है। अपनी याचिका में 80 वर्षीय स्वर्ण कौर ने कहा है कि उनके पति मुकुंद सिंह भारतीय सेना में नायब सूबेदार के पद पर थे। साल 1971 में हुई भारत-पाक की जंग के दौरान एक माइन ब्लास्ट में वे पूरी तरह से अपाहिज हो गए थे। उनका फरवरी 2002 में निधन हो गया।

पंजाब सरकार के पंजाब पैकेज डील प्रॉपर्टीज (डिस्पोजल) रूल्स 1976 के मुताबिक उन्होंने 10 एकड़ जमीन दिए जाने की मांग की। इसके बाद पंजाब सरकार की ओर से खेती योग्य जमीन अलॉटमेंट में असमर्थता जताने पर तीन किस्तों में 50 लाख रुपए दिए जाने का आश्वासन दिया गया। याचिका में कहा गया कि वर्ष 2017-18 में डिफेंस सर्विसेज वेलफेयर डिपार्टमेंट ने जंग में पूरी तरह से अपाहिज हुए सैनिकों के 7 परिवारों को राहत राशि जारी की लेकिन उन्हें कोई मदद नहीं दी गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser