पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Youth Of 25 To 35 Years Of Age Among Corona Infected In Chandigarh, Central Team Said Testing, Need To Improve Contact Tracing, Suggestions For Improvement

आरटीआई में खुलासा:चंडीगढ़ में कोरोना संक्रमितों में 25 से 35 साल के युवा ज्यादा, सेंट्रल टीम ने कहा-टेस्टिंग, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में सुधार की जरूरत, सुधार के लिए सुझाव भी दिए

चंडीगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो

(मनोज अपरेजा) नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने एक आरटीआई का जवाब देते हुए कहा है कि चंडीगढ़ में पॉजिटिव केसेज में 25 से 35 साल के युवा ज्यादा पॉजिटिव पाए गए। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि यह लोग घरों में नहीं रुके और ज्यादातर बाहर घूमते रहे। जिसकी वजह से इस एज ग्रुप में कोरोना के मामले ज्यादा सामने आए।

चंडीगढ़ में कोरोना फैलने पर सेकंड ईनिंग एसोसिएशन के प्रेसिडेंट आरके गर्ग ने आरटीआई में टीम द्वारा उठाए गए सवाल और सुझावों की जानकारी मांगी थी, जिसके जवाब में उन्होंने प्रशासन की ओर से क्या-क्या गलतियां की गई और उनके टीम ने उनमें सुधार लाने के क्या सुधार दिए यह बताया गया है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने कहा कि उन्होंने 1 जनवरी से लेकर 30 सितंबर तक कोविड-19 से संबंधित काम और खरीद पर 33 .03 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

टीम ने बताई खामियां और दिए उनके सुझाव

खामियां: कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के बारे में टीम ने कहा कि एमसी और हेल्थ डिपार्टमेंट दोनों ही एक ही काम में लगे रहे, जिसका कोई नतीजा नहीं निकला। एसडीएम ऑफिस के अफसरों ने भी लगभग ऐसा ही काम किया। टीम ने यह भी कहा कि अलग-अलग डिपार्टमेंट से कर्मचारी आते हैं और वही सवाल बार-बार पूछते हैं, जिससे लोगों में नाराजगी पाई गई।

सुझाव: इस पर टीम ने अपने सुझाव में कहा कि हेल्थ डिपार्टमेंट और एमसी को मिलकर इंटिग्रेटेड टीम बनानी चाहिए थी, ताकि दोहरे काम में समय बर्बाद न हो। खामियां: जीएमसीएच-32 में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की क्षमता 150 सैंपल प्रतिदिन पाई गई। जीएमसीएच-32 साउथ जोन को देखता है, जहां पर अधिकतर केसेज पॉजिटिव आ रहे थे। इसलिए यहां पर देरी से और जरूरत से कम टेस्टिंग हुई। टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पीजीआई की इमरजेंसी में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की सुविधा न होने की वजह से पॉजिटिव और नेगेटिव केसों की इंटर मिक्सिंग हुई।

सुझाव : टीम ने जीएमसीएच-32 को टेस्टिंग बढ़ाने का सुझाव दिया और फील्ड टीम को भी रैपिड एंटीजन टेस्ट कंटेनमेंट जोन करने की सलाह दी। पीजीआई की इमरजेंसी में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग करने की सलाह भी दी। सभी मरीजों को उनके कोविड-19 टेस्ट की रिपोर्ट चाहे वह नेगेटिव है या पॉजिटिव एसएमएस द्वारा भेजने की सलाह दी। चाहे वह नेगेटिव ही हो। जीएमएसएच-16 एसएमएस द्वारा इस तरह की रिपोर्ट देने की बात भी कही गई। ऐसा ही पीजीआई और जीएमसीएच-32 को भी करने को कहा।

खामियां: कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के बारे में टीम ने कहा कि एमसी और हेल्थ डिपार्टमेंट दोनों ही एक ही काम में लगे रहे, जिसका कोई नतीजा नहीं निकला। एसडीएम ऑफिस के अफसरों ने भी लगभग ऐसा ही काम किया। टीम ने यह भी कहा कि अलग-अलग डिपार्टमेंट से कर्मचारी आते हैं और वही सवाल बार-बार पूछते हैं, जिससे लोगों में नाराजगी पाई गई।

सुझाव: इस पर टीम ने अपने सुझाव में कहा कि हेल्थ डिपार्टमेंट और एमसी को मिलकर इंटिग्रेटेड टीम बनानी चाहिए थी, ताकि दोहरे काम में समय बर्बाद न हो। खामियां: जीएमसीएच-32 में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की क्षमता 150 सैंपल प्रतिदिन पाई गई। जीएमसीएच-32 साउथ जोन को देखता है, जहां पर अधिकतर केसेज पॉजिटिव आ रहे थे। इसलिए यहां पर देरी से और जरूरत से कम टेस्टिंग हुई। टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पीजीआई की इमरजेंसी में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की सुविधा न होने की वजह से पॉजिटिव और नेगेटिव केसों की इंटर मिक्सिंग हुई।

सुझाव : टीम ने जीएमसीएच-32 को टेस्टिंग बढ़ाने का सुझाव दिया और फील्ड टीम को भी रैपिड एंटीजन टेस्ट कंटेनमेंट जोन करने की सलाह दी। पीजीआई की इमरजेंसी में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग करने की सलाह भी दी।

सभी मरीजों को उनके कोविड-19 टेस्ट की रिपोर्ट चाहे वह नेगेटिव है या पॉजिटिव एसएमएस द्वारा भेजने की सलाह दी। चाहे वह नेगेटिव ही हो। जीएमएसएच-16 एसएमएस द्वारा इस तरह की रिपोर्ट देने की बात भी कही गई। ऐसा ही पीजीआई और जीएमसीएच-32 को भी करने को कहा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें